पाकिस्तान में मदरसे पर फहराया तालिबानी झंडा, पुलिस उतारने पहुंची तो मौलवी और छात्रों ने निकाल ली AK-47, देखिए वीडियो

मदरसे में तालिबानी झंडा फहराया गया था। पुलिस को इसकी जानकारी हुई थी, तो वह झंडा उतारने पहुंची। पुलिस की कार्रवाई का विरोध करने के लिए खुद मदरसे के मौलवी और छात्र आगे आ गए।

 

By: Ashutosh Pathak

Updated: 19 Sep 2021, 08:18 AM IST

नई दिल्ली।

तालिबान को अफगानिस्तान पर कब्जा किए हुए एक महीने से अधिक का वक्त बीत चुका है और इसी के साथ अब उसके विरोध का दायरा धीरे-धीरे कम होता जा रहा है, जबकि समर्थक न सिर्फ अफगानिस्तान बल्कि पड़ोसी मुल्कों में भी बढ़ते जा रहे हैं। इसका एक उदाहरण पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में देखने को मिला है।

बात दरअसल कुछ यूं है कि इस्लामाबाद स्थित एक मदरसे में तालिबानी झंडा फहराया गया था। पुलिस को इसकी जानकारी हुई थी, तो वह झंडा उतारने पहुंची। पुलिस की कार्रवाई का विरोध करने के लिए खुद मदरसे के मौलवी और छात्र आगे आ गए। पुलिस के सामने एके-47 भी लहराई गई। दिलचस्प यह है कि घटना इस्लामाबाद के सबसे चर्चित मदरसे जामिया हफ्सा का है। हालांकि, पाकिस्तानी अखबार और न्यूज़ वेबसाइट डाॅन के अनुसार, मौलाना अब्दुल अजीज और घटना में शामिल रहे कुछ सहयोगियों के खिलाफ पुलिस ने केस रजिस्टर कर लिया है। इस्लामाबाद पुलिस ने एंटी टेरेरिज्म एक्ट के तहत अफगान तालिबान का झंडा फहराने के आरोप में विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है।

बताया जा रहा है कि जामिया हफ्सा मदरसे में तालिबान का झंडा फहराया गया था। पुलिस को इस बात की जानकारी मिली, तब एक टीम झंडे को उतारने के लिए वहां पहुंची। लेकिन वहां पहुंचने के बाद पुलिस को मौलाना अब्दुल अजीज और मदरसे के छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा। यह लोग किसी भी कीमत पर झंडे को उतारने के लिए तैयार नहीं हो रहे थे। विरोध के लिए खुद मौलाना अब्दुल अजीज पुलिस टीम के सामने खड़ा हो गया।

यह भी पढ़ें:-भारत ही नहीं दुनियाभर के लिए खतरनाक साबित होगा चीन-पाकिस्तान के बीच नया परमाणु समझौता

हैरानी की बात यह है कि मौलाना अब्दुल अजीज और छात्रों के विरोध को देखते हुए झंडा उतारने पहुंची पुलिस टीम खाली हाथ वापस लौट गई। सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में मदरसे का मौलवी अब्दुल अजीज झंडा उतारने गई पुलिस टीम के सदस्यों को खूब खरी-खोटी सुना रहा है और पुलिसकर्मी मूकदर्शक बने हुए है। मौलवी अब्दुल अजीज इस वीडियो में यह दावा करते हुए दिख रहा है कि इस्लामाबाद में शरिया कानून लागू करने की उसकी मांग इमरान सरकार ने मान ली है।

यह भी पढ़ें:- देश चलाने के लिए दो हजार साल पुराना खजाना खोज रहा तालिबान

वीडियो में दिख रहा मौलाना अब्दुल अजीज जामिया हफ्सा मदरसे के पास खड़े पुलिसकर्मियों से बहस कर रहा है। वह पुलिसकर्मियों को धमका रहा है कि वे पुलिस की नौकरी छोड़ दें। मौलाना के मुताबिक, पाकिस्तान तालिबान उन सभी को सबक सिखाएगा। पुलिस को रोकने के लिए बड़ी संख्या में मदरसे की छात्राएं बुर्का पहनकर छत पर आ गईं और एक शख्स ने एके-47 राइफल निकाल ली।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned