हिमालयन ड्राइव में अजगर और मुस्तफा ने लगाई खिताबी हैट्रिक, चौथी बार बनें चैम्पियन

हिमालयन ड्राइव में अजगर और मुस्तफा ने लगाई खिताबी हैट्रिक, चौथी बार बनें चैम्पियन

Mazkoor Alam | Publish: Mar, 02 2019 08:32:44 PM (IST) अन्य खेल

  • अजगर और मुस्‍तफा का यह चौथा खिताब है
  • उनके अलावा दो बार यह टूर्नामेंट सुदीप घोष और अरिंदम घोष की टीम ने जीती है
  • 2013 से हो रही है यह प्रतियोगिता

सिलिगुड़ी : अजगर अली और उनके सहचालक मोहम्मद मुस्तफा ने शनिवार को जेके टायर हिमालय ड्राइव-7 का खिताब एक बार फिर अपने नाम कर लिया। इस टूर्नामेंट में अजगर और मुस्तफा की यह लगातार तीसरी खिताबी जीत है। पश्चिम बंगाल के हल्दिया निवासी अजगर और इरोड के मुस्तफा ने चार दिनों तक लगातार अपना प्रदर्शन बेहतरीन बनाए रखा और अथक परिश्रम के बाद देश की एकमात्र टीडीएस (टाइम, स्पीड, डिस्टेंस) रैली में लगातार तीसरी बार चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया।

ऐसा रहा स्‍कोर
नेशनल कैटेगरी में अजगर और मुस्तफा अंतिम रूप से 1110 पेनाल्टी अंकों के साथ पहले स्थान पर रहे, जबकि गगन सेठी और उनके सहचालक राजकुमार मुंद्रा ने 1847 पेनाल्टी अंकों के साथ दूसरा स्थान हासिल किया, जबकि जोगिंदर जायसवाल और नागराजन थांगाराज ने 2035 पेनाल्टी अंकों के साथ तीसरा स्थान हासिल किया।

ओपन कैटगरी में गोविंद डालमिया और आनंद अग्रवाल पहले पर
ओपन कैटगरी में गोविंद डालमिया और आनंद अग्रवाल ने रोहित अग्रवाल और कुनाल जोशी फर श्रेष्‍ठता साबित करते हुए 9149 पेनाल्‍टी अंकों के साथ पहला स्थान प्राप्त किया। अग्रवाल और जोशी ने 9691 अंकों के साथ दूसरा और सूयष राज तथा मोहम्मद शरीफ ने 10796 अंकों के साथ तीसरा स्थान प्राप्त किया।

खिताबी जीत से अजगर खुश
खिताबी जीत के बाद अजगर ने कहा कि खिताबी हैट्रिक से वह काफी खुश हैं। यह बेहद रोमांचक रैली थी और वह यह कह सकते हैं कि जेके टायर हिमालय ड्राइव देश में आयोजित की जाने वाली श्रेष्ठ टीडीएस रैली है। यहां के प्रतिस्पर्धी सेक्शन काफी शानदार हैं। इस प्रतिस्‍पर्धा में चालकों, नेवीगेटर्स तथा हमारी कारों के लिए काफी चुनौतीपूर्ण माहौल मिलता है।

अजगर और मुस्तफा की जोड़ी ने 4 बार जीता है खिताब
बता दें कि अजगर और मुस्तफा का यह चौथा खिताब है। इससे पहले वे 2013, 2017, 2018 में भी चैम्पियन रह चुके हैं। इस रैली का पहली बार 2013 में आयोजन हुआ था और पहला खिताब भी इसी जोड़ी के नाम गया था। इसके बाद दो बार सुदीप घोष और अरिंदम घोष की टीम ने यह रैली 2014 और 2016 में जीती थी। 2015 में अनुभव डे और सह-चालक चंदन सेन का इसमें चैम्पियन बनने का गौरव मिला था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned