सावन में बहती थी यहां की नदियां, आज पड़ी वीरान

सावन में बहती थी यहां की नदियां, आज पड़ी वीरान

Suresh Hemnani | Publish: Jul, 20 2019 09:19:37 PM (IST) Pali, Pali, Rajasthan, India

-गतवर्ष व अब तक हुई कम बारिश सूखी पड़ी

पाली/देसूरी। हर साल बारिश की दस्तक के साथ ही अरावली की नदियों [ rivers of Aravalli ] में पानी की आवक शुरू हो जाती है। जो करीब पांच से छह माह तक चलती है। इस बार इन्द्र देवता [ monsoon rain in pali ] की बेरुखी के कारण ये नदियां अब तक सूखी पड़ी हैं। जबकि हर साल जुलाई माह में अभयारण्य में तेज बरसात होने से कई नदिया तो उफान पर चलती हैं।

जिसके कारण बांधों में भी कुछ ही घंटो में पानी की आवक अनुमान से अधिक हो जाती है। नदियों में पानी [ Water in rivers ] बहने से सबसे अधिक फायदा किसानों को होता है। किसानों के कुएं रिचार्ज होते है। मगर इस बार नदियों के सूख जाने के कारण कुओं का तल दिखना शुरू हो गया है। वन्यजीव नदियों के जलक्रीडा करते इसका आनंद उठाते हैं।

अभयारण्य के बीच से गुजरती नदियां गांवों के पास से गुजरती हैं। नदियों में पानी की आवक होती है तो बड़ी संख्या में गांव के लोग पानी को देखने के लिए नदियों पर पहुंच जाते हैं। जब उफान पर चलती है तो उसको शांत करने के लिए ग्रामीण नदियों की पूजा अर्चना करते हैं। मगर गत वर्ष अरावली में कम बरसात होने के कारण नदियों में पानी की आवक कम हुई। इससे लगभग सभी बांध सूख गए हैं।

इस बार भी जुलाई माह आधा गुजर गया है, लेकिन अभी तक अरावली पर्वत [ Aravali Mountain ] माला में तेज बरसात [ Fast rain in pali ] नहीं हुई है। जिससे नदियों में पानी की आवक हो सके। आज भी अभयारण्य में अधिकतर नदियां सूखी पड़ी हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned