कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के लिए सोना जीतने वाली पूनम यादव के साथ हुई मारपीट

कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के लिए सोना जीतने वाली पूनम यादव के साथ हुई मारपीट

| Updated: 14 Apr 2018, 09:15:14 PM (IST) अन्य खेल

राष्ट्रमंडल खेल में भारत के लिए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाने वाली बनारस की बेटी पूनम यादव के साथ मारपीट की घटना हुई।

नई दिल्ली। आस्ट्रेलिया में जारी 21वें कॉमनवेल्थ गेम में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतने वाली पूनम यादव जब वापस देश आई, तब तो उनका स्वागत उनके गांव में काफी जोरशोर से किया गया था। लेकिन इस कामयाबी के एक सप्ताह के भीतर ही पूनम यादव के गांव वालों ने उनके साथ मारपीट की। आज शनिवार को बनारस की इस बेटी के साथ उसके गांव के लोगों ने भी हमला बोल दिया। पूनम के साथ हुई इस वारदात की वजह पुरानी जमीनी विवाद बताई जा रही है।

रोहनिया थानाक्षेत्र का है मामला-
बनारस के रोहनिया थानाक्षेत्र की निवासी पूनम के साथ ये शर्मनाक वाकया तब हुआ, जब वह मुंगवार गांव में ही रहने वाली अपनी बुआ से मिलने गई थी। जब वो अपनी बुआ के घर पहुंची तभी कुछ लोगों ने उनपर हमला बोल दिया। हमले में उनके साथ मौजूद कुछ लोग घायल भी हो गए। पूनम के साथ भी हाथापाई हुई है। पूनम ने इसकी शिकायत डॉयल 100 पर की। तब पुलिस मौका ए वारदात पर पहुंची। लेकिन गांव के दबंग लोग पुलिस के सामने भी पूनम से बुरा व्यवहार करते दिखे। इस घटना के में पूनम के परिवार के लोग और सहयोगी घायल हो गए है।

पूनम के चाचा ने बताया-
पूरे मामले पर पूनम यादव के चाचा जयराम यादव ने बताया की पूनम जब सोना जीत कर शहर आई तो तब परिवार के सब लोग उससे मिलने पहुंचे। लेकिन बुआ मंजू यादव मिलने नहीं आ पाई थी। आज पूनम अपनी बुआ से मिलने उनके गांव पहुंची थी। उसी समय बुआ के पड़ोसियों ने उनके ऊपर हमला बोल दिया। किसी तरह वो खुद को बचाकर रोहनिया थाने पहुंचीं। आरोप है कि थाने से पुलिस के साथ जब पूनम फिर से मु्ंगवार गाँव आयीं, तो ग्राम प्रधान ने गोलबंदी करवाकर एक बार फिर हमला करवाया।

राष्ट्रीय स्तर के पहलवान राम आसरे भी घायल -
घटना के समय पूनम के साथ नेशनल स्तर के पहलवान राम आसरे भी थें। बीचबचाव में राम आसरे का भी सर भी फूट गया। इसके अलावा 4 अन्य लोग भी घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि पूनम की बुआ ने हाल ही में एक ज़मीन का बैनामा गांव के ही लुलुर यादव से खरीदा था। उस जमीन पर जब बिजली का कनेक्शन लिया जाने लगा तो पता चला की अभी ज़मीन का बंटवारा नहीं हुआ है, तो उसपर बिजली का कनेक्शन नहीं हो पायेगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned