गर्जना के साथ पहाड़ फाड़ कर विराजमान हुई ‘गाजण माता’

-पाली जिले के रोहट क्षेत्र के धर्मधारी के निकट पहाड़ी पर स्थित गाजण माता मंदिर

By: Suresh Hemnani

Updated: 23 Oct 2020, 09:55 AM IST

-प्रमोद दवे
पाली/रोहट। पाली जिले के रोहट उपखंड क्षेत्र के गाजनगढ़ पहाड़ी पर स्थित गाजण माता का मंदिर जन-जन की आस्था का केन्द्र है। इस मंदिर में माता की सात प्रतिमाएं है। माता के दरबार में अखण्ड ज्योत जलती है। धर्मधारी गांव के निकट गाजण माता पहाड़ी सन् 960 की आसोज शुक्ला नवमी तिथि यह गांव परिहार शासक नाहर राव की ओर से ठाकुर करपाल पांचलोड राजपुरोहित को दिया गया।

गांव का ताम्र पत्र आज भी मौजूद है। रमणीया गांव से धर्मधारी आए ठाकुर करपाल देव राजपुरोहित ने गांव की छड़ी रोपी। इसके काफी समय बाद मंडोर के राजा नाहरराव परिहार की बारात मंडोर से सिरोही की ओर रवाना हुई। उस समय राजा नाहरराव चामुण्डा माता को अपने साथ चलने को कहा तो माता ने मना कर दिया। इस पर राजा ने मंडोर से बारात ले जाने से मना कर दिया। इसके बाद माता ने कहा कि मैं साथ चले के लिए तैयार हूं, लेकिन रास्ते में मुझे मेरे किसी भक्त ने रोक दिया तो मैं वही रूक जांऊगी। राजा ने शर्त मंजूर कर ली। हाथी, घोड़ों और नगाड़ों के साथ बारात रवाना होकर धर्मधारी कांकड में आ गई। वहां कृपालदेव राजपुरोहित एक हजार गायों को चरा रहे थे।

हाथी-घोड़ों व नगाड़ों की आवाज सुनकर गाये भडक़ गई और भागने लगी। कृपालदेव जी ने उन गायों को बोला हे मां रूक जा, हे मां रूक जा...यह ध्वनि बारात में आई माता चामुण्डा ने सुन ली तो अपने सिंह को वही रोक दिया। राजा नाहरराव ने माता से रूकने का कारण पूछा तो उन्होंने वचन के बारे में बताया। राजा को बारात लेकर जाने को कहा। कृपालदेव राजपुरोहित ने राजा नाहरराव से कहा कि आप तोरण वंदन के समय सावधानी रखे। वहां पोल का झरोखा गिर जाएगा। राजा के विवाह के लिए तोरण वंदन के समय ऐसा ही हुआ।

इस पर वापस लौटते समय राजा ने कृपालदेव को देवी की पूजा करने का जिम्मा सौंंपा, लेकिन कृपालदेव ने मना कर दिया। उन्होंने कहा कि इस पत्थर की पूजा मैं नहीं करूंगा। इस पर चामुण्डा माता तेज गर्जना के साथ पहाड़ फाडकऱ विराजमान हो गई। इसी कारण गाजण माता कहलाई। कृपालदेव देवी के चरणों में गिरे और कहां मैं हमेशा आपकी सेवा करूंगा। राजा नाहरराव ने दस हजार बीघा भूमि व धर्मधारी गांव ताम्र पत्र पर लिख कर दिया।

गाजण माता परिहार गौत्र की कुलदेवी है। यहां एक गोशाला भी है। मंदिर में राजपुरोहित परिवार के लोग पूजन करते हैं। पहाड़ी पर पैंथर होने की भी मान्यता है, लेकिन वह आज तक पकड़ा नहीं जा सकता है। हालांकि ग्रामीणों ने कई बार पैंथर को भी देखा है।

Suresh Hemnani Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned