Pakistan: पेशावर स्थित Rishi Kapoor का पैतृक बंगला हो सकता है ध्वस्त, सरकार ने संग्राहलय में बदलने का किया था वादा

HIGHLIGHTS

  • कपूर हवेली ( Kapoor Haveli ) का मौजूदा मालिक हाजी मुहम्मद इसरार ( Owner Haji Muhammad Israr ) इसे ध्वस्त कर एक वाणिज्यिक परिसर बनाना चाहते हैं।
  • ऋषि कपूर की गुजारिश पर पाकिस्तान सरकार ( Pakistan Government ) ने 2018 में पेशावर के किस्सा खवानी बाजार ( Qissa Khwani Bazar ) स्थित कपूर हवेली को एक संग्रहालय ( Museum ) में बदलने का फैसला किया था।

 

By: Anil Kumar

Updated: 12 Jul 2020, 11:15 PM IST

पेशावर। पाकिस्तान के पेशावर ( Peshwar ) स्थित बॉलीवुड के दिवंगत अभिनेता ऋषि कपूर ( Rishi Kapoor ) का पैतृक बंगला कभी भी ध्वस्त किया जा सकता है। दरअसल, बंगले का मौजूदा मालिक वहां पर एक वाणिज्यिक परिसर बनाना चाहता है। वह पहले भी तीन-चार बार ऐसी कोशिशें कर चुका है, हालांकि कामयाबी नहीं मिली।

इससे पहले ऋषि कपूर की गुजारिश पर पाकिस्तान सरकार ने 2018 में पेशावर के किस्सा खवानी बाजार स्थित कपूर हवेली को एक संग्रहालय में बदलने का फैसला किया था। पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ( Pakistani Foreign Minister Shah Mehmood Qureshi ) ने भी ऋषि कपूर से ये वादा किया था कि पाकिस्तान सरकार इस बंगले को संग्रहालय में तब्दील करेगी।

Rishi Kapoor मरने से पहले रणबीर और रिद्धिमा के साथ जाना चाहते थे पाकिस्तान, लाए थे पेशावर से आंगन की मिट्टी

लेकिन अब जब ऋषि कपूर का निधन ( Rishi Kapoor died ) हो गया है तो हवेली के मौजूदा मालिक हाजी मुहम्मद इसरार ( Kapoor Haveli owner Haji Muhammad Israr ) इसे ध्वस्त कर एक वाणिज्यिक परिसर बनाना चाहते हैं। हाजी मुहम्मद इसरार पेशवर शहर के एक समृद्ध जौहरी हैं।

हवेली को खरीदना चाहती है खैबर पख्तूनख्वा की सरकार

आपको बता दें कि खैबर पख्तूनख्वा प्रांत ( Khyber Pakhtunkhwa Province ) की सरकार इस हवेली के ऐतिहासिक महत्‍व को देखते हुए इसे पर्यटकों के लिए संरक्षित करना चाहती है। लिहाजा सरकार इस हवेली को खरीदना चाहती है। दूसरी तरफ हाजी महम्मूद इसरार इसको ध्वस्त कर इसकी जगह पर वाणिज्यिक भवन ( Commercial building ) बनाना चाहते हैं और वह पहले भी तीन-चार बार ऐसी कोशिशें कर चुके हैं।

पाकिस्‍तान: पेशावर के सुनेहरी मस्जिद में महिलाएं अदा करेंगी नमाज, 25 साल बाद वापसी

इसरार अब तक अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सका है, क्योंकि खैबर पख्तूनख्वा के धरोहर विभाग ( Heritage Department of Khyber Pakhtunkhwa ) ने उनके खिलाफ FIR दर्ज करा दी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सरकार और इसरार के बीच हवेली की कीमत को लेकर अभी बात नहीं बन पाई है, जिसके कारण हवेली को संग्रहालय में तब्दील करने का प्रक्रिया अभी अटकी हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, हवेली की कीमत पांच करोड़ रुपये से अधिक बताई जाती है। हालांकि अब हवेली की दशा बेहद जर्जर हो चुकी है और कभी भी गिर सकती है।

गौरतलब है कि बॉलीवुड अभिनेता पृथ्वीराज कपूर ( Bollywood Actor Prithviraj Kapoor ) के पिता बशेश्‍वरनाथ कपूर ने इस हवेली को बनवाया था। लेकिन जब 1947 में देश का विभाजन हुआ तो वे सब भारत आ गए। ऋषि कपूर 1990 में पेशावर स्थित अपने पैतृक आवास गए थे। इसी हवेली में ऋषि कपूर के दादा पृथ्वीराज और पिता राज कपूर ( Raj Kapoor ) का जन्म हुआ था।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned