यहां के किसानों ने इस बार समर्थन मूल्य पर फसल बेचने से किया किनारा

- सरसो का भाव समर्थन मूल्य से डेढ़ गुना नीलामी में मिल रहा
- बीस दिन बाद भी सुमेरपुर खरीद केन्द्र पर नहीं हुई खरीदारी शुरू
- बारदान नहीं होने से खरीद कार्य अधरझूल में

By: Suresh Hemnani

Published: 21 Apr 2021, 08:46 AM IST

पाली/सुमेरपुर। राजस्थान सरकार ने पहली अप्रेल से पाली जिले के विभिन्न खरीद केन्द्रों पर समर्थन मूल्य पर सरसों, चना व गेहूं की खरीद शुरू करने का निर्णय किया था, लेकिन नीलामी में अधिक भाव मिलने से किसानों का समर्थन मूल्य पर खरीद के प्रति रुझान नहीं हो रहा है। खरीद केन्द्र शो पीस बनकर रह गया। सुमेरपुर मंडी स्थित खरीद केन्द्र पर बारदान की कमी होने से अभी तक खरीद कार्य भी शुरू नहीं हो सका। पिछले 20 दिन से खरीद केन्द्र पर ताला लटक रहा है।

राज्य सरकार के निर्देश पर पाली जिले के पाली, रायपुर, कुशालपुरा, बाबरा, बूसी, रानी, सोजत, चौपड़ा, अटपड़ा, सोजत रोड़, साण्डेराव, सुमेरपुर, जैतारण, मारवाड़ जंक्शन व बाली में खरीद केन्द्र स्थापित किए गए। इसी प्रकार गेहंू खरीद के लिए पाली व सुमेरपुर में खरीद केन्द्र बनाए। सभी प्रकार के पंजीयन ऑनलाइन है। किसानों ने इ-मित्र केन्द्रों पर चना व सरसों की खरीद के लिए ऑनलाइन पंजीयन करवाया।

बारदान नहीं होने से खरीद कार्य भी शुरू नहीं हो सका
राजफैड के माध्यम से समर्थन मूल्य खरीद रबी-2021 को लेकर सुमेरपुर क्रय-विक्रय सहकारी समिति ने महाराजा उम्मेदसिंह कृषि उपज मंडी स्थित 180 नंबर छोटी दुकान को खरीद केन्द्र स्थापित किया। पहली अप्रेल से खरीद कार्य शुरू करना था। सुमेरपुर केन्द्र पर गेंहू के लिए अब तक 150 किसानों ने पंजीयन करवाया है, लेकिन केन्द्र पर गेहूं भरने के लिए बारदान नहीं होने से खरीद कार्य अभी तक शुरू नहीं हो सका। खरीद केन्द्र पर पिछले 20 दिनों से ताला लटक रहा है।

समर्थन मूल्य से डेढ़ गुना अधिक भाव खुले बाजार में
केन्द्र सरकार ने राजस्थान में सरसों का समर्थन मूल्य 4650 रुपए प्रति क्विंटल, चना का 5100 रुपए और गेंहू का 1975 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया है। जबकि मंगलवार को महाराजा उम्मेदसिंह कृषि उपज मंडी में सरसों 6500 रुपए, चना 5300 से 5400 रुपए और गेंहू 1750 से 1850 रुपए प्रति क्विंटल दर पर नीलामी के भाव रहे। किसानों को सरसों की बिक्री मंडी में खुली नीलामी में बेचने पर प्रति क्विंटल 1850 रुपए अधिक मिल रहे हैं। वहीं चने पर भी 3 से 4 सौ रुपए अधिक भाव मिल रहे हैं। खुली नीलामी बिक्री में न पंजीयन करवाना और न ही कोई गिरदावरी का झंझट। यही वजह है कि खुली बिक्री के मुकाबले समर्थन मूल्य पर बेचने पर प्रति क्विंटल सौ से डेढ़ सौ अधिक मिलने के बाद भी समर्थन मूल्य पर कोई रुचि नहंीं दिखा रहा। अभी तक 150 किसानों ने ही गेंहू खरीद के लिए पंजीयन करवाया है।

प्रभारी ने बताया-
समर्थन मूल्य से अधिक भाव मंडी में नीलामी से मिल रहे हैं। किसानों को अधिक फायदा होने से वे रुचि नहीं ले रहे हैं। सुमेरपुर केन्द्र पर गेंहू के लिए अभी तक 150 किसानों ने पंजीयन करवाया है। बारदान नहीं होने से समस्या आ रही है। सुमेरपुर खरीद केन्द्र पर बारदान एफसीआई भीलवाड़ा से आता हैं। बारदान के लिए अजमेर मुख्यालय पत्र भेजा है। बारदान आते ही खरीद शुरू करवा दी जाएगी। -करणसिंह राठौड़, प्रभारी, समर्थन मूल्य खरीद केन्द्र, सुमेरपुर

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned