स्वच्छ भारत मिशन सर्वे के नाम पर गांवों में हो रही अवैध वसूली, जिम्मेदार बरत रहे अनदेखी

- भरतपुर के युवा घर-घर से वसूल रहे तीस-तीस रुपए

Suresh Hemnani

December, 1007:17 PM

पाली/रायपुर मारवाड़। जिले के रायपुर क्षेत्र के गांवों में इन दिनों स्वच्छ भारत मिशन सर्वे [ Swachh Bharat Mission Survey ] के नाम पर अवैध वसूली [ illegal recovery ] की जा रही है। ये वसूली भरतपुर के युवाओं द्वारा घर-घर दस्तक देकर मकान नम्बर का लेबल लगाने के नाम पर मकान मालिक से तीस-तीस रुपए वसूल कर रहे हैं। इसे लेकर जिम्मेदारों द्वारा अनदेखी बरती जा रही है। इससे अवैध वसूली पर लगाम लगाने वाला कोई नहीं है।

दरअसल, जयपुर की स्वयंसेवी संस्था से जुड़े ये करीब आधा दर्जन युवक भरतपुर से यहां आ पहुंचे हैं। ये पिछले कुछ दिनों से रामपुरा, सिंगला, निम्बेड़ा कलां सहित आस-पास के गांवों में घर-घर दस्तक दे रहे हैं।

यूं कर रहे अवैध वसूली
ये युवा ग्रामीणों को केन्द्र सरकार द्वारा सर्वे कराए जाने का झांसा दे रहे हैं। प्रत्येक मकान पर मनमर्जी के मकान संख्या लिख एक प्रिंटेड लेबल लगा रहे हैं। इस लेबल पर स्वच्छ भारत मिशन का स्लोगन भी प्रिंट करवा रखा है।

झाला की चौकी से ग्रामीणों ने भगाया था
इसी तरह की एक स्वंयसेवी संस्था पिछले साल झाला की चौकी गांव में पहुंची थी। ये युवा भी मकान नम्बर का लेबल लगाने के नाम पर तीस-तीस रुपए वसूल कर रहे थे। ग्रामीणों ने विरोध करते हुए शिकायत भी की। जिससे ये युवा पुलिस के पहुंचने से पहले ही गांव से फरार हो गए थे।

ये कैसा सर्वे
सर्वे के नाम पर गांवों में खुलेआम अवैध वसूली की जा रही है। जबकि सरकार ने स्वयंसेवी संस्था को स्वच्छ भारत मिशन को लेकर लोगों में जागरूकता लाने का काम दे रखा है। संस्था द्वारा अवैध वसूली किए जाने के बावजूद जिम्मेदार मूकदर्शक बने हुए हैं। ऐसे में ग्रामीणों के साथ दिन के उजाले में हो रही ठगी को रोकने वाला कोई नहीं है।

पैसा लेना गलत है
स्वंयसेवी संस्था को सर्वे करने का काम सरकार ने दिया है, लेकिन मकान नम्बर का लेबल लगाने पर पैसे लेना गलत है। ये लेबल लगाना अनिवार्य नहीं है। ग्रामीणों को जागरूक होकर इस तरह के लेबल नहीं लगाना चाहिए। हम कल इसकी जांच कर उचित कार्रवाई अमल में लाएंगे। -तनुराम राठौड, विकास अधिकारी, रायपुर

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned