हाल ए जलदाय विभाग : ढाई हजार उपभोक्ता उधारी में गटक रहे पानी, चार लाख बकाया, स्टाफ का टोटा

- पाली जिले के रायपुर कस्बे का मामला

By: Suresh Hemnani

Published: 21 Nov 2020, 05:30 PM IST

पाली/रायपुर मारवाड़। जिले के रायपुर कस्बे की जनता पिछले एक साल से उधारी में पानी गटकती आ रही है। हालात ये कि ढाई हजार उपभोक्ताओं से चार लाख रुपए की रिकवरी की जानी है। इधर, जलदाय विभाग के पास स्टाफ की कमी होने से रिकवरी करने में दिक्कत आ रही है।

राज्य सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में पानी के बिलों को माफ कर रखा है। स्थानीय कस्बा जलदाय विभाग के रिकॉर्ड में अरबन श्रेणाी में दर्ज है। जिससे कस्बे की जनता को पानी का बिल चुकाना पड़ता है। विभाग द्वारा कस्बे में ढाई हजार उपभोक्ताओं को पानी का कनेक्शन दे रखा है। पिछले एक साल से अधिकांश उपभोक्ताओं ने बिल नहीं चुकाया है। वर्तमान में विभाग को कस्बे से चार लाख रुपए की रिकवरी करनी है।

रिटायर्ड होते ही पद रिक्त
जलदाय विभाग में पिछले लम्बे समय से भर्ती प्रक्रिया बंद हो रखी है। ऐसे में कार्मिक के रिटायर्ड होते ही वह पद हमेशा के लिए रिक्त हो जाता है। कस्बे के सहायक अभियंता कार्यालय की बात करें तो वर्तमान में एइएन, तीन जेएइएन, एक यूडीसी, दो एलडीसी सहित 47 कार्मिक ही पदस्थापित हैं। कार्मिकों की कमी की वजह से क्षेत्र में जल वितरण व्यवस्था व बिल राशि रिकवर करने में विभाग के अधिकारियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

चार लाख की रिकवरी शेष
कस्बे में ढाई उपभोक्ताओं को कनेक्शन दे रखा है। अधिकांश उपभोक्ता से राशि बकाया है। जिनसे चार लाख रुपए रिकवर करने हैं। स्टाफ की कमी के चलते रिकवरी करने में दिक्कत हो रही है। हम रिकवरी का पूरा प्रयास कर रहे हैं। ये बात भी सही है कि कार्मिक के रिटायर्ड होते ही वह पद हमेशा के लिए रिक्त हो रहा है। इससे हर साल स्टाफ कम होता जा रहा है। -डीआर. ऩोगिया, एइएन, पीएचइडी, रायपुर

Suresh Hemnani Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned