Terror Funding मामले में Mumbai Attack के मास्टर माइंड आतंकी Hafiz Saeed के सहयोगियों को बड़ी राहत

HIGHLIGHTS

  • पाकिस्तान ( Pakistan ) की एक कोर्ट ने आतंकी संगठन जमात-उद-दावा ( JuD ) के दो आतंकियों की एक साल जेल की सजा निलंबित कर दी है।
  • लाहौर की आतंकरोधी अदालत ( Lahore counter-terrorism court ) ने बीते जून में अब्दुल रहमान मक्की और अब्दुस सलाम ( Abdul Rahman Makki and Abdus Salam ) को एक साल जेल की सजा सुनाई थी।

By: Anil Kumar

Updated: 13 Aug 2020, 11:59 PM IST

लाहौर। आतंकियों के फंडिंग ( Terror Funding ) मामले में आतंकी हाफिज सईद के सहयोगियों को पाकिस्तान की एक अदालत से बड़ी राहत मिली है। आतंकी संगठन जमात-उद-दावा ( JuD ) के दो आतंकियों की एक साल जेल की सजा निलंबित कर दी है।

ये दोनों आतंकी 2008 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद ( Terrorist Hafiz Saeed ) के बेहद करीबी सहयोगी हैं। बता दें कि लाहौर की आतंकरोधी अदालत ने बीते जून में अब्दुल रहमान मक्की और अब्दुस सलाम को एक साल जेल की सजा सुनाई थी।

Pakistan: इमरान सरकार की खुली पोल, Hafiz Saeed समेत लश्कर व JuD आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर शुरू

कोर्ट ने इन दोनों आतंकियों पर 50,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया था। जुर्मान न भर पाने की स्थिति में कोर्ट ने दोनों कोे 6-6 महीने अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई थी। इसके बाद दोनों ने अपनी सजा के खिलाफ लाहौर हाई कोर्ट में चुनौती दी थी।

टेरर फंडिंग में दोषी हैं दोनों आतंकी

आपको बता दें कि गुरुवार को लाहौर हाई कोर्ट ( Lahore High Court ) ने दोनों की याचिका पर सुनवाई करते हुए दोनों की एक साल जेल की सजा को निलंबित कर दिया। हाई कोर्ट की असजद जावेद गुराल और वहीद खान की पीठ ने सुनवाई करते हुए बचाव और अभियोजन दोनों पक्षों की दलीलें सुनीं। इसके बाद उन्होंने मक्की और सलाम के खिलाफ आतंक रोधी अदालत के फैसले को निलंबित करने का आदेश दिया। इसके अलावा दोनों आतंकियों को जमानत पर रिहा करने का भी आदेश दिया। JuD के दोनों आतंकी कोट लखपत जेल में बंद हैं।

मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को 5 साल की सजा, टेरर फंडिंग मामले में पाकिस्तान की कोर्ट का फैसला

मालूम हो कि आतंकरोधी अदालत ने मक्की और सलाम ( Abdul Rahman Makki and Abdus Salam ) को आतंकी फंडिंग में दोषी करार दिया था। दोनों पर आरोप है कि वे धन संग्रह करते थे और गैरकानूनी करार दिए गए लश्कर-ए- तैयबा की अवैध तरीके से फंडिंग करते थे। जमात-उद-दावा की राजनीतिक और अंतर्राष्ट्रीय मामलों की शाखा के प्रमुख मक्की को प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ सरकार की कार्रवाई के दौरान गिरफ्तार किया गया था।

गौरतलब है कि इससे पहले पिछले महीने ही पाकिस्तान ने हाफिज सईद समेत जमात उद दावा ( JuD ) लश्कर-ए-तैयबा ( LeT ) से जुड़े पांच आतंकी सरगनाओं के बैंक अकाउंट फिर से बहाल कर दिया था। इस आदेश के बाद हाफिज सईद के अलावा अब्दुल सलाम भुट्टवी, हाजी एम अशरफ, याहया मुजाहिद और जफर इकबाल का बैंक अकाउंट फिर से शुरू हो गया।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned