Watch Video : 12 साल बाद घर आई बेटी, पिता ने की हत्या, शव पेट्रोल से जलाया

पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन क्षेत्र के सिरियारी थाना क्षेत्र के कादू गांव की है घटना। आरोपी पिता की तलाश जारी।

Watch Video : 12 साल बाद घर आई बेटी, पिता ने की हत्या, शव पेट्रोल से जलाया

पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन क्षेत्र के सिरियारी थाना क्षेत्र के कादू गांव सरहद में एक पिता ने अपनी ही पुत्री की धारदार हथियार से वार कर हत्या कर दी। वही शव को पेट्रोल से जलाकर फरार हो गया। राहगीरों से अधजले शव को देखा तो क्षेत्र में सनसनी फैल गई। सूचना मिलने पर सिरियारी पुलिस थानाधिकारी महिपाल सिंह व आउवा पुलिस चौकी प्रभारी नरपतसिंह मय जाप्ता घटना स्थल पर पहुंचे। एफएसएल की टीम को मौके पर बुलाया गया। मौका मुआयना करने के बाद शव की शिनाख्त गुड़ा दुर्जन हाल गांधीधाम निवासी निरमा (27) पत्नी रमेश मेघवाल के रूप में हुई। आरोपी ने बेटी की हत्या क्यो की इसका खुलासा तो उसके पकडे जाने के बाद ही होगा। आरोपी पिता की तलाश जारी है।

भाई के लिए लड़की दिखाने के बहाने ले गया था साथ
सिरियारी थानाधिकारी महिपालसिंह ने बताया कि मृतका की छोटी बहन अनीता ने रिपोर्ट देकर बताया कि उसका पिता शिवलाल उसके भाई के लिए लड़की देखने का बहाना करके निरमा को साथ ले जाने लगा। इस पर छोटी बहन अनीता ने साथ चलने के लिए कहा तो वह उसकी बहन निरमा, निरमा के पुत्र व पिता के साथ बाइक पर बैठकर ईसाली से रवाना हुए। जैतपुरा चौराहे पर आरोपी पिता ने बहाना बनाकर अनीता व दोहिते को वहां उतार दिया और वापस लौटने का कहकर निरमा को साथ लेकर वापस ईसाली की तरफ बाइक लेकर निकल गया। शिवलाल ने बाइक कादू सरहद के जंगल में ले जाकर निरमा पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। वही पेट्रोल से शव को जला दिया।

घटना को अंजाम देने के बाद वापस जैतपुरा चौराहे पर लौटकर खून से सने हाथो को धोने लगा तो अनीता ने उससे पूछा की निरमा कहां तो आरोपी सकपका गया और वहां से बाइक लेकर फरार हो गया। पुलिस ने निरमा की रिपोर्ट के आधार पर पिता शिवलाल के खिलाफ मामला दर्ज किया तथा शव को पोस्टमार्टम के लिए जोजावर मोर्चरी में रखवाकर आरोपी की तलाश शुरू की।

12 साल बाद आई थी अपने गांव
जानकारी के अनुसार शादी के बाद निरमा अपने पति के साथ गांधीधाम रहती थी तथा पीहर से मां सहित भाई बहन भी गांधीधाम में ही रहते थे। पिता का स्वभाव सही नही होने के कारण वह सबसे अलग पाली में रहता था और मिल में काम करता है। इसलिए ईसाली गांव में कोई नही रहता था। ईसाली गांव में शादी समारोह होने के चलते निरमा करीब 12 साल बाद अपने गांव आई थी। जब यह बात पिता को पता चली तो वह पाली से ईसाली गांव पहुंचा और घटना को अंजाम दिया।

पांच बहन व एक भाई में सबसे बड़ी थी निरमा
जानकारी के अनुसार आरोपी शिवलाल के पांच पुत्रियां और एक पुत्र है, जिसमे सबसे बड़ी बेटी निरमा थी। निरमा की शादी गुड़ा दुर्जन निवासी रमेश मेघवाल के साथ हुई थी। वर्तमान में वह गांधीधाम में रहते है। निरमा के दो पुत्र है।

Copyright © 2024 Patrika Group. All Rights Reserved.