अंतरिम बजट में खेल के लिए भी खुला खजाना, खेल बजट में की 214.20 करोड़ की बढ़ोतरी

अंतरिम बजट में खेल के लिए भी खुला खजाना, खेल बजट में की 214.20 करोड़ की बढ़ोतरी

Mazkoor Alam | Publish: Feb, 01 2019 08:36:55 PM (IST) | Updated: Feb, 01 2019 08:36:56 PM (IST) अन्य खेल

अंतरिम बजट को पेश करते हुए वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि 2019-2020 के लिए कुल खेल बजट को साल 2018-19 के 2002.72 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 2,216.92 करोड़ रुपए कर दिया है।

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने शुक्रवार को वित्तीय वर्ष 2019-2020 के लिए खेल बजट में 214.20 करोड़ रुपए तकरीबन 10 फीसदी की बढ़ोतरी का ऐलान किया। इस बढ़ोतरी में से 55 करोड़ रुपए भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) को भी दिए जाएंगे। यह साई के लिए आवंटित बजट के अलावा होगा। अंतरिम बजट को पेश करते हुए वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि 2019-2020 के लिए कुल खेल बजट को साल 2018-19 के 2002.72 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 2,216.92 करोड़ रुपए कर दिया है।

खिलाड़ियों का इंसेंटिव फंड में भी इजाफा
इस बजट से साई के बजट में भी इजाफा हुआ है। पहले साई का बजट 395 करोड़ था जो अब 450 करोड़ हो गया है। इनके अलावा बजट से राष्ट्रीय खेल विकास कोष (एनएसडीएफ) और खिलाड़ियों के इन्सेंटिव फंड को भी फायदा हुआ है। एनएसडीएफ का बजट दो करोड़ रुपए से 70 करोड़ रुपए कर दिया गया है, जबकि खिलाड़ियों का इन्सेंटिव फंड 63 करोड़ रुपएसे बढ़ाकर 89 करोड़ रुपए कर दिया गया है।

खेलो इंडिया का बजट भी बढ़ा
खेलमंत्री और ओलंपिक पदक विजेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़ की पहल पर शुरू किए गए खेलो इंडिया कार्यक्रम के लिए बजट 550.69 करोड़ रुपए (संशोधित अनुमान) से बढ़ाकर 601.00 करोड़ रुपए कर दिया गया है। यानी 50.31 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी हुई है।

महासंघों को दी जाने वाली राशि वही
राष्ट्रीय खेल महासंघों को दी जाने वाली सहायता राशि करीब-करीब पिछले साल जैसी ही है। पिछले बजट में एनएसएफ को 245.13 करोड़ रूपए दिए गए थे। इन्‍हें अब 245 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned