scriptwhy is the ban on coal as fuel from 1 Jan 2023 limited to NCR only? | आपकी बात: बतौर ईंधन कोयले पर प्रतिबंध एनसीआर तक सीमित क्यों? | Patrika News

आपकी बात: बतौर ईंधन कोयले पर प्रतिबंध एनसीआर तक सीमित क्यों?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं

Published: June 12, 2022 06:37:12 pm

पूरे देश में एक साथ लागू किए जाने में ही सार्थकता

समस्या को व्यापक दृष्टिकोण से देखा जाए
प्रदूषण से जंग में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) ने दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में औद्योगिक, घरेलू और अन्य अनुप्रयोगों में कोयले के उपयोग पर पूर्णतया प्रतिबंध लगाने के निर्देश जारी किए हैं। हालांकि थर्मल पावर प्लांटों में कम सल्फर वाले कोयले के इस्तेमाल पर प्रतिबंध से छूट दी गई है। आयोग के मुताबिक पूरी तरह से अगले वर्ष 1 जनवरी से पूरे एनसीआर में प्रतिबंध लागू कर दिया जाएगा। आयोग ने एनसीआर में बढ़ते वायु प्रदूषण की समस्या का स्थायी समाधान खोजने के लिए जनता और विशेषज्ञों से सुझाव आमंत्रित किए थे। इसके लिए बने विशेषज्ञ समूह ने कोयले जैसे भारी प्रदूषणकारी जीवाश्म ईंधन को समाप्त करने और यथासंभव स्वच्छ ईंधन का अनिवार्य करने की सिफारिश की थी। देश के कई अन्य बड़े क्षेत्र और शहर वायु प्रदूषण की समस्या से बुरी तरह प्रभावित हैं। सीएक्यूएम को इस समस्या को केवल एनसीआर तक सीमित करके नहीं देखना चाहिए। आखिर क्यों दूसरे शहरों में स्थितियों को नियंत्रण से बाहर होने दिया जाए? एनसीआर की तरह जरूरी कदम उठाने से पहले क्यों अन्य स्थानों पर स्थितियों के बद से बदतर होने का इंतजार किया जाए?
- अर्जुनसिंह राव भीनमाल
..............
प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र
पूरे देश में लागू हो प्रतिबंध
कोयले के ईंधन रूप में इस्तेमाल को सम्पूर्ण देश में प्रतिबंधित करना चाहिए। आज समूचे देश में प्रदूषण चरम पर है। कोयला दहन से निकली विषैली गैस से कई बार दम घुटकर लोगों की मौत हुई है। आज एलपीजी, इलेक्ट्रिसिटी, सोलर हीटर आदि ईंधन के अनेक विकल्प मौजूद हैं।
- महेंद्र सिंह पूनिया, जोधपुर
..............
दिल्ली को ही सुरक्षित रखना है!
दिल्ली देश का दिल है और दिल की हिफाजत करना आजकल प्रचलन में है। बतौर इंधन कोयले पर प्रतिबंध एनसीआर तक सीमित रखना मतलब रासायनिक गैसों के जानलेवा मिश्रण से दिल्ली को सुरक्षित रखना है। लेकिन यह मात्र एक छलावा है जैसे ही इस प्रतिबंधित क्षेत्र से बाहर निकलोगे, रेल की खिड़की से सांझ का दृश्य देखोगे, बाहर जाते ही आसपास के घरों और फैक्ट्रियों से धुआं उठता हुआ साफ दिखाई देगा। जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करने की दिशा में अभी प्रयास बहुत धीमी गति से चल रहे हैं। पेट्रोल में इथेनॉल का प्रयोग हो या सौर ऊर्जा संयंत्र, सभी अभी ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। सरकार को जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करते हुए और अधिक विकल्पों की तलाश करनी चाहिए।
- एकता शर्मा
..............
अविकसित वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत
कोयले पर पूरे भारत में प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता क्योंकि वैकल्पिक ऊर्जा के स्रोत अभी तक इतने विकसित नहीं हो पाए हैं कि वे पूरे भारत की ऊर्जा आवश्यकताओं की पूर्ति कर सकें। सरकार व जनता मिले-जुले प्रयासों से अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा देकर एक हरे-भरे खुशहाल समाज का निर्माण करें।
- अमन जांगिड़, अतरौली
..............
अच्छे कदम का लाभ क्षेत्र विशेष को ही क्यों
अंग्रेजों द्वारा स्थापित वीआइपी कल्चर से हमारा पीछा नहीं छूट रहा है। हर अच्छे कदम को पहले क्षेत्र विशेष पर ही क्यों लागू किया जाए? माना एनसीआर में जनसंख्या घनत्व अधिक है, इसका तात्पर्य यह नहीं कि अन्य स्थानों को प्रदूषण से मुक्ति की आवश्कता नहीं है। यदि प्रतिबंध लगाना ही है तो सभी स्थानों पर एक साथ लगाना चाहिए। साथ ही यह भी ध्यान देने योग्य है कि ईंधन के अन्य साधनों की उपलब्धता में कोई कोताही नहीं बरती जाए, तभी प्रतिबंध सार्थक होगा।
- प्रदीप अरोड़ा, दुर्गापुरा, जयपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडो'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaNagpur Crime: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के घर के बाहर मजदूर ने किया सुसाइड, मचा हड़कंपरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियालालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाPunjab Bomb Scare: अमृतसर में SI की गाड़ी में बम लगाने वाले दो आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार, कनाडा भागने की फिराक में थेगुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानशाबाश भावना: यूरोप की सबसे बड़ी चोटी भी नहीं डिगा पाई मध्यप्रदेश की बेटी का हौसला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.