scriptWhy Ganga river so polluted despite sense of affection for humanity | मानवता के प्रति स्नेह भाव से पूरित गंगा क्यों इतनी प्रदूषित | Patrika News

मानवता के प्रति स्नेह भाव से पूरित गंगा क्यों इतनी प्रदूषित

9 जून 2022: गंगा दशहरा
गंगा ही क्यों, हर नदी संपूर्ण मानवता के प्रति स्नेह भाव से पूरित है। यही कारण है कि भारतीय परंपराओं में नदियों को मां का दर्जा दिया गया है। लेकिन गंगा नदी भी मानव के स्वार्थी स्वभाव की शिकार हुई है। अनेक स्थानों पर गंगा इतनी प्रदूषित हो गई है कि उसका जल सामान्य उपयोग के लायक भी नहीं रहा। यह पीड़ा भारत की अधिकांश नदियों की है।

Published: June 09, 2022 10:08:42 pm

अतुल कनक
साहित्यकार और लेखक

कहते हैं कि राजा सगर के अश्वमेध के घोड़े को देवताओं ने चतुराई से पाताल स्थित कपिल मुनि के आश्रम में बांध दिया। सगर के साठ हजार पुत्र जब उस यज्ञ के अश्व को तलाशते हुए मुनि के आश्रम में पहुंचे तो उन्हें घोड़ा वहां बंधा हुआ दिखाई दिया। सगर के पराक्रमी पुत्रों ने सोचा कि अश्वमेध के घोड़े को स्वयं मुनि ने चुराया है और अब वो ध्यानस्थ होने का पाखंड कर रहे हैं। उन्होंने मुनि को बहुत भला-बुरा कहा। पहले तो कपिल मुनि ने उनकी उद्दंडता को अनदेखा किया लेकिन जब सगर के बेटों का आक्रोश सब मर्यादा लांघने लगा तो मुनि को भी क्रोध आ गया और उनकी कोपदृष्टि ने सगर के सभी बेटों को भस्म कर दिया। उनकी मुक्ति का उपाय यह बताया गया कि जब स्वर्ग में बहने वाली पवित्र नदी गंगा उनकी भस्म को स्पर्श करेगी तो उन्हें मुक्ति मिल जाएगी। आदित्य पुराण के अनुसार बैसाख शुक्ल तृतीय को गंगा स्वर्ग से हिमालय पर और ज्येष्ठ कृष्ण दशमी को हिमालय से पृथ्वी पर उतरी। इसीलिए हर वर्ष ज्येष्ठ कृष्ण दशमी को गंगा दशहरा पर्व मनाया जाता है।
9 जून 2022: गंगा दशहरा
9 जून 2022: गंगा दशहरा
दुनिया के लिए गंगा एक नदी है पर भारतीय परंपराओं में गंगा को देवी माना गया है। दुनिया में शायद ही किसी नदी को इतना सम्मान प्राप्त हो कि उसके दर्शन मात्र को किसी तीर्थयात्रा के पुण्य के बराबर माना जाए। वाल्मीकि रामायण में वर्णन है कि जब वनवास के दौरान राम, सीता और लक्ष्मण ने गंगा नदी को पार किया तो स्वयं सीता ने गंगा नदी की स्तुति करते हुए कहा था - 'हे सौभाग्यकारिणी देवी, वन से कुशलतापूर्वक लौटने पर मैं अपने संपूर्ण मनोरथ से आपकी पूजा करूंगी।' स्कंदपुराण के काशी खंड में गंगा की महिमा का वर्णन करते हुए कहा गया है - 'इस त्रिलोक में जितने भी तीर्थ और पुण्यक्षेत्र हैं, सर्वत्र जो धर्म और यज्ञ हैं, देवताओं के जो गण हैं, समस्त पुरुषार्थ तथा जितनी भी शक्तियां हैं - इस गंगा नदी में सूक्ष्म रूप से उपस्थित रहा करते हैं।'
गंगा के साथ अनेक पौराणिक आख्यान जुड़े हैं। महाभारत के अनुसार गंगा ही भीष्म की माता थीं। काका कालेलकर ने कहा है कि 'गंगा कुछ भी न करती, सिर्फ देवव्रत भीष्म को ही जन्म देती तो भी आर्यजाति की माता के तौर पर प्रतिष्ठित होती।' गंगा अपने भक्तों के प्रति सदा कृपालु रही है। गंगा से जुड़े किस्से कर्म और संकल्प की शुचिता की प्रेरणा देते हैं। कहते हैं कि भक्त रैदास एक बार अपने घर के बाहर बैठे हुए काम कर रहे थे। पास में एक ही छोटा-सा पात्र, जिसे कठौती कहा जाता है, रखा था। कुछ साधुओं का दल उधर से गुजरा और उन्होंने रैदास से कहा कि क्या वे गंगास्नान के लिए उनके साथ चलना पसंद करेंगे। रैदास ने सहजता से कह दिया - 'मन चंगा तो कठौती में गंगा।' इस पर साधुओं ने रैदास का उपहास किया और कहा कि इस कठौती में रखा जल तो एक व्यक्ति की प्यास भी नहीं बुझा सकेगा। गंगा इसमें कहां से समा सकेगी? रैदास ने अपने विश्वास का परीक्षण करने का प्रस्ताव रखा और साधुओं के उस दल को उस छोटे-से पात्र से ही पानी पिलाना शुरू किया। कहते हैं कि सब साधुओं ने छक कर पानी पी लिया लेकिन कठौती में पानी की धार अविरल बनी रही। लोक विश्वास है कि गंगा एक स्नेहसिक्त माता की तरह अपने भक्तों की इच्छा पूरी करती है। इसीलिए तो अंतिम समय में जब गंगालहरी के रचनाकार जगन्नाथ ने उनके अंक में समाने की इच्छा जताई तो गंगा स्वयं घाट की सीढिय़ां चढ़कर उनसे भुजभेंट करने पहुंच गई। इस चमत्कार को सैकड़ों लोगों ने देखा।
गंगा ही क्यों, हर नदी संपूर्ण मानवता के प्रति स्नेह भाव से पूरित है। यही कारण है कि भारतीय परंपराओं में नदियों को मां का दर्जा दिया गया है। गंगाजल के प्रति तो लोगों में इतनी श्रद्धा है कि यह माना जाता है अंतिम समय किसी के मुंह में दो बूंद गंगाजल हो तो उसे बैकुण्ठ की प्राप्ति होती है। पश्चिमी वैज्ञानिकों ने कुछ समय पहले गंगाजल का रासायनिक परीक्षण किया और पाया कि उसमें अनेक रोगों को दूर करने वाले लवण और खनिजों का योग है। लेकिन गंगा नदी भी मानव के स्वार्थी स्वभाव की शिकार हुई है। अनेक स्थानों पर गंगा इतनी प्रदूषित हो गई है कि उसका जल सामान्य उपयोग के लायक भी नहीं रहा। यह पीड़ा भारत की अधिकांश नदियों की है। जिस गंगाजल के बारे में यह माना जाता था कि उसमें स्नान करने मात्र से मनुष्य के पापों का क्षय होता है, वही गंगाजल अपने प्रवाह के अनेक स्थानों पर अपनी शुचिता के लिए संघर्ष कर रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे खेमे में आ चुके हैं सरकार बनाने भर के विधायक! फिर क्यों बीजेपी नहीं खोल रही अपने पत्ते?Maharashtra Political Crisis: ‘मातोश्री’ में मंथन! सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMaharashtra Political Crisis: 24 घंटे के अंदर ही अपने बयान से पलट गए एकनाथ शिंदे, बोले- हमारे संपर्क में नहीं है कोई नेशनल पार्टीBharat NCAP: कार में यात्रियों की सेफ़्टी को लेकर नितिन गडकरी ने कर दिया ये बड़ा काम, जानिए क्या होगा इससे फायदा2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामराशिफल 25 जून 2022: आज शनिदेव की कृपा से इन 4 राशि वालों को मिलेगा भाग्य का पूरा साथ, जानें अपनी राशि का हाल!Ben Stokes: वनडे-टेस्ट दोनों में 100 छक्के और 100 विकेट विकेट लेने वाले दुनिया के पहले क्रिकेटरनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकाल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.