गोदाम से ढाई लाख की कपड़े की गांठे चुराई, चार जने गिरफ्तार

- जोधपुर बेचने गए, चालान कटा तो वापस आए
- वारदात में प्रयुक्त लोडिंग जीप व गांठे भी बरामद

By: Suresh Hemnani

Published: 08 Apr 2021, 07:46 AM IST

पाली। पाली के ट्रांसपोर्ट नगर थाना क्षेत्र के बोमादड़ा रोड स्थित ट्रांसपोर्ट कम्पनी के एक गोदाम से ढाई लाख रुपए की कपड़े की गांठे चोरी की वारदात का पुलिस ने बुधवार को खुलासा कर दिया। पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार कर वारदात में प्रयुक्त लोडिंग जीप व कपड़े की गांठे बरामद कर ली है।

चार दोस्तों की वारदात
पुलिस अधीक्षक कालूराम रावत के अनुसार गत माह फतेहपुरिया की पोल पाली निवासी निलम कुमार पुत्र भंवरलाल अग्रवाल ने मामला दर्ज करावाया था कि उसकी ट्रांसपोर्ट कम्पनी है। उसका गोदाम बोमादड़ा रोड पर है। गत दिनों यहां से कपड़े की 9 गांठे चोरी हो गई थी। ट्रांसपोर्ट नगर थाना पुलिस ने मामला दर्ज किया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. तेजपाल सिंह, पुलिस उपाधीक्षक निशांत भारद्वाज, ट्रांसपोर्ट नगर थानाधिकारी विकास कुमार व उप निरीक्षक टीकमाराम के नेतृत्व में विशेष टीम का गठन किया गया। टीम ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर इस मामले में हाथीसिंह पुत्र शेरसिंह राजपूत निवासी केरला पुलिस थाना मतोड़ा जिला जोधपुर ग्रामीण हाल हाउसिंग बोर्ड पाली, जितेन्द्र सिंह पुत्र मूलसिंह राजपूत निवासी सिनला हाल राजेन्द्र नगर विस्तार पाली, हिमांशु पुत्र प्रकाशलाल वैष्णव निवासी राजेन्द्र नगर विस्तार पाली, इस्लामुदीन पुत्र शहाबुदीन तेली निवासी बीपीएल कॉलोनी पाली को गिरफ्तार किया। उनसे चोरी की कपड़े की नौ गांठे व जीप बरामद कर ली गई है।

परिवार में मौत होने का कहकर ले गए जीप किराए
उप निरीक्षक टीकमाराम ने बताया कि चारों ने एक गैरेज में रखी लोडिंग जीप को ढाई हजार रुपए में किराए किया। वे अपने परिवार में किसी की मौत होने का कहकर वहां जाने के लिए जीप किराए की थी। इस लोडिंग जीप से चोरी की गांठे जोधपुर ले गए, रास्ते में जोधपुर पुलिस ने एमवी एक्ट में जीप का चालान काट दिया, तब वे चालान राशि भरकर वापस पाली आए। चोरी की गांठे आरोपी जितेन्द्र के घर पर रख दी। वे इसे सस्ती दर पर बेचने की फिराक में थे, इस दौरान पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned