PoK के नेता ने गिलगिट-बाल्टिस्तान के चुनाव को बताया फर्जी, कहा- जम्मू-कश्मीर से सबक ले पाकिस्तान

HIGHLIGHTS

  • Gilgit-Baltistan Election: PoK के नेता अमजद अयूब मिर्जा ने गिलगिट-बाल्टिस्तान में हुए चुनाव को फर्जी करार दिया है।
  • अयूब मिर्जा ने कहा कि जम्मू-कश्मीर (भारत) में हुए पहले फेज के जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव से पाकिस्तान को सबक लेना चाहिए।

By: Anil Kumar

Updated: 29 Nov 2020, 07:58 PM IST

इस्लामाबाद। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) के गिलगिट-बाल्टिस्तान में इमरान खान की सरकार ने बीते 15 नवंबर को विधानसभा के लिए गैरकानूनी तरीके से चुनाव कराए थे, लेकिन तमाम विपक्षी दलों ने इमरान खान की पार्टी PTI पर धांधली का आरोप लगाया।

अब PoK के एक नेता ने ही इमरान खान की पोल खोल कर रख दी है। दरअसल, PoK के नेता अमजद अयूब मिर्जा ( Amjad Ayub Mirza ) ने गिलगिट-बाल्टिस्तान में हुए चुनाव ( Gilgit-Baltistan Election ) को फर्जी करार दिया है और कहा कि पाकिस्तान को जम्मू-कश्मीर (भारत) में हुए पहले फेज के जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव से सबक लेना चाहिए।

Pakistan: इमरान खान को करारा झटका, गिलगिट-बाल्टिस्तान को नहीं मिलेगा राज्य का दर्जा!

अमजद अयूब मिर्जा ने कहा कि यह PoK का दुर्भाग्य है कि वह पाकिस्तान शासन के कब्जे में है। भारत के जम्मू-कश्मीर में शांतिपूर्ण तरीके से DDC के लिए पहले फेज का चुनाव कराया गया। वहां पर निष्पक्ष तरीके से चुनाव कराए गए हैं, कहीं पर भी हिंसा की कोई खबर नहीं आई। अब वहां की आवाम की विकास कार्य में सीधी भागीदारी होगी।

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से ठीक उल्ट गिलगिट-बाल्टिस्तान में हुए चुनाव में जनता के साथ अत्याचार किया गया, चुनाव में धांधली हुई, बैलट बॉक्स की चोरी हुई और वोटर लिस्ट में मनमानी की गई।

अयूब मिर्जा ने कहा कि पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के एक हिस्से (गिलगिट-बाल्टिस्तान) पर अवैध तरीके से कब्जा जमा रखा है। पाकिस्तान के शसान में वहां पूरी तरह से लोकतांत्रिक व्यवस्था खत्म हो गई है और इसका खामियाजा स्थानीय जनता को भुगतना पड़ रहा है।

इमरान खान को गिलगिट-बाल्टिस्तान में झटका

आपको बता दें कि पाकिस्तान अधिकृत जम्मू-कश्मीर ( Jammu And Kashmir ) के गिलगिट-बाल्टिस्तान ( Gilgit Baltistan Election ) में जबरन कराए गए चुनाव में इमरान खान को करारा झटका लगा है।

गिलगिट-बाल्टिस्तान में हुए चुनाव में इमरान खान ( Imran Khan ) की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ और उसकी सहयोगी मजलिस-ए-वाहदत-ए-मुस्लीमीन को 24 सदस्यी विधानसभा में केवल 10 सीटें ही मिली है। ऐसे में यहां पर सरकार बनाने के लिए इमरान खान को संघर्ष करना पड़ेगा। अब इमरान खान 6 अन्य निर्दलीय विधायकों (ये सभी पहले PTI के ही सदस्य रहे हैं) खरीदकर सरकार बनाने की तैयारी कर रहे हैं है।

Pakistan: पंजाब सरकार ने 100 से अधिक Books पर लगाया बैन, देश के Map में नहीं दर्शाया गया POK

आपको बता दें कि यह पहला अवसर है जब केंद्र की सत्ता में काबिज पार्टी को गिलगिट बाल्टिस्तान के चुनाव में पूर्ण बहुमत नहीं मिला हो। 2009 में गिलगिट-बाल्टिस्तान की विधान सभा स्थापित की गई थी।

15 नवंबर को हुए मतदान के लिए मंगलवार को जारी आधिकारिक परिणामों के मुताबिक, इमरान खान की पार्टी PTI को 10, निर्दलीयों को 6 और PPP को एक सीट मिली है। विपक्षी पार्टियों ने चुनाव में धांधली कराने का आरोप इमरान खान पर लगाया था।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned