बीकानेर से जुड़े तार, सरगना ने पेपर हल कर 95 प्रतिशत सही जवाब भेजे, शाम तक भेजता रहा, उगले कई राज

- एसआइ परीक्षा पेपर आउट एवं नकल प्रकरण
- पाली में दोनों आरोपी रिमाण्ड पर
- बीकानेर में मुख्य सरगना से एडवांस में लिए रुपए बरामद

By: Suresh Hemnani

Updated: 15 Sep 2021, 04:27 PM IST

पाली/बीकानेर। राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से चल रही पुलिस उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा के पहले ही दिन पाली में पकड़े गए दोनों आरोपियों व बीकानेर में पकड़े गए नकल गिरोह के आरोपियों को न्यायालय में पेश कर रिमांड पर लिया गया है। बीकानेर पुलिस ने निजी स्कूल के सचिव से एडवांस में ली गई राशि बरामद कर ली है। पुलिस आरोपियों से नकल गिरोह के सरगनाओं के बारे में पता लगाने का प्रयास कर रही है। पुलिस को आशंका है कि इस गिरोह के तार प्रतियोगी परीक्षाओं में नकल कराने वाले किसी अंतरराज्यीय गिरोह से जुड़े हैं।

पाली पुलिस अधीक्षक कालूराम रावत, एएसपी विपिन शर्मा व कोतवाली प्रभारी गौतम जैन ने बताया कि इस पूरे प्रकरण के तार बीकानेर से जुड़े हैं। दोनों आरोपी बीकानेर निवासी राजेश विश्नोई व नरेन्द्र खिंचड़ ने बीकानेर में एक कोचिंग क्लास के संचालक को पेपर के बदले पांच लाख रुपए दिए। उसने इस पेपर को हल कर वाट्सएप पर 95 प्रतिशत उत्तर सही भेजे। इस बीच पाली में आरोपी पकड़े गए। पेपर भेजने वालों को इसकी भनक नहीं लगी, वह शाम तक पेपर हल कर भेजता रहा। पाली पुलिस ने सबसे पहले यह कार्रवाई की, इसके बाद इसकी सूचना बीकानेर पुलिस को दी, तब जाकर पूरा गिरोह पकड़ में आया। दोनों आरोपियों से पूछताछ जारी है।

दोनों नाबालिग मोबाइल चलाने में माहिर
बीकानेर पुलिस के अनुसार गिरोह में शामिल दोनों नाबालिग मोबाइल चलाने में माहिर है। इसी कारण दोनों को पेपरों के प्रश्नों का उत्तर देने के साथ ही इन्हें क्रॉस चेक करने का जिम्मा दे रखा थ। राजस्थान स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप एसओजी की सूचना पर पुलिस ने मुरलीधर व्यास कॉलोनी के एक मकान से आरोपियों को पकड़ा था।

महीनेभर पहले ही साजिश
बीकानेर व पाली पुलिस जांच में सामने आया है कि पुलिस उप निरीक्षक परीक्षा भर्ती का पेपर आउट करने की साजिश करीब एक महीने पहले बन गई थी। श्री रामसहाय आदर्श सैकंडरी स्कूल के सचिव दिनेश सिंह चौहान और राजाराम उर्फ राजा बिश्नोई ने कब पेपर निकालना है, यह तय कर चुके थे। प्रश्न-पत्र को हल करने के लिए शिक्षक नरेशदान चारण से भी बात हो गई थी। गिरोह के सरगनाओं का पता लगाने के लिए पुलिस आरोपियों के मोबाइल खंगाल रही है। गिरोह में शामिल पाली में राम नगर स्थित भारतीय विद्या मंदिर सेंटर के आगे खड़ा युवक अंदर परीक्षा दे रहे दूसरे युवक राजेश बेनीवाल को उत्तर बता रहा था।

क्रॉस चेक के बाद आगे भेज रहे थे उत्तर
नयाशहर थाना प्रभारी गोविन्द सिंह चारण ने बताया कि आरोपी परीक्षा पत्र में आए सवालों के उत्तर लिखने और उन्हें गुगल के जरिए क्रॉस चेक कर रहे थे ताकि कोई उत्तर गलत न हो। इस मामले के कई पहलूओं की जांच में पता चला है कि रामपुरा स्थित रामसहाय आदर्श स्कूल के सेंटर से पेपर सिर्फ इस गैंग को ही भेजे गए थे या फिर किसी अन्य को भी दिए गए। इस बाबत पुलिस अभी जांच कर रही है।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned