BWF ने सुनाया अपना फैसला, टूटा साइना और श्रीकांत का सपना

विश्व बैडमिंटन महासंघ (world badminton federation) ने घोषणा करते हुए कहा कि ओलंपिक क्वालीफाइंग टूर्नामेंट नहीं होंगे।

By: भूप सिंह

Updated: 28 May 2021, 08:40 PM IST

नई दिल्ली। बैडमिंटन की विश्व संस्था ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना महामारी के कारण अब कोई ओलंपिक क्वालीफाइंग टूर्नामेंट नहीं होंगे, जिसके बाद ओलंपिक में पदक जीत चुकीं भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ((saina nehwal)) और किदांबी श्रीकांत ((kidambi srikanth)) की इस साल टोक्यो ओलंपिक ((tokyo olympics)) में शामिल होने की उम्मीदें धूमिल हो गई।

यह भी पढ़ें— क्रिकेट का जुनून: उम्र मात्र 2 साल, लगाता है विराट कोहली की तरह तगड़े शॉट, देखें वीडियो

शेड्यूल में नहीं होगा कोई बदलाव
विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) ने कहा, ‘बैडमिंटन की विश्व संस्था इस बात की पुष्टि करती है कि टोक्यो ओलंपिक के लिए अब कोई क्वालीफाइंग टूर्नामेंट नहीं होंगे। टोक्यो 2020 क्वालीफिकेशन प्रणाली के अनुसार क्वालीफिकेशन पीरियड आधिकारिक रूप से 15 जून को खत्म होगा, लेकिन टोक्यो की रेस के लिए रैंकिंग लिस्ट में बदलाव नहीं किया जाएगा।’ भारत की ओर से पीवी सिंद्धू, बी. साई प्रणीत, सात्विकसाईराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी ने इस साल जुलाई- अगस्त में होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया है।

ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंद्धू और 2019 विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता प्रणीत क्रमश: महिला और पुरुष के एकल वर्ग में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे जबकि रैंकीरेड्डी और शेट्टी पुरुष युगल इवेंट में चुनौती पेश करेंगे। श्रीकांत और सायना भारतीयों में क्वालीफाई करने के करीब थे जबकि अश्विनी पोनप्पा और एन. सिक्की रेड्डी के पास भी महिला युगल वर्ग में क्वालीफाई करने का मौका था।

यह भी पढ़ें— न्यूजीलैंड के पूर्व ऑलराउंडर सर रिचर्ड हेडली बोले- भारत ने टेस्ट क्रिकेट को जीवित रखा है...

एकल वर्ग में शीर्ष-16 रैंक तक रहने वाले खिलाड़ी टोक्यो में हिस्सा लेंगे और शीर्ष आठ रैंकिंग के खिलाडिय़ों को युगल वर्ग में क्वालीफिकेशन हासिल होगा। सायना 22वें जबकि श्रीकांत 20वें नंबर पर हैं। अश्विनी और सिक्की 26वें स्थान पर हैं। 2019 विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली सिंद्धू रैंकिंग में सातवें और प्रणीत 13वें स्थान पर हैं। सायना और श्रीकांत की उम्र को देखते हुए इनका पेरिस में 2024 में होने वाले ओलंपिक में खेलना कठिन है। सायना 31 और श्रीकांत 28 वर्ष के हैं। उम्मीद है कि श्रीकांत 2024 ओलंपिक के लिए चुनौती पेश कर सकते हैं क्योंकि उस वक्त वह 31 साल के होंगे।

इस बीच, सायना के लिए ओलंपिक में दूसरी बार पदक जीतने का आखिरी मौका टोक्यो होता, क्योंकि 2024 पेरिस ओलंपिक के समय वह 35 वर्ष की होंगी। कोरोना के कारण इंडिया ओपन, मलेशिया ओपन और सिंगापुर ओपन को स्थगित किया गया था जिसके कारण ये खिलाड़ी ओलंपिक क्वालीफाइंग इवेंट में हिस्सा नहीं ले सके थे।

भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned