चचेरे भाई पर हमला करने वाले पूर्व प्रधान का नहीं लगा सुराग, पुलिस ने कई ठिकानों पर दी दबिश

- पूर्व प्रधान जीवनसिंह द्वारा चचेरे भाई के सीने में चाकू घोपने का मामला

 

By: Rajeev

Published: 13 Mar 2018, 01:41 PM IST

रायपुर मारवाड़. मुकदमा वापस नहीं लेने पर अपने चचेरे भाई पर चाकू से हमला कर फरार हुए पूर्व प्रधान जीवनसिंह का पुलिस कोई सुराग नहीं लगा पाई है। आरोपित को पकडऩे के लिए पुलिस रविवार देर रात तक उसके प्रमुख ठिकानों पर दबिश देती रही। वहीं घटना के दूसरे दिन पुलिस ने आरोपित को पकडऩे के लिए पांच टीमों का गठन किया और अलग-अलग क्षेत्रों में टीम भी भेजी। पुलिस इस मामले को लेकर हाइवे की होटलों व टोल पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज भी खंगाल रही है। इधर, पुलिस की एक टीम ने जीवनसिंह के जोधपुर स्थित मकान व शहर में रहने वाले रिश्तेदारों के घरों पर भी दबिश दी। लेकिन, सोमवार शाम तक भी उसका सुराग नहीं मिल पाया।

पूर्व प्रधान जीवनसिंह व उसके चचेरे भाई नरेंद्रसिंह राठौड़ के बीच लम्बे समय से जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। इसी विवाद के चलते 18 अगस्त 2015 को जीवनसिंह ने अपने आठ से दस साथियों के साथ मिलकर नरेंद्रसिंह पर जानलेवा हमला कर दिया था। हमले में नरेंद्रसिंह का छोटा भाई शेरसिंह भी घायल हो गया था। घटना के बाद नरेंद्रसिंह ने जीवनसिंह के खिलाफ मामला भी दर्ज करवाया था। इस मामले को वापस लेने की बात को लेकर रविवार दोपहर को जीवनसिंह ने नरेंद्रसिंह पर दबाव बनाया था। नरेंद्रसिंह के इनकार करने पर जीवनसिंह ने उसके सीने पर चाकू से तीन वार कर दिए।

घायल की हालत स्थिर

पुलिस ने बताया कि घायल नरेंद्रसिंह की हालत स्थिर बनी हुई है। उसका ब्यावर के सरकारी अस्पताल में उपचार चल रहा है। नरेंद्रसिंह वर्तमान में बिराटिया गांव की सरकारी स्कूल में बतौर शिक्षक कार्यरत है।

सहयोगी भी बनेंगे सहआरोपित

जीवनसिंह की तलाश में टीम लगी हुई है। फिलहाल कोई सुराग नहीं लगा है। उसे पकडऩे के लिए पुलिस दलों को अगल-अलग जगह भेजा है। उसे पनाह देने व फरार करवाने में मदद करने वालों की पहचान कर उन्हें भी सहआरोपित बनाया जाएगा।

- राजेन्द्रसिंह चारण, थाना प्रभारी, रायपुर

Rajeev Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned