आदर्श घोटाला : निवेशकों का दर्द..., बोले- आरोपी तो पकड़े, पता नहीं हमारी जमा पूंजी कब मिलेगी

- बेटी की शादी के लिए तो किसी ने बच्चों के सुरक्षित भविष्य के लिए जमा करवाए थे रुपए
- सोसायटी में निवेशकों के अटके 14 हजार 628 करोड़ रुपए

By: Suresh Hemnani

Published: 26 Feb 2021, 10:12 AM IST

पाली। देश भर में 14 हजार 628 करोड़ रुपए की ठगी करने वाले आदर्श क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी के पदाधिकारी व सहयोगी जेल की सलाखों तक तो पहुंच गए हैं, लेकिन निवेशकों के दर्द पर अब भी मरहम नहीं लग सका है। किसी ने बेटी की शादी के लिए तो किसी ने बच्चों की पढ़ाई के लिए आदर्श सोसायटी में जमा पूंजी जमा करवाई थी। अब निवेशकों का एक ही सवाल हैं कि पुलिस ने आरोपियों को तो पकड़ लिया, लेकिन उन्हें निवेश की गई राशि कब मिलेगी।

20 लाख निवेशकों ने जमा करवाई थी मेहनत की पूंजी
एसओजी की जांच में सामने आया था कि आदर्श क्रेडिट सोसायटी की देश के 28 राज्यों में 806 शाखाएं थी। वीरेन्द्र मोदी ने अपने भाई मुकेश मोदी व भरत मोदी के साथ देश भर में यह शाखाएं खोली थी। सोसायटी में करीब 20 लाख निवेशकों के करीब 14 हजार 800 करोड़ अटके हुए हैं।

हादसे में बेटे की मौत, क्लेम राशि जमा करवाई, अब अटक गई एफडी
शहर के खोडिया बालाजी आशापुरा नगर निवासी पुखराज पुत्र उदाराम सरगरा ने बताया कि वर्ष 2016 में फैक्ट्री में काम करते समय बेटे ललित पंवार पर माल ले जाने वाली लिफ्ट गिर गई, जिससे मौत हो गई। क्लेम में मिले साढ़े छह लाख रुपए आदर्श सोसायटी में जमा करवाए। लेकिन, एफडी की अवधि पूर्ण हुए एक वर्ष से अधिक बीत गया, लेकिन ब्याज तो दूर, मूल धन तक नहीं मिला।

बच्चे पढ़ाई कर कुछ बन सके, इसलिए जमा करवाए थे रुपए
जाडन के निकट इन्द्रा नगर निवासी सुरेश ओड पुत्र भंवरलाल ओड ने बताया कि वह अनपढ़ है। कमठा मजदूरी कर परिवार चलाता है। बच्चों को पढ़ा-लिखाकर रोजगार के लायक बनाने के लिए आदर्श सोसायटी में 50-50 हजार की करीब सात लाख रुपए की एफडी थोड़े-थोड़े रुपए जोडकऱ करवाई थी। कई एफडी की अवधि पूर्ण हो चुकी हैं, लेकिन सोसायटी से राशि वापस नहीं मिली। अब कोई कुछ नहीं बता पा रहा है।

मैकेनिक का काम करता हूं, मूलधन मिले तो भी मिले राहत
पाली के सुंदर नगर निवासी इरफान ने बताया कि वह आठवीं पास है। फोर व्हीलर मैकेनिक का काम करता हूं। तीन बच्चे है। उनके सुरक्षित भविष्य के लिए सोसायटी की जालोर व पाली शाखा में तीन लाख रुपए की एफडी व आरडी जमा करवाई थी। लेकिन राशि अटक गई। पुलिस ने आरोपियों को तो पकड़ लिया लेकिन हम मजदूरों की जमा पूंजी हमें अब तक नहीं मिल पाई है।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned