PAK मंत्री का बेतुका बयान, कहा- ‘बहुत दिन से रखे थे आंसू गैस के गोले, इसलिए प्रदर्शनकारियों पर किया गया टेस्‍ट’

  • पाकिस्तान के मंत्री शेख राशिद अहमद ने फिर दिया अजीबोजरीब बयान
  • कहा- टेस्ट के लिए छोड़ा आंसू गैस के गोले

By: Vivhav Shukla

Published: 15 Feb 2021, 03:34 PM IST

नई दिल्ली। पाकिस्‍तान के आंतरिक मंत्री शेख राशिद अहमद अपने विवादित और अटपटे बयानों की वजह से अक्सर चर्चा में बने रहते हैं। हाल ही में शेख रशीद ने वेतन वृद्धि को लेकर हो रहे विरोध-प्रदर्शन को लेकर बेहद बेतुका बयान दिया है। उन्होंने कहा है, ‘प्रदर्शनकारियों के ऊपर आंसू गैसे के गोलों का परीक्षण करना आवश्यक था क्योंकि आंसू गैस के उन गोलों का लंबे वक्त से इस्तेमाल नहीं हुआ था ऐसे में आंसू गैस के गोले सही हैं या नहीं उनका टेस्ट करना जरूरी था।’

पाक से फेंके गए छह में से पांच पैकेट तस्करों ने किए कैच, पर एक तारबंदी में गिरा तो खुला राज

602909d825f53.jpg

दिक्‍कत आंसू गैस के गोले छोड़े जाना नहीं था, बल्कि सैलरी में इजाफे की थी

पाकिस्‍तान के अखबार द डॉन के मुताबिक, शेख रशीद रावलपिंडी में एक समारोह में गए थे। उन्होंने ये बात कर्मचारियों के विरोध प्रदर्शन का जिक्र करते हुए कहा।पाकिस्‍तान के आंतरिक ने कहा, ‘असल में दिक्‍कत आंसू गैस के गोले छोड़े जाना नहीं था, बल्कि सैलरी में इजाफे की थी। अभी देश के आर्थिक हालात खराब हैं और मंहगाई दर काफी अधिक तो सैलरी बढ़ाने से सरकारी खजाने पर काफी बोझ पड़ेगा।

उन्‍होंने आगे कहा, ‘कोरोना महामारी से जूझते पाकिस्‍तान को इससे बाहर लाने के लिए प्रधानमंत्री इमरान खान ने काफी कुछ किया है। इसके लिए पीएम ने सेना के साथ मिलकर जेहाद छेड़ा हुआ है। फिर भी मैं इन लोगों से कहता हूं कि अगरप वो संविधान के दायरे में रहते हुए विरोध करते हैं तो कोई दिक्‍कत नहीं होगी, लेकिन यदि वो इस्‍लामाबाद आकर संविधान की धज्जियां उड़ाकर अपने विरोध को अंजाम देते हैं तो इसका खामियाजा उन्‍हें भुगतना होगा।’

भारत के सीमा के करीब बम-गोले बरसा रहा है पाकिस्तान, आखिर क्या करने का है इरादा?

5f6d4f4d62b80.jpg

छोड़े गए थे 1 हजार आंसू गैस के गोले

बता दें पाकिस्‍तान में लगातार सरकार विरोधी प्रदर्शनों की संख्‍या बढ़ती जा रही है। पाकिस्‍तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट की रैलियों के बाद अब सरकारी कर्मचारियों के विरोध प्रदर्शनों ने सरकार की मुश्किलें बढ़ा रखी हैं। जानकारी के मुताबिक, प्रदर्शनकारी सरकार से अपनी सैलरी में मंहगाई के मुताबिक इजाफा करने के लिए कह रहे हैं।

उनका कहना था कि वो तब तक सचिवालय के बाहर बैठे रहेंगे, जब तक सरकार इस पर सही फैसला नहीं ले लेती है।ये प्रदर्शन ऑल गवर्नमेंट इम्प्लॉइज ग्रांड एलायंस के नेतृत्‍व में किया गया जा रहा है। शनिवार को सरकारी कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ रैली आयोजित की ई थी। इसी रैली में लोगों को तितर-बितर करने के लिए उनके ऊपर करीब 1 हजार आंसू गैस के गोले छोड़े गए थे।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned