पाकिस्तान में कट्टरपंथियों को मनाने के​ लिए आगे आए इमरान, कहा-इससे भारत को होगा फायदा

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने इस दौरान भारतीय न्यूज वेबसाइट्स के ऊपर भी कई सवाल उठाए। बातचीत के बाद अगवा 11 पुलिसकर्मियों को रिहा कराया।

By: Mohit Saxena

Published: 20 Apr 2021, 09:55 AM IST

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में कट्टरपंथियों के हिंसक विरोध प्रदर्शन के सामने इमरान सरकार बेबस नजर आ रही है। इस लिए खुद इमरान खान को मैदान में आना पड़ा है। उन्होंने सोमवार को देश के नाम संबोधन में इमामों से कहा कि उन्हें हिंसा बंद कर देनी चाहिए। इमरान ने इसके लिए भारत के नाम का सहारा लिया। उन्होंने इशारों-इशारों में कह डाला कि इससे भारत को फायदा होना है। इस दौरान उन्होंने भारतीय न्यूज वेबसाइट्स के ऊपर भी कई सवाल उठाए।

Read more: पाक विदेश मंत्री ने कहा, संयुक्त अरब अमीरात में जयशंकर के साथ कोई बैठक निर्धारित नहीं

800 पुलिसवाले घायल हुए

इमरान खान ने अपने संबोधन में कहा कि वे अपने उलेमा को खासतौर पर कहना चाहते हैं कि आपको साथ मिलकर सरकार की मदद करनी चाहिए। ये जो हो रहा है इससे हमारे मुल्क को नुकसान पहुंच रहा है। हमारे 800 पुलिसवाले घायल हो चुके हैं। कई अस्पतालों में भर्ती हैं। इस दौरान पाक पीएम ने भारतीय मीडिया के ऊपर अपनी नाकामी का ठीकरा फोड़ा है। उन्होंने कहा कि पाक में जो कुछ हो रहा है, उससे किसको फायदा पहुंचा है।

दुश्मनों को फायदा हुआ: इमरान

उन्होंने कहा कि आखिर क्यों हिंदुस्तान की वेबसाइट्स इस मामले में दखल दे रही हैं। इससे दुश्मनों को फायदा हुआ है। इससे कौम को नुकसान पहुंच रहा है। इतना ही नहीं, उन्होंने हिंसक कट्टरपंथियों से कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। उन्होंने पूछा कि जुर्म कहीं और हो और हम अपने ऊपर आत्मघाती हमला कर लें, ये कौन सी समझ है।

Read More: Pakistan: इमरान खान ने यौन हिंसा के लिए 'अश्लीलता' को बताया जिम्मेदार, बोले- कुछ तो साइड इफेक्ट होगा

क्या है मामला

गौरतलब है कि प्रतिबंधित कट्टरपंथी इस्लामी पार्टी तहरीक ए लब्बैक पाकिस्तान ने सोमवार को इमरान खान सरकार के साथ पहले दौर की बातचीत करने के बाद 11 पुलिसकर्मियों को रिहा कर दिया। इन पुलिसकर्मियों के समूह को लाहौर में सुरक्षा बलों के साथ झड़प के दौरान बंधक बनाया था। फ्रांस में बीते साल प्रकाशित एक कार्टून को ईशनिंदा का उदाहरण बताकर फ्रांसीसी राजदूत को निष्कासित करने की मांग की गई।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned