#SehatSudharoSarkar : सरकार की लापरवाही से बिगड़ी अस्पतालो की सेहत, फर्जी चिकित्सक उठा रहे फायदा

Rajeev Singh Dave

Publish: Sep, 17 2017 10:50:15 (IST)

Pali, Rajasthan, India
#SehatSudharoSarkar : सरकार की लापरवाही से बिगड़ी अस्पतालो की सेहत, फर्जी चिकित्सक उठा रहे फायदा

सरकारी की लापरवाही से नीम-हकीमों की मौज,
गांवों में जान गंवाकर खामियाजा भुगत रहे मरीज

 

पाली.

जिले में जिम्मेदारों की कथित लापरवाही ने अस्पतालों की सेहत को बिगाड़ कर रख दिया है। चिकित्सकों का टोटा, महिलाओं का प्रसव कराते मेलनर्स, जर्जर भवन सरीखी कई समस्याएं हैं, जिसके चलते लोगों का सरकारी अस्पतालों से मोह भंग होने लगा है। लेकिन, इसका फायदा इन दिनों फर्जी चिकित्सक व नीम हकीम उठा रहे है। पूरे जिले में जाल बिछा चुके इन नीम-हकीमों ने भोले-भाले ग्रामीणों को अपने चंगुल में फंसा लिया है। लेकिन, जिम्मेदार सब जानते हुए भी एेसे नीम-हकीमों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। हालांकि, जब इन नीम हकीमों के इलाज से किसी गरीब को जान से हाथ धोना पड़ता है। तब विभाग की ओर से जिलेभर में अभियान चला दिए जाते हैं। इनके क्लीनिक पर छापा मारकर उन्हें गिरफ्तार कर दिया जाता है। इसके बाद विभाग अपनी औपचारिकता खत्म कर देता है और एेसे लोग जमानत पर छूटकर फिर से गरीबों की जान खतरे में डालने का कार्य शुरू कर देते है। जिले में जाल बिछाए बैठे नीम-हकीमों पर पत्रिका टीम की विशेष रिपोर्ट -

अस्पताल से ज्यादा नीम-हकीमों के पास मरीजों की भीड़

रायपुर मारवाड.

बारिश थमने के साथ ही क्षेत्र में मौसमी बीमारियों पैर पसार चुकी है। इधर, चिकित्सालयों व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर पर्याप्त मात्रा में दवाइयां नहीं होने व स्टाफ की कमी के चलते मरीजों को न चाहते हुए भी फर्जी चिकित्सकों से उपचार लेना पड़ रहा है। हालात यह है कि मरीजों की संख्या इनके के यहां अस्पताल से ज्यादा है। और हैरत की बात यह है कि प्रशासन भी इसे अनदेखी कर रहा है।

कार्रवाई नाम मात्र की

इनके खिलाफ चिकित्सा विभाग की ओर से कुछ माह पहले कार्रवाई की गई। लेकिन वह महज दिखावा साबित हुई। जहां कार्रवाई की वहां क्लीनिक कुछ दिन बंद रहे। इसके बाद वे पुन:खुल गए।

करेंगे प्रभावी कार्रवाई

- इन हालातों को लेकर जिला प्रशासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी। दवाइयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो, इसके लिए सीएमएचओ से बात करेंगे। साथ ही फर्जी चिकित्सकों के खिलाफ भी प्रभावी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
- मोहनलाल खटनावलिया, उपखंड अधिकारी, रायपुर

 

#SehatSudharoSarkar : सोजत में मिला स्वाईन फ्लू का तीसरा मरीज

 

रोहट में 40 से ज्यादा नीम हकीम

रोहट.

पूरा क्षेत्र फर्जी चिकित्सकों की गिरफ्त में फंसा हुआ है। कई नीम हकीम एेसे भी हैं, जिनके पास पड़ौसी देशों की डिग्रिया है। एेसे में एक दो बार इन पर औपचारिता वाली कार्रवाई हुई। लेकिन, कुछ दिन बाद ही फिर से जमानत पर छूटकर इन्होंने लोगों का उपचार शुरू कर दिया। रोहट के अरटिया, भाकरीवाला, मंडली, कलाली रामपुरा, खांडी, डूंगरपुर, निम्बली, मुरडिया, पांचपदरिया, चाटेलाव, मोरिया, चोटिया सहित कई गांवों में कथित चिकित्सक क्लीनिक चला रहे है।

सरकारी कार्मिक भी बन रहे झोलाछाप

सरकारी अस्पताल में कार्यरत मेलनर्स व फार्मासिस्ट भी बिना किसी अनुभव के लोगों का निजी क्लीनिक लगाकर उपचार कर रहे है। ये एमबीबीएस डॉक्टर की तर्ज पर दवा लिखने, उन्हें इंजेक्शन लगाने जैसे कार्य आराम से कर रहे हैं।

मंगवाई थी रिपोर्ट

- रोहट क्षेत्र में 40 से अधिक फर्जी चिकित्सक बैठे है। कुछ के पास तो पाकिस्तानी दस्तावेज है। मैने पिछले माह ही सभी एएनएम से इनके बारे में रिपोर्ट मंगवाई थी। पहले हमने कार्रवाई की तो पुलिस ने गिरफ्तार किया था। लेकिन, छूटने के बाद वापस काम शुरू कर देते है।

- डॉ. तेजपाल चारण, सेक्टर प्रभारी, रोहट

 

#SehatSudharoSarkar : जिलेभर के अस्पतालो पर एक नजर ...


खिंवाड़ा बन रहा नीम हकीमों का अड्डा

खिंवाड़ा.

गोडवाड़ व तराई क्षेत्र के पांच दर्जन से ज्यादा गांव व ढाणियां खिंवाड़ा आदर्श राजकीय एलटी अस्पताल पर निर्भर है। लेकिन, यहां डॉक्टरों व अन्य स्टाफ की कमी से नीम हकीमों की मौज हो गई है। पूरे क्षेत्र में यह फर्जी डॉक्टर अपनी क्नीनिक चला रहे है। खिंवाड़ा, नीपल, गावाडा़, टाकरला, डांयलाना, कोलर, गुड़ा देवड़ान में इनकी क्लीनिक चल रही है।

हालत बिगडऩे पर भेज देते हैं अस्पताल
फर्जी चिकित्सक मरीजों का सभी तरह से उपचार करते है। लेकिन, जब मरीज की स्थिति गंभीर हो जाती है तो उनके परिजनों को सरकारी अस्पताल में ले जाने की सलाह दे देते है।

कई बार की कार्रवाई

- कई बार इन फर्जी चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई की गई। लेकिन, इनका मामला कोर्ट में चल रहा है।

एेसे लोग जमानत पर छूटकर अपना क्लीनिक फिर से शुरू कर देते है।
- डॉ. हीरालाल बालोटिया, चिकित्साधिकारी, राजकीय आदर्श एलटी अस्पताल, खिंवाड़ा

 

Sehat Sudharo Sarkar चिकित्सा विभाग की नई पहल : बच्चो को किया जा रहा स्वच्छता के प्रति जागरूक

विभाग की ढिलाई, ‘इनकी’ नींव हो रही गहरी

जैतारण .

उपखंड क्षेत्र में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, उप स्वास्थ्य केन्द्रों की स्थिति काफी बुरी है। इसका सीधा फायदा नीम हकीम उठा रहे हैं। जानकारों की मानें तो अस्पताल में डॉक्टर नहीं होने से मजबूरन ग्रामीणों को इनसे उपचार करवाना पड़ता है। वर्तमान में लाम्बिया, देवरिया, झांझनवास, भुम्बलिया, कुडकी, आगेवा, धनेरिया, घोडावड़, बलाड़ा व चावंडिया कलां में नीम हकीम लोगों के स्वास्थ्य के साथ खलवाड़ कर रहे हैं।


नहीं होती सुनवाई

इन बिना योग्यताधारी डॉक्टरों के क्लीनिक को लेकर ग्रामीणों ने अधिकारियों को शिकायत की थी। लेकिन, इन पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही। एक दो बार विभाग की ओर से औपचारिकता की गई।

ठोस कार्रवाई करेंगे

- जैतारण क्षेत्र में विभाग के बिना अनुमति क्लीनिक चलाने व ड्रग कन्ट्रोलर की अनुमति बिना दवाई रखने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए जिला स्तर पर टीम बनती है। एेसे लोगों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करवाई जाएगी।

- डॉ. रमेश कुमावत, ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जैतारण

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned