Pakistan में बारिश का कहर जारी, अब तक 300 से अधिक लोगों की मौत

HIGHLIGHTS

  • पाकिस्तान में बीते दों महीनों में भारी बारिश ( Pakistan Rain ) के बाद बाढ़ और अलग-अलग अन्य घटनाओं में अब तक 300 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 239 लोग घायल हुए हैं।
  • पाकिस्तान की राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन ने जानकारी देते हुए बताया है पूरे देश में बीते दो महीनों से लगातार भारी बारिश के कारण बाढ़, भूस्खलन और अन्य घटनाएं घटित हुई है।

By: Anil Kumar

Updated: 13 Sep 2020, 06:56 PM IST

इस्लामाबाद। मानसून की बारिश ने भारत समेत तमाम पड़ोसी देशों में कहर बरपा रखा है। जहां भारत के कई राज्यों में बाढ़ के हालात हैं, वहीं पड़ोसी देश पाकिस्तान में भी भारी बारिश ( Heavy Rain In Pakistan ) के बाद बाढ़ से जन जीवन बुरी तरह से प्रभावित है।

पाकिस्तान में बीते दों महीनों में भारी बारिश के बाद बाढ़ और अलग-अलग अन्य घटनाओं में अब तक 300 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 239 लोग घायल हुए हैं।

Pakistan में मूसलाधार बारिश के बाद Flood, अब तक 125 की मौत और 71 घायल

पाकिस्तान की राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन ने जानकारी देते हुए बताया है पूरे देश में बीते दो महीनों से लगातार भारी बारिश के कारण बाढ़, भूस्खलन और अन्य घटनाएं घटित हुई है। इन तमाम घटनाओं में अब तक 300 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

राहत-बचाव कार्य जारी

आपको बता दें कि पाकिस्तान में बारिश की वजह से पीड़ित लोगों के बीच राहत-बचाव का कार्य लगातार जारी है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन (NDMA) ने कहा कि प्रभावित क्षेत्रों में बचाव और राहत अभियान चलाया जा रहा है। इसमें सरकारी, सेना और गैर-सरकारी संगठनों के संबंधित विभाग अपने-अपने स्तर पर राहत-बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। बारिश की वजह से खैबर पख्तूनख्वा प्रांत सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ हैं। इस प्रांत में अब तक 48 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 42 अन्य घायल हुए हैं। सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि सिर्फ कराची में 47 लोगों की मौत हुई है।

Pakistan: Punjab प्रांत में Heavy Rain से जनजीवन प्रभावित, अब तक 24 की मौत

उन्होंने कहा था कि अगस्त में कराची में 604 मिमी बारिश दर्ज की गई। मूसलाधार बारिश के कारण बलूचिस्तान में भयावाह स्थिति देखने को मिली है। भूस्खलन की कई घटनाओं और बाढ़ की चपेट में कई घर आने के बाद हजारों लोद बेघर हो गए।

आपको बता दें कि पाकिस्तान में हर साल मानसून की बारिश की वजह से जलप्रलय की घटना देखने को मिलती है। इन घटनाओं से भारी जान-माल का नुकसान होता रहा है। हालांकि सरकार इससे निपटने के लिए संघर्ष करता रहा है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned