scriptCounting of wildlife will be done after two years on waterholes | वॉटरहॉल्स पर दो साल बाद होगी वन्यजीवों की गणना | Patrika News

वॉटरहॉल्स पर दो साल बाद होगी वन्यजीवों की गणना

- हर साल बुद्ध पूर्णिमा को होती है वन्य जीव गणना (wildlife)

पाली

Published: May 02, 2022 08:25:26 pm

- 16-17 मई को है बुद्ध पूर्णिमा
सादड़ी। कुम्भलगढ़ वन्यजीव अभयारण्य व वन्य क्षेत्रों में वन्य जीवों की हलचल और उनकी गणना को लेकर वॉटरहॉल्स सेंसर पद्धति पर हर साल बुद्ध पूर्णिमा को वन विभाग द्वारा गणना की जाती है। इस बार तय कार्यक्रम के अनुसार यह गणना बुद्ध पूर्णिमा पर 16-17 मई को होगी। इससे पूर्व बारिश हो जाती है तो नए प्राकृतिक जलस्त्रोत बनने की स्थिति में इस कार्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी हैं।
वॉटरहॉल्स पर दो साल बाद होगी वन्यजीवों की गणना
वॉटरहॉल्स पर दो साल बाद होगी वन्यजीवों की गणना
वर्ष 2020 में यह वन्यजीव गणना कोरोना संकट तो वर्ष 2021 में गणना पूर्व हुई बारिश से बने नए जलस्त्रोतों के कारण स्थगित कर दी गई थी। इस बार बुद्धपुर्णिमा पर तय कार्यक्रम अनुसार 16 मई सुबह 8 बजे से 17 मई सुबह 8 बजे तक यह वन्य जीव गणना होगी। गत वर्ष बारिश न्यूनतम व अकाल होने से इस बार कई प्राकृतिक जलस्रोत में पानी नहीं होने से गणना के चिन्हित पेयजलस्रोत घट सकते हैं। अभयारण्य की बोखाडा, कुम्भलगढ़, सादडी, देसूरी व झीलवाड़ा रेंज में विभाग से चिन्हित 153 वॉटर हॉल्स हैं। ये बरसाती पानी के भराव या विभाग द्वारा वन्य जीवों को पेयजल मुहैया करवाने के लिए तैयार किए गए कृत्रिम व प्राकृतिक पेयजल स्रोत हैं। जहां पर वन्य जीव नियमित या यदाकदा पानी पीने पहुंचते हैं। वन्यजीवों के आकलन को लेकर वनविभाग प्रतिवर्ष बुद्ध पूर्णिमा को विभागीय टीम व गणक द्वारा गणना की जाती है।
इन्होंने कहा
बुद्ध पूर्णिमा की चांदनी रात में ही वॉटर सेंसेस पद्धति पर वन्यजीव गणना होती है। पिछले दो साल से कोरोना संकट व गणना पूर्व बारिश के कारण गणना स्थगित की गई। इस साल गणना 16 मई को करना तय है। इसको लेकर वन्य जीवप्रेमी व वनकर्मिकों को सम्भाग स्तर पर प्रशिक्षण दिया जाएगा। - किशनसिंह राणावत, क्षेत्रीय वन अधिकारी, कुंभलगढ़ वन्यजीव अभयारण्य रेंज सादड़ी
विभागीय निर्देशानुसार बुद्धपुर्णिमा को विभागीय कार्मिकों को अक्षांश व देशांतर मानक ङ्क्षबदुओं पर वाटरहॉल्स चिन्हीकरण एवं खाली पेयजल स्रोत को सफाई कर भरवाने के निर्देश दिए हैं। इन जलबिन्दुओं पर वन्यजीवों की आवाजाही सुनिश्चित बन जाए। - भैरूसिंह राठौड़, कार्यवाहक सहायक वन संरक्षक, रेंज देसूरी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंIPL 2022 RCB vs GT live Updates: गुजरात ने बेंगलुरु को दिया जीत के लिए 169 रनों का लक्ष्य6 साल की बच्ची बनी AIIMS की सबसे कम उम्र की ऑर्गन डोनर; 5 लोगों को दिया नया जीवनGyanvapi Masjid-Shringar Gauri Case: सुप्रीम कोर्ट में 20 मई और वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई को होगी सुनवाईपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.