पाकिस्तान: Tik Tok पर लगा बैन हटा, इस वजह से लगाया गया था प्रतिबंध

पेशावर की एक अदालत ने चीनी वीडियो शेयरिंग ऐप टिक टॉक पर लगे बैन को हटा लिया है। हालांकि, कोर्ट ने चेतावनी भी दी है कि अश्लील कंटेट न दिखाएं।

By: Anil Kumar

Updated: 02 Apr 2021, 05:38 PM IST

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की एक अदालत ने बड़ा फैसला लेते हुए चीनी ऐप टिक टॉक पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया है। यह दूसरी बार है जब पाकिस्तान की एक कोर्ट ने टिकटॉक से बैन हटाया है। पेशावर की एक अदालत ने मामले की सुनवाई करते हुए चीनी वीडियो शेयरिंग ऐप पर रोक हटा लिया है। हालांकि, कोर्ट ने चेतावनी भी दी है कि अश्लील कंटेट न दिखाएं। जानकारी के मुताबिक, टिक टॉक ने आश्वासन दिया है कि अब इसमें आपत्तिजनक कंटेंट देखने को नहीं मिलेगा।

अब कोर्ट के फैसले के बाद पाकिस्तान की जनता टिक टॉक पर अपने पसंदीदा वीडियो को बना कर शेयर कर सकेंगे। बता दें कि पाकिस्तान में अक्टूबर 2020 में टिक टॉक पर बैन लगाया था।

यह भी पढ़ें :- China पर डिजिटल स्‍ट्राइक! जानिए, Tik Tok समेत 59 चीनी Apps पर सरकार ने क्यों लगाया बैन?

पाकिस्तान सरकार ने आपत्तिजनक कंटेंट दिखाने को लेकर टिक टॉक को बैन कर दिया था। सरकार ने कहा था कि जिस तरह के कंटेंट टिक टॉक पर दिखाया जा रहा है उससे देश के नैतिक मूल्यों पर खराब असर पड़ रहा है। लिहाजा , सरकार ने टिक टॉक को बैन करने का फैसला लिया है।

कोर्ट में सुनवाई के दौरान वरिष्ठ अधिकारी तारिक गंडापुर ने कहा कि आपत्तिजनक कंटेंट को शेयर होने से रोकने के लिए इस पर बैन लगाया था। मालूम हो कि पाकिस्तान की जनता ने करीब 39 मिलियन बार टिक टॉक को डाउनलोड किया है।

युवाओं ने किया फैसले का स्वागत

आपको बता दें कि वीडियो शेयरिंग ऐप टिक टॉक पाकिस्तान के युवाओं के बीच, खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में काफी लोकप्रिय है। अब टिक टॉक पर लगा बैन हटने से पाकिस्तान के युवाओं में खुशी की लहर दौड़ गई है। युवाओं ने कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है।

इधर, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के सलाहकारों में से एक का कहना है कि लड़कियों के साथ होने वाले शारीरिक और मानसिक शोषण के लिए टिक टॉक पर दिखाए जाने वाले कंटेंट काफी हद तक जिम्मेदार है।

यह भी पढ़ें :- Egypt: Tik Tok स्टार समा-एल मासरी पर अश्लीलता फैलाने का आरोप, 3 साल की जेल के साथ 14 लाख रुपये का जुर्माना

बहरहाल, कोर्ट के इस फैसले के बाद से टिक टॉट का राहत मिली है और पाकिस्तान के युवा एक बार से अपनी रूचि और क्रिएटिविटी के हिसाब से वीडियो बनाकर शेयर कर पाएंगे। मालूम हो कि भारत ने भी पिछले साल टिक टॉक समेत करीब 100 से अधिक चीनी ऐप पर बैन लगाया है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned