पाक के पूर्व सीनेटर का बयान, अफगानिस्तान में तालिबान की जीत से बहुत खुश होगा पाकिस्तान

पूर्व सीनेटर अफरासिआब खटक ने मीडिया से बात कर कहा कि पाकिस्तान पूरी तरह से तालिबान का समर्थन कर रहा है।

By: Mohit Saxena

Published: 16 Aug 2021, 06:37 PM IST

इस्लामाबाद। आतंकी संगठन तालिबान (Taliban) के अफगानिस्तान (Afghanistan) पर कब्जे का पाकिस्तान जश्न मना रहा है। इससे पहले अफगानिस्तान सरकार लगातार दावा करती रही है कि पाकिस्तान आतंकवादियों की मदद कर रहा है। यहां तक की तालिबान लड़ाकों के बीच पाकिस्तान सैनिकों को भी देखा गया।

अफगान सेना ने इस बात के कई सबूत भी दिए हैं। तालिबान से लड़ाई में कई पाक लड़कों को भी मार गिराया गया है। अब पाकिस्तान के पूर्व सीनेटर ने कुछ ऐसा बोल दिया है कि जिसने पाकिस्तान की खुशी को पुख्ता कर दिया है।

पाकिस्तान के पूर्व सीनेटर अफरासिआब खटक ने अफगानिस्तान में पाकिस्तान के रोल को लेकर अपनी बात रखी है। उन्होंने मीडिया से बात कर कहा कि ‘पाकिस्तान पूरी तरह से तालिबान का समर्थन कर रहा है। तालिबान एक तरह से अफगानिस्तान में पाकिस्तान का स्ट्रेटजिक सहयोगी भी है। पाक, तालिबान को आगे बढ़ता देख बहुत खुश है।

ये भी पढ़ें: जब तालिबान ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद नज़ीबुल्लाह को मारकर लटकाया था ट्रैफिक लाइट के खंभे से

तालिबान ने पाकिस्तान के खतरनाक अपराधी को किया रिहा

इस बीच अफगान मीडिया के अनुसार, तालिबान ने जिन कैदियों को काबुल की जेल से रिहा करा है, उनमें तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (Tehreek-e-Taliban Pakistan) का डिप्टी चीफ फकीर मुहम्मद (Faqir Muhmmad) भी है।

ये भी पढ़ें: Afghanistan Crisis: काबुल एयरपोर्ट पर गोलीबारी में सात की मौत, उड़ते विमान से गिरे तीन लोग

फकीर मुहम्मद पाकिस्तान की मोस्ट वांटेड आतंकी की लिस्ट में हैं। फकीर मुहम्मद साल 2013 से अफगानिस्तान की जेल में कैद था। पाकिस्तान की केंद्रीय मंत्री जरताज गूले ने रविवार को अफगानिस्तान पर तालिबान के नियंत्रण को लेकर खुशी का इजहार किया है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता दिवस पर ये भारत के लिए तोहफा है.

तालिबानी आतंकियों का राष्ट्रपति भवन पर कब्जा

अफगानिस्तान के काबुल में स्थित राष्ट्रपति भवन पर तालिबान के आतंकवादियों का कब्जा हो चुका है। अफगानिस्तान में 20 वर्ष तक चले संघर्ष के बाद अमरीका की आर्मी (US Army) के निकलने का सिलसिला शुरू हुआ। इसके बाद से आतंकवादियों ने पूरे क्षेत्र पर अपना कब्जा जमाना शुरू कर दिया। यह कब्जा काफी तेजी से हुआ, इसमें हजारों आम नागरिक भी मारे गए। आखिर में आतंकियों ने काबुल पर अपना कब्जा जमा लिया।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned