भारत में होगी रेसलिंग लीग, योद्धा बनकर रैंप पर उतरे पहलवान

 भारत में होगी रेसलिंग लीग, योद्धा बनकर रैंप पर उतरे पहलवान

 प्रो रेसलिंग लीग के लिए अब तक 20 ओलंपिक पदक विजेता व 8 विश्व चैम्पियन पहलवान register करा चुके हैं

नई दिल्ली। दुनियाभर में पहलवानों को अपने दांव पेंच से धूल चटाने वाले ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार उस समय बेहद शर्मा गए जब उन्हें एक मॉडल के साथ रैंप वाक करने के लिए उतरना पड़ा। मौका था प्रो रेसलिंग लीग की घोषणा का। इस अवसर का सबसे बड़ा आकर्षण थे दो बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील।



लीग की घोषणा के बाद मंच पर नाच गाने के बीच सुशील जब एक मॉडल के साथ वॉक करते हुए रैम्प पर पहुंचे तो उनका शर्माना और झिझकना देखने लायक था। सुशील ने रैम्प पर से हाथ जोड़कर सबका अभिवादन किया। सुशील के बाद अन्य पहलवानों ने भी रैंप वाक की, लेकिन वे सभी यूनानी योद्धाओं की वेशभूषा में रैंप पर पहुंचे। पहलवानों के लिए ये अलग ही अनुभव था। इनमें महिला पहवान बबीता, गीतिका जाखड़ व गीता फोगट भी शामिल थीं।



दिग्गज पहलवान करेंगे शिरकत
भारत में क्रिकेट, बैडमिंटन, फुटबॉल, टेनिस व कबड्डी के बाद अब कुश्ती में भी प्रो रेसलिंग लीग का आयोजन भी होगा। कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने सुशील की मौजूदगी में इस लीग का ऎलान किया। इस वर्ष 8 से 29 नवम्बर तक होने वाली इस लीग में छह शहरों की टीमें उतरेंगी जिनकी घोषणा 7 सितम्बर तक कर दी जाएगी। प्रो रेसलिंग लीग के लिए अब तक 20 ओलंपिक पदक विजेता व 8 विश्व चैम्पियन पहलवान पंजीकरण करा चुके हैं।



बेस्ट ऑफ 9 फॉर्मेट
लीग में प्रत्येक टीम में कुल 11 खिलाड़ी होंगे जिनमें छह पुरूष व पांच महिला पहलवान शामिल होंगी। हर टीम में छह भारतीय और पांच विदेशी होंगे। प्रो लीग बेस्ट ऑफ नाइन फॉर्मेट में खेली जाएगी। लीग चरण में टीमें एक दूसरे के खिलाफ खेलेंगी और हर मुकाबले में नौ मैच होंगे। प्रत्येक मैच तीन मिनट के तीन राउंड का होगा और उसमें एक मिनट का ब्रेक होगा। लीग में कुल 150 मुकाबले खेले जाएंगे। हर मुकाबले में टीमों को चार विदेशी पहलवान रखने की अनुमति होगी।

नौ क्षेत्र से 6 शहर
लीग के सह प्रमोटर आशीष चड्डा ने बताया कि टीमों के लिए नौ क्षेत्र रखे गए हैं जिनमें से छह शहरों की टीमें चुनी जाएगी। इसमें उत्तर भारत से तीन टीमें ली जाएंगी, जबकि महाराष्ट्र, दक्षिण और पूर्व से एक-एक टीम ली जाएगी।



अजीब लगेगा नीलाम होकर
इस बारे में सुशील ने कहाकि लीग के लिए जब पहलवानों की नीलामी होगी तो मुझे बड़ा अजीब लगेगा, लेकिन समय-समय पर चीजों को बदल लेना भी ठीक रहता है। हम लीग में उतरेंगे तो हमारा ध्यान सिर्फ कुश्ती पर रहेगा क्योंकि इससे हमें अगले साल होने वाले रियो ओलंपिक में फायदा मिलेगा। मैं चोट के कारण विश्व चैम्पियनशिप से हटा हूं लेकिन मैट पर वापसी के लिए मेरा अभ्यास जारी है। मैं, योगेश्वर और हमारी टीम के पहलवान इस लीग में खेलने उतरेंगे। इससे भारतीय पहलवानों और खास तौर पर जूनियर पहलवानों को खासा फायदा होगा।

लीग की खास बातें
08 से 29 नवम्बर तक होगी रेसलिंग लीग
06 फ्रेंचाइजी टीमें उतरेंगी
18 करोड़ रूपए है पुरस्कार राशि
03 करोड़ मिलेंगे विजेता को
21 दिनों में 18 मैच होंगे
66 पहलवान हिस्सा लेंगे दुनियाभर से
36 भारतीय व 30 विदेशी पहवान करेंगे शिरकत
20 ओलंपिक पदक विजेता कर चुके हैं पुष्टि
15 सितम्बर को होगी पहलवानों की नीलामी
खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned