पत्रिका गेट सेफ गो अभियान : कोविड नियमों के साथ ही व्यापार मंजूर, नो मास्क नो एंट्री

- कोविड -19 के नियमों का पालन नहीं करने वाले ग्राहकों को दुकान में प्रवेश ही नहीं करने देते
- कोरोना ने जीवन शैली बदल दी है

By: Suresh Hemnani

Published: 17 Nov 2020, 07:32 PM IST

पाली। कोरोना महामारी ने जिंदगी के नियम बदल दिए हैं। जिंदगी जीने का नजरिया बदल दिया है। इन बदलावों का बड़ा असर व्यवसाय पर काफी ज्यादा पड़ा है। लॉकडाउन ने देशभर में व्यवसाय की कमर तोड़ कर रख दी। शारीरिक दूरी, फेस मास्क और साफ-सफाई अब व्यवसाय के जरूरी बन गए है। कोविड-19 के नियमों को लेकर व्यापारी भी काफी ज्यादा सर्तक हो गए हैं। व्यापारी तो कोराना गाइडलाइन का पालन कर ही रहे हैं, वे ग्राहकों से भी गाइडलाइन का सख्ती के साथ पालन करवा रहे हैं। व्यापारियों को भले ही व्यापार में नुकसान उठना पड़ेे, लेकिन वे कोराना गाइडलाइन के अनुसार ही व्यापार कर रहे हैं। हालांकि, इससे व्यापारियों को कई बार नुकसान भी हो रहा है। फिर भी वे कोराना गाइड लाइन के अनुसार ही व्यापार करना पसंद कर रहे हैं।

नो मास्क, नो एंट्री
कोराना गाइड लाइन के अनुसार ही व्यापार कर रहे हैं। कई बार नुकसान भी झेलना पड़ता है। नुकसान के बावजूद भी नियमों के अनुसार ही व्यापार कर रहे हैं। ग्राहकों को बिना मास्क अंदर नहीं आने दे देते हैं। -सन्नी धनवाणी, रेडीमेड व्यापारी, सूरजपोल

व्यापार करने में डर लगता
ग्राहकों को बिना मास्क दुकान में प्रवेश नहीं करने देते हैं। मास्क होने के कारण ग्राहकों का चेहरा साफ दिखाई नहीं देता है। इससे व्यापार करने में भय रहता है। इसके बावजूद भी मास्क के बिना ग्राहकों को अंदर नहीं आने देते है। -नरेश अड़ाणिया, ज्वेलर्स, कॉलेज रोड

सेनेटाइज जरूरी
ग्राहकों को दुकान में प्रवेश करने से सेनेटाइज करवाते हैं। जिन ग्राहकों के मास्क लगे हुए नहीं होते हैं, उनको मास्क लगवाते हैं। कई ग्राहक सेनेटाइजर का विरोध करते है। ऐसे ग्राहकों को दुकान के अदंर नहीं आने देते हैं। -रमेश थावानी, शू व्यापारी

अनजान सा भय सताता
मास्क लगा होने से ग्राहक दुकान में आता है तो एक अनजान सा भय रहता है। मुंह साफ दिखाई नहीं देता है। फिर भी कोरोना महामारी के कारण ग्राहकों को बिना मास्क व हाथों को सेनेटाइजर करने के बाद ही अंदर आने देते हैं। -अरविन्द सोनी, ज्वेलर्स

कोरोना ने जीवन शैली बदल दी है
कोरोना ने जीवन शैली को पूरी तरह से बदल दिया है। सेनेटाइज व मास्क के बिना घर से नहीं निकलते हैं। दुकान में भी खरीदारी करते हैं तो दो गज की दूरी बना कर रखते हैं। यह व्यापारियों व लोगों के हित में है। -महेन्द्र अग्रवाल, ग्राहक

अब आदत बन गई
मास्क लगाने की आदत हो गई है। बिना मास्क के घर से निकलते ही नहीं है। हाथों को सेनेटाइज कर के घर से निकाले है। खरीदारी करने जाने पर दुकान पर भी कोराना ग्राइड लाइन का पालन करते हैं। -अनुराधा, गृहणी

COVID-19 virus
Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned