Pakistan: इमरान सरकार की खुली पोल, Hafiz Saeed समेत लश्कर व JuD आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर शुरू

HIGHLIGHTS

  • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ( UN Security Council ) की कमिटी की मंजूरी के बाद पाकिस्तान ने हाफिज सईद ( Hafiz Saeed ) के अलावा अब्दुल सलाम भुट्टवी, हाजी एम अशरफ, याहया मुजाहिद और जफर इकबाल का बैंक अकाउंट फिर से शुरू कर दिया है।
  • हाफिज समेत पांचों आतंकियों ने संयुक्त राष्ट्र ( United Nation ) में अपील की थी कि उनके बैंक अकाउंट ( Bank Accounts ) को फिर से रिस्टोर कर दिया जाए, ताकि उनके परिवार का खर्चा चल सके।

 

By: Anil Kumar

Updated: 12 Jul 2020, 05:08 PM IST

इस्लामाबाद। आतंकियों के खिलाफ दोहरा चरित्र पेश करने वाले पाकिस्तान ( Pakistan ) की पोल एक बार फिर से पूरी दुनिया के सामने खुल गई है। पाकिस्तान की इमरान सरकार ( Imran Khan ) ने कुछ दिन पहले हाफिज सईद ( Hafiz Saeed ) समेत लश्कर और जमात-उद-दावा ( Lashkar and Jamaat-ud-Dawa ) के पांच आतंकियों पर कार्रवाई करते हुए सभी के बैंक अकाउंट बंद कर दिए थे। लेकिन अब एक बार फिर से सभी के बैंक अकाउंट का रिस्टोर कर दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ( UN Security Council ) की कमिटी की मंजूरी के बाद पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है। हाफिज सईद के अलावा अब्दुल सलाम भुट्टवी, हाजी एम अशरफ, याहया मुजाहिद और जफर इकबाल का बैंक अकाउंट फिर से शुरू किया गया है।

मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को 5 साल की सजा, टेरर फंडिंग मामले में पाकिस्तान की कोर्ट का फैसला

बता दें कि ये सभी UNSC के सूचीबद्ध आतंकवादी हैं। मौजूदा समय में पाकिस्तान के पंजाब काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट ( CTD ) की ओर से सभी के खिलाफ दायर टेरर फाइनेंसिंग के मामलों में लाहौर जेल में 1 से 5 साल तक की सजा काट रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, हाफिज समेत पांचों आतंकियों ने संयुक्त राष्ट्र में अपील की थी कि उनके बैंक अकाउंट को फिर से रिस्टोर ( Bank Accounts Restore ) कर दिया जाए, ताकि उनके परिवार का खर्चा चल सके।

पिछले महीने FATF ने आतंकियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने में विफल रहने के कारण पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डालने का फैसला किया था। अब जब एक बार फिर से आतंकियों के बैंक अकाउंट का रिस्टोर कर दिया गया है, तो देखना दिलचस्प होगा कि FATF की अगली बैठक में UNSC और पाकिस्तान के इस कदम पर क्या चर्चा होती है।

FATF की ग्रे लिस्ट में पाक

आपको बता दें कि आतंकियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने में विफल रहे पाकिस्तान को फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स ( FATF ) ग्रे लिस्ट में रखा है। FATF ने पिछले महीने कहा था कि पाकिस्तान अभी भी लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठनों को पहुंचने वाली फंडिंग पर रोक लगाने में नाकाम रहा है।

मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को 5 साल की सजा, टेरर फंडिंग मामले में पाकिस्तान की कोर्ट का फैसला

आतंकवाद को वित्तीय पोषण ( Financing terrorism ) रोकने और मनी-लॉन्डरिंग ( Money laundering ) के खिलाफ कदम उठाने को लेकर FATF ने 27 बिंदुओं का ऐक्शन प्लान बनाया है और इस पर पाकिस्तान को अमल करने को कहा गया है, लेकिन इन 27 बिन्दुओं में से अभी तक केवल 13 बिन्दुओं पर ही पाकिस्तान ने अमल किया है। लिहाजा FATF ने साफ कहा है कि जल्द से जल्द सभी बिन्दुओं पर कार्रवाई करें, अन्यथा ब्लैकलिस्ट में डाला जाएगा। फिलहाल यह फैसला अक्टूबर तक के लिए टाल दिया गया है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned