सरकार ने चना की खरीद से खींचे हाथ तो यहां के किसानों को लगेगा 12 करोड़ का फटका

- समर्थन मूल्य पर चना की खरीद हुई बंद
- जिलेभर में तीन हजार किसानों की उपज की तुलाई होना शेष

By: Suresh Hemnani

Published: 29 Jun 2020, 01:54 PM IST

पाली। समर्थन मूल्य पर चना बेचने का सपना संजोए बैठे किसानों के अरमानों पर पानी फिरता नजर आ रहा है। सरकार के निर्देश पर किसानों ने चना की उपज बेचने के लिए रजिस्ट्रेशन तो करवा दिया, लेकिन राजफैड की ओर से टोकन जारी नहीं होने से खरीद प्रक्रिया अटक गई है। इससे जिले के करीब तीन हजार किसान प्रभावित होंगे। इधर, राजफैड के अधिकारियों के मुताबिक खरीद का कोटा पूरा हो चुका है।

दरअसल, राजफैड की ओर से चना की उपज समर्थन मूल्य पर खरीदी जा रही है। लेकिन, समर्थन मूल्य पर चने की खरीद बंद हो गई है। जिले में शेष रहे 3000 किसानों का समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए रजिस्टे्रशन तो हो रखा है। लेकिन राजफैड की ओर से टोकन जारी नहीं होने से खरीद बंद हो गई है। तीन हजार किसानों का करीब 1 लाख 20 हजार क्विंटल चना तुलाई होना शेष है। समर्थन मूल्य पर जहां किसानों से 4800 रुपए क्विंटल के हिसाब से खरीद की जा रही है, वहीं बाजार में इसके भाव 3800 रुपए ही दिए जा रहे हैं। ऐसे में राजफैड की ओर से टोकन जारी नहीं होने पर किसानों की इस उपज की तुलाई नहीं हुई तो उन्हें करीब 10 से 12 करोड़ रुपए का नुकसान होगा।

बाजार में मिल रहे कम भाव
जहां किसानों को चना का समर्थन मूल्य प्रति क्विंटल 4800 रुपए दिया जा रहा है, वहीं बाजार में भाव काफी कम है। जानकारों की मानें तो बाजार में प्रति क्विंटल के हिसाब से 3800 रुपए ही दिए जा रहे हैं। यदि किसानों से सरकार ने समर्थन मूल्य पर चना की उपज नहीं खरीदी तो उन्हें मजबूरन बाजार में जाना पड़ेगा। इधर, बारिश में भी चना के खराब होने का अंदेशा रहता है। ऐसे में किसानों पर दोहरी मार पड़ रही है।

खरीद का लक्ष्य पूरा
नेफेड को जितना चना खरीदना था। उतनी खरीद पूरी हो गई है। इस कारण से राजफैड की ओर से चना खरीद के लिए टोकन जारी करना बंद किया गया है। हालांकि, समर्थन मूल्य पर जिन किसानों का रजिस्टे्रशन हो रखा है। उन किसानों की उपज खरीद के लिए उच्च अधिकारियों को फाइल बना कर भेजी हुई है। वहां से आदेश मिलते ही खरीद के लिए टोकन जारी किए जाएंगे। - हेमेन्द्रसिंह, क्षेत्रीय अधिकारी, राजफैड जोधपुर

राजफैड नहीं दे रहा टोकन
राजफैड की ओर से खरीद के लिए टोकन बंद हुए है। राजफैड की ओर से चने की उपज की खरीद के लिए टोकन जारी होते हैं तो किसानों की उपज की खरीद फिर से शुरू कर देंगे। -सुभम जैन, रजिस्ट्रार, सहकारियां समितियां पाली

इधर, सुकरलाई ने सीएम व मंत्री को भेजा पत्र
इस मामले में कांग्रेस नेता महावीरसिंह सुकरलाई ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना को पत्र लिखकर समर्थन मूल्य पर किसानों की उपज खरीदने की मांग दोहराई है। उन्होंने मंत्री से दूरभाष पर भी बात की है। उन्होंने बताया कि पाली व रोहट तहसील के 6352 काश्तकारों ने चना बेचान के लिए राजफैड में पंजीयन कराया था। लगभग 3500 किसानों की उपज की तुलाई की जा चुकी है और लगभग 3000 किसानों की उपज की तुलाई होना शेष है। ऐसे में किसान संकट में हैं।

Suresh Hemnani Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned