पढे़ : जिले में एक विद्यालय एेसा जहां कक्षा में जलता है अलाव, तम्बू में बैठकर पढ़ते है बच्चें

- नायकों की ढाणी में तम्बू में बैठकर पढ़ते हैं बच्चे

- नहीं सुलभ हो पाया विद्यालय भवन

By: Avinash Kewaliya

Published: 09 Dec 2017, 01:54 PM IST

झिंंझारडी (मारवाड़ जंक्शन).

झिंझारडी ग्राम पंचायत की नायकों की ढाणी में एक ऐसा विद्यालय संचालित हैं जहां के विद्यार्थी प्लास्टिक के तम्बू के नीचे अध्ययन करते है । जिसके कारण इन दिनों पड़ रही कड़ाके की ठण्ड में बच्चों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। भवन के अभाव में इन बच्चों का खुले आसमान के नीचे बैठना मजबूरी है। सर्दी से बचाव के लिए कक्षा में ही अलाव जला लिया जाता है। जिसकी गरमाहट से बच्चों का थोड़ी सर्दी से राहत मिलती है। झिंझारडी ग्राम पंचायत की नायकों की ढाणी में स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय का भवन नहीं बना हुआ है। इसके कारण विद्यालय का संचालन प्लास्टिक के तंबू के नीचे किया जाता है पहले घासफूस से बने तंबू में अध्ययन करते थे परन्तु बारिश के मौसम के कारण ग्रामीणों ने सहयोग करके ये तंबू बनाया था। ये स्थिती लगभग चार साल से है। यह विद्यालय 01 मई 2013 से संचालित है। इस विद्यालय में 18 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। मामला अधिकारियों की जानकारी में होने के बावजूद अब तक किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है। इन दिनों पड़ रही कड़ाके की सर्दी में बच्चों की हालत खस्ता कर दी है। यहां पर कार्यरत एक शिक्षक ने बच्चों की हालत को देखते हुए अलाव का जुगाड़ किया। बच्चे अलाव के चारों ओर बैठकर अध्ययन करते हैं। कक्षा के बीच में अलाव जलता रहता है। जिसकी गरमाहट से बच्चों का पढने में थोड़ी राहत मिलती है।

आते हैं जहरीले जानवर

विद्यालय भवन नहीं होने के कारण बच्चों को नीचे जमीन पर बैठकर ही अध्ययन करना पड़ता है। आस-पास जंगल व पहाड़ी इलाका होने के कारण छोटे बड़े जहरीले जानवर भी आ जाते हैं। ऐसे में बच्चों सहित अभिभावकों में भय बना रहता है।

सन्दूक में रखते हैं कागजात

विद्यालय भवन निर्माण के अभाव में इस विद्यालय से सम्बंधित सरकारी दस्तावेजों को शिक्षक पहले रोजाना साथ लेकर जाते थे। ग्रामीणो ने सहयोग कर एक संदूक खरीद कर विद्यालय को भेंट किया। इससे अब सारे दस्तावेज उसमें रखे जाते हैं। यह संदूक उसी तम्बू के नीचे पड़ी रहती है।

एक मकान में बनता है पोषाहार

विद्यालय का भवन नहीं होने के कारण पोषाहार बनाने के लिए पास स्थित एक ग्रामीण के मकान का सहारा लेना पड़ रहा है। वहीं पर पोषाहार की सामग्री को रखा जाता है तथा वहीं पर बनाया जाता है।

फाइलों में अटका विद्यालय भवन निर्माण

विद्यालय के भवन निर्माण के लिए जिला कलक्टर द्वारा जमीन आवंटित कर पट्टा भी जारी कर दिया, परन्तु अभी तक भवन नहीं बना है।

इन्होंने कहा

इस भवन निर्माण के लिए दस्तावेज तैयार कर स्वीकृती के लिए उच्च अधिकारियों को जयपुर भिजवाया है। स्वीकृती आते ही भवन निर्माण कार्य शुरू करवा दिया जाएगा। इस जमीन पर विद्यार्थियों के लिए शौचालयों का निर्माण करवा दिया गया है।

जौहरीमल वर्मा, ब्लॉक प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी, मारवाड़ जंक्शन

 

Avinash Kewaliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned