वन्य जीवों के संरक्षण के लिए क्या किया जाना चाहिए?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं।

By: Gyan Chand Patni

Published: 30 Jul 2021, 05:29 PM IST

सबसे खतरनाक है इंसान
यदि वन्य जीव इतिहास लिख सकते तो क्या लिखते? शायद यह कि इस पृथ्वी पर सबसे खतरनाक प्रजाति यदि है तो वह मनुष्य ही है। पृथ्वी को सबसे अधिक बर्बाद करने में इसी का योगदान है। वन्य क्षेत्र में मानव की गतिविधियां, आवासीय बस्तियां, अवैध खनन के अलावा शिकार भी हो रहा है। हमें इनकी भूमि इन्हें पुन: लौटानी चाहिए। वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 को प्रभावशाली तरीके से क्रियान्वित किया जाना चाहिए। सरकार को चाहिए कि वह सड़कों पर पक्षियों की खरीद-फरोख्त पर रोक लगाए। जो लोग इन्हें पिंजरे में डालकर मोटी रकम कमाते हैं उन्हें भी एक बार ऐसे ही पिंजरे में डालकर महसूस कराना चाहिए कि कैद क्या होती है? विभिन्न कानूनों का उल्लंघन होने पर कठोर दंडात्मक कार्रवाई तथा भारी जुर्माने का प्रावधान भी होना चाहिए।
-एकता शर्मा, गरियाबंद, छत्तीसगढ़
..............................

बचाने होंगे जंगल
बढ़ती आबादी की जरूरतों को पूरा करने के लिए दुनिया भर में वनों की कटाई हो रही है। वन्य जीवों को संरक्षित करने से पहले जंगलों को सुरक्षित करना होगा। साथ ही बिगड़ते पारिस्थितिकी तंत्र को ध्यान में रखते हुए वन्यजीवों के संरक्षण को लेकर सजग होने का समय है, ताकि वे विलुप्त होने से बच सकें। जंगल में पेड़ों की कटाई तुरंत बंद होनी चाहिए, क्योंकि वनों की कमी जंगली जानवरों और पक्षियों के प्राकृतिक आवास को नष्ट कर देती है। प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने के लिए वन बहुत आवश्यक हैं।
- दिव्यांश अमित शर्मा, श्रीमाधोपुर, सीकर
.........................................

वन हैं, तो जीवन है
आबादी के दबाव में कंक्रीट के जंगल बढ़ते जा रहे है, वन संपदा घटती जा रही है। ऐसे में वन्य जीवों का जीना मुश्किल हो रहा है। भोजन पानी की तलाश में वन्य जीवों का आबादी में घुस आना स्वाभाविक है। वन्य जीवों की सुरक्षा के लिए अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाए जाएं। वनों में भोजन-पानी की सुनिश्चित व्यवस्था हो। आबादी से लगती वनों की सीमा पर मजबूत दीवार व तारबंदी हो। वन विभाग कर्मचारी निष्ठा से वन में वन्य जीवों की देखरेख करें। साथ ही समाज के लोगों को भी वन संपदा, वन्य जीवों को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए। हमें समझना चाहिए कि वन हैं, तो जीवन है ।
-पूरण सिंह राजावत, जयपुर
.................................

इनके महत्व को समझना होगा
वन्य जीव हमारे पर्यावरण के महत्त्वपूर्ण अंग हैं। मानव अपने थोड़े स्वार्थ के लिए इस धरोहर को निशाना बना रहा है और नुकसान पहुंचा रहा है। इनका संरक्षण अति आवश्यक हैं। इसके लिए जन जागरूकता पैदा करने के साथ सख्त कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए। साथ ही जवाबदेही तय करनी चाहिए।
-गजेन्द्र सिंह राठौर, मंदसौर
.................................

जागरूकता अभियान चलाया जाए
वन्य जीवों के संरक्षण के लिए लोगों को भी जागरूक किया जाना चाहिए और वन्य जीवों के संरक्षण के लिए अभियान चलाया जाना चाहिए। वन्य जीवों के संरक्षण के लिए समय-समय पर प्रतियोगिताएं आयोजित करनी चाहिए। लोगों को प्रदर्शनी के माध्यम से जानकारी देकर उन्हें जागरूक किया जाना चाहिए।
-आलोक वालिम्बे, बिलासपुर, छत्तीसगढ़
.............................

कानून की पालना करवाई जाए
पारिस्थितिकी तंत्र एवं जैव विविधता के संरक्षण में वन्य जीवों की मुख्य भूमिका है। इनके संरक्षण के लिए वन्य जीव संरक्षण अधिनियम भी बनाया गया है। इसे सख्ती से लागू किया जाना चाहिए। तस्करों की सूचना देने वालों और वन्यजीवों के संरक्षण में उल्लेखनीय योगदान देने वाले व्यक्तियों को प्रतिवर्ष सम्मानित किया जाए। तहसील एवं ग्रामीण स्तर पर वन्य जीव सुरक्षा समितियों का गठन किया जाना चाहिए। समर्पित एवं निष्ठावान पर्यावरणविदों को वन्यजीवों के संरक्षण कार्यक्रमों से जोड़ा जाना चाहिए।
-सतीश उपाध्याय, मनेंद्रगढ़ कोरिया, छत्तीसगढ़
......................

योजना का क्रियान्वयन भी हो
वन्यजीवों के संरक्षण के लिए केंद्र और राज्य सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं की शुरुआत तो कर दी गई है, लेकिन उनका सही तरीके से क्रियान्वयन नहीं किया जा रहा। राजस्थान सरकार ने जिलेवार शुभंकर घोषित कर विलुप्त हो रही प्रजातियों बचाने की योजना बनाई है, परन्तु धरातल पर यह योजना नजर नहीं आती।
-रेवत सिंह राजपुरोहित, सांचौर (राजस्थान)
................................

रोकनी होगी इंसानों की आवाजाही
पारिस्थितिकी तंत्र को और अधिक मजबूत बनाने के लिए जरूरी है वन्य जीवों का संरक्षण। सरकार को वन क्षेत्र के केंद्रीय बिंदु यानी जहां पर जीवों की अधिकतम पहुंच होती है, वहां पर लोगों की आवाजाही को रोकना चाहिए।
-अजय सिंह सिरसला,चुरू
..............................

नहीं काटे जाएं वृक्ष
वन्यजीवों की रक्षा के लिए हमें हर कदम पर सरकार का साथ देना होगा, ताकि हम इन सभी को एक बेहतर वातावरण दे सकें। हमें जंगल में पेड़ों को काटना बंद करना होगा। विलुप्त होने वाले जानवरों व पक्षियों की प्रजातियों के संरक्षण के लिए विशेष ध्यान देना चाहिए।
-नरेश सुथार, बीकानेर
...............................

सामूहिक प्रयास जरूरी
वन्य जीवओं की अनेक प्रजातियों में बड़ी तेजी से गिरावट आने लगी है। कुछ प्रजातियों का अस्तित्व ही समाप्त हो गया है। ऐसा न हो कि हम वन्य प्राणियों को देखने को ही तरस जाएं। इसलिए वन्य जीवों के संरक्षण के लिए हम सभी को सामूहिक प्रयास करना होगा
-साजिद अली, इंदौर
.............................


What should be done to protect wildlife?
पेड़ों की कटाई रोकी जाए
वन्यजीवों की लगातार घटती संख्या चिंता का विषय है। सबसे पहले जंगलों में पेड़ों की कटाई रोकी जानी चाहिए, क्योंकि बिना जंगलों के वन्य जीवन की सुरक्षा कैसे की जा सकता है। जंगलों में लोगों की आवाजाही भी कम होनी चाहिए। वन्य जीवों के अंगों और खालों की बड़ी मात्रा में जो तस्करी हो रही है, उसे रोकने के लिए कठोर कदम उठाने चाहिए।
-प्रतिभा गुलगुलिया, सूरत, गुजरात
...........................

जीवों के प्रति दया भाव जरूरी
वन्य जीवों की हत्या पर प्रतिबंध है। फिर भी वन्य जीवों का शिकार हो रहा है। तस्कर वन्य जीवों के अंगों की तस्करी करते हैं। इन पर खास निगरानी के लिए और अधिक ध्यान देना चाहिए। वन्य जीव जन्तु प्रकृति का उपहार एवं पर्यावरण का अंग हैं। उद्यानों एवं अभयारण्यों को और अधिक विकसित करने के साथ-साथ उनके प्रति दया भाव रखना चाहिए। साथ ही उनके आश्रय स्थलों पर भोजन-पानी की व्यवस्था पर ध्यान दिया जाना चाहिए।
-तेजनारायण श्रीवास्तव, गंजबासौदा, मप्र
..................................

वृक्षों की कटाई पर रोक लगे
जल, जंगल और जमीन के संरक्षण के लिए जमीनी योजना बनाई जाए। वृक्षों की अवैध कटाई के कारण घने जंगल साफ होते जा रहे हैं। वृक्षारोपण और पौधरोपण की सरकारी योजनाएं मात्र औपचारिकताएं रहने लगी हैं। वन्य प्राणियों और जीवों के संरक्षण के लिए घने जंगल की आवश्यकता होती है। घने जंगल वृक्षारोपण और पौधरोपण से ही संभव है।
-दीपा देवेंद्र नेनावा, इंदौर
...........................

शिकारियों पर अंकुश जरूरी
वन्य जीवों के संरक्षण के लिए सबसे पहले वनों की कटाई रोकनी चाहिए। वन्य जीव संरक्षण के लिए टीम बनानी चाहिए। शिकारियों पर अंकुश लगना चाहिए। हमें जानवरों के शरीर से बनी चीजों का बहिष्कार करना चाहिए, जिससे जानवरों का शिकार बंद हो सके।
-सौम्या, जावद, नीमच

Gyan Chand Patni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned