Asian Games: रजत पदक विजेता सुधा सिंह को 30 लाख रुपए और नौकरी देगी यूपी सरकार, CM योगी का ऐलान

Asian Games: रजत पदक विजेता सुधा सिंह को 30 लाख रुपए और नौकरी देगी यूपी सरकार, CM योगी का ऐलान

Akashdeep Singh | Publish: Aug, 28 2018 08:58:21 AM (IST) अन्य खेल

18वें एशियाई खेलों में भारत ने अभी तक 8 स्वर्ण, 13 रजत और 20 कांस्य पदकों के साथ कुल 41 पदक जीत लिए हैं।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ ने इंडोनेशिया में खेले जा रहे एशियन गेम्स में 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा में रजत पदक जीतने वाली महिला धावक सुधा सिंह को बधाई दी है और उन्हें राज्य सरकार की ओर से 30 लाख रुपये का पुरस्कार तथा राज्य सरकार में राजपत्रित अधिकारी के पद पर नौकरी दिए जाने की घोषणा की है। सुधा ने महिलाओं की 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा के फाइनल में नौ मिनट 40.03 सेंकेंड का समय निकालते हुए रजत पदक हासिल किया। इसके अलावे एशियाई खेलों के नौवें दिन सोमवार को एथलीट्स ने कुल चार पदक अपने नाम करते हुए देश को झूमने का मौका दिया। इन चार पदकों में एक स्वर्ण और तीन रजत पदक शामिल हैं। उम्मीद के मुताबिक भारत को स्वर्ण भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने दिलाया।

 

CM ने कहा-
मुख्यमंत्री ने कहा कि सुधा ने लगन और परिश्रम के बल पर बेहतरीन प्रदर्शन करके देश और प्रदेश का मान बढ़ाया है। पूरा राज्य इनकी इस उत्कृष्ट उपलब्धि से गौरवान्वित है। इससे पहले भी यूपी कई पदकवीरों को यूपी सरकार सम्मानित कर चुकी है।

 

सुधा ने जीता रजत-
भारत की महिला धावक सुधा सिंह ने एशियाई खेलों के नौवें दिन सोमवार को महिलाओं की 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा के फाइनल में रजत पदक पर कब्जा जमाया था। सुधा ने नौ मिनट 40.03 सेंकेंड में दूरी तय करते हुए दूसरा स्थान हासिल किया।


स्वर्ण पदक जीतने से चुकीं-
2010 की एशियाई खेलों में स्वर्ण जीतने वाली सुधा एक समय स्वर्ण पदक की दौड़ में थी लेकिन बहरीन की विनफ्रेड यावी ने आखिरी समय में सुधा को पीछे छोड़ दिया। विनफ्रेड ने नौ मिनट 36.52 सेकेंड का समय निकालते हुए स्वर्ण पदक जीता।


इससे पहले भी कई पदक जीत चुकीं हैं सुधा-
सुधा ने एशियाई चैम्पियनशिप-2017 में स्वर्ण जीता था। इससे पहले वह 2013 में भी एशियाई चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीता था। इंचियोन में 2014 में खेले गए एशियाई खेलों में इससे बेहतर नौ मिनट 35.64 सेकेंड का समय निकाला था लेकिन फिर भी चौथे स्थान पर रही थीं। कांस्य पदक पर वियतनाम की थि ओन्ह गुयेन ने नौ मिनट 43.83 सेकेंड का समय निकला। भारत की एक और धावक चिंता 11वें स्थान पर रहीं। उन्होंने 10 मिनट 26.21 सेकेंड का समय निकाला।

Ad Block is Banned