आपकी बात, सबसे पहले कोरोना वैक्सीन किसे लगाई जाए?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रिया आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं।

By: Gyan Chand Patni

Published: 22 Nov 2020, 06:40 PM IST

चिकित्सा कर्मियों का पहला हक
कोरोना संक्रमण के चलते सभी को खतरा पैदा हो गया है। कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। कोरोना वैक्सीन की खुराक भारतीय मांग के अनुसार एक साथ उपलब्ध नहीं हो सकेगी। अत: हमें चरणबद्ध तरीके से कोरोना वैक्सीन उपलब्ध करवानी होगी। सबसे पहले यह वैक्सीन कोरोना वॉरियर्स को दी जानी चाहिए, क्योंकि वे अपनी जान की परवाह किए बिना इस महामारी से लोगो का जीवन बचा रहे हंै। इसके अंतर्गत पहले चरण में मेडिकल स्टाफ जैसे डॉक्टर,कंपाउंडर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, हेल्थ वर्कर्स आदि को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध करवानी होगी। दूसरे चरण में पुलिसकर्मी, नगर निगम कर्मचारी, सभी सरकारी व गैर-सरकारी कर्मचारी जो कोरोना महामारी को रोकने के लिए कार्य कर रहे हैं, को यह टीका लगाना चाहिए। तीसरे चरण में 65 साल से ऊपर के लोगों, अखबार बेचने वालों, सब्जी व फल विक्रेताओं, किराने की दुकान वालों वालों और दूध बेचने वालों को कोरोना वैक्सीन दी जानी चाहिए, ताकि कोरोना का संक्रमण फैलने से रुक सके।
-कल्पना अरोड़ा, जोधपुर
......................

बैंक कर्मियों को भी मिले प्राथमिकता्र
वैसे कोरोना की वैक्सीन देश के प्रत्येक नागरिक को मिलेगी, लेकिन इसमें थोड़ा समय लगेगा। स्वास्थ्य कर्मियों को निश्चित ही सबसे पहले ही यह वैक्सीन मिलनी चाहिए। सरकार भी यही चाहती है। इसके बाद बैंक कर्मियों को यह वैक्सीन मिलनी चाहिए। बैंक कर्मी भी बड़ी संख्या में कोरोना से संक्रमित हुए हैं। इसीलिए बैंक व इसकी तरह अन्य भीड़ वाले कार्यालयों के कर्मचारियों को भी प्राथमिकता के तौर पर वैक्सीन लगाई जानी चाहिए।
-नटेश्वर कमलेश, छिन्दवाड़ा, मध्यप्रदेश
..............................

गंभीर मरीजों को मिले प्राथमिकता
इन दिनों कोरोना वैक्सीन शीघ्र ही उलब्ध होने की चर्चा है। कोरोना वैक्सीन जब भी आएगी, एक साथ तो सभी के नहीं लगेगी। प्राथमिकता तो तय करनी ही पड़ेगी। गंभीर बीमारियों से पीडि़त लोगों को ही सबसे पहले कोरोना वैक्सीन दी जाए। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि जो लोग पहले से ही बीमारियों से जूझ रहे हैं, उनको कोरोना का खतरा ज्यादा है। डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, कैंसर, श्वास संबंधी बीमारी से पीडि़त मरीजों को ही सबसे पहले वैक्सीन दी जाए, ताकि वे तो बचे ही, दूसरे लोगों तक भी इंफेक्शन न फैल पाए।
-बिट्टू बिंदल, जयपुर
...................

स्वास्थ्य कर्मियों को पहले लगे टीका
कोरोना की वैक्सीन सबसे पहले फं्रट लाइन कोरोना वॉरियर्स को लगाई जानी चाहिए। यानी सबसे पहले डॉक्टर और दूसरे चिकित्सा कर्मियों यह वैक्सीन लगनी चाहिए, क्योंकि वे कोरोना रोगियों के संपर्क में ज्यादा रहते हैं। इसलिए उनको ज्यादा खतरा है। डॉक्टर और चिकित्साकर्मी स्वस्थ रहेंगे, तो ही वे कोरोना मरीजों का उपचार कर पाएंगे।
-विकास माथुर, अलवर
.................

मीडिया कर्मियों को भी प्राथमिकता मिले
निश्चित रूप से कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टाफ और अस्पताल से जुड़े दूसरे कर्मचारियों को तो प्राथमिकता से कोरोना वैक्सीन मिलनी ही चाहिए। साथ ही मीडिया से जुड़े लोगों को दूसरे चरण में वैक्सीन दी जानी चाहिए, क्योंकि इस कोरोनाकाल में भी पत्रकार और मीडिया से जुड़े दूसरे कर्मचारी जनता तक सही जानकारी पहुंचाने के लिए दिन-रात जुटे हुए हैं। वर्तमान में लोगों तक सही सूचना पहुंचाना बहुत जरूरी हो गया है, ताकि कोई अफवाह न फैले। मीडिया के महत्त्व को देखते हुए मीडिया कर्मियों का स्वस्थ रहना भी जरूरी है।
-बृजेश जोशी, भोपाल, मप्र
..................

पुलिसकर्मियों का भी ध्यान रहे
वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते समूचे विश्व में कोहराम मचा हुआ है। लोगों में भय बैठा हुआ है। विश्व के सभी देश वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अस्पताल में काम करने वाला स्टाफ कोरोना मरीजों संपर्क में रहता है। ऐसे में उनके लिए बीमारी से बचना सबसे ज्यादा जरूरी है। इस हिसाब से हेल्थ केयर वर्कर्स को, सुरक्षा कर्मियों, पुलिस, स्थानीय निकाय के कर्मचारियों, एंबूलेंस कर्मियों आदि को प्राथमिकता से वैक्सीन लगाई जाए।
-विद्याशंकर पाठक सरोदा डूंगरपुर।
.................

चिकित्सक प्राथमिकता के हकदार
सर्वप्रथम कोरोना वैक्सीन चिकित्सकों को लगाई जानी चाहिए, क्योंकि जिस तरह के खतरे हमारी मानव जाति पर मंडरा रहे हैं, उनसे हम परमाणु हथियारों से विजय प्राप्त नहीं कर सकते। उसके लिए हमें चिकित्सकों व अच्छी स्वास्थ्य व्यवस्था की आवश्यकता है।
-सुनाक्षी, सीकर
....................

चिकित्सकों और पुलिसकर्मियों को प्राथमिकता
मरीजों की जान बचाने के लिए अपनी जान की परवाह न करने वाले डॉक्टर, नर्स,कम्पाउंडर व मेडिकल विभाग के कर्मचारियों को सबसे पहले वेक्सीन लगानी चाहिए। उसके बाद पुलिस विभाग के कर्मचारियों को वैक्सीन लगनी चाहिए।
-मुकेश जैन चेलावत, चिड़ावा
.....................

वृद्धों को मिले प्राथमिकता
वैक्सीन लगाने में जल्दबाजी नही करनी चाहिए। सबसे निरापद वैक्सीन ही लगाई जानी चाहिए। ध्यान रहे यदि वैक्सनी लगाने से किसी की तबीयत बिगड़ी तो लोग इसे लगवाने से बचेंगे। गंभीर बीमार लोगों और बुजुर्ग लोगों को सबसे पहले वैक्सीन दी जानी चाहिए, ताकि उनको संक्रमण न हो।
-आयुष चौधरी, सीकर
........................

आम आदमी की पहुंच से दूर ही रहेगा वैक्सीन
कोरोना की दूसरी लहर शुरू हो चुकी है। देश में कई स्थानों पर रात का कफ्र्यू लगा दिया गया है। इससे साफ है कि हालात भयावह हैं। जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती मास्क ही वैक्सीन है। जब वैक्सीन आएगी, तब भी आम आदमी को आसानी से उपलब्ध होने वाली नहीं है, क्योंकि चिकित्सकों और फील्ड में काम करने वाले सरकारी कर्मचारियों को सबसे पहले यह उपलब्ध होगी। इसलिए आम आदमी को तो अभी बहुत इंतजार करना पड़ेगा।
-दिनेश अग्रवाल, जयपुर

Gyan Chand Patni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned