सूरज की रोशनी से घर हो रहे रोशन

- घरों में सौर ऊर्जा प्लांट लगाने में लोगों की बढ़ी रूचि
- शहर में 300 से अधिक घरों में लगे है सोलर प्लांट

By: Suresh Hemnani

Published: 20 Apr 2021, 09:28 AM IST

पाली। बदलाव की बयार का ही असर है कि अब लोग प्राकृतिक ऊर्जा के प्रति जागरूक हो चुके हैं। ये ही कारण है कि गांव-शहरों में अब सौर ऊर्जा के प्रति लोगों का नजरिया बदलने लगा है। सौर ऊर्जा से जुडऩे के पीछे बिजली की बढ़ती कीमतें तथा हर दो माह में भारी भरकम राशि का बिल जमा कराने का दर्द भी छिपा है। पिछले कुछ समय से लोग सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने की ओर रूख करने लगे है। इससे लोग अपने घर तो रोशन कर ही रहे हैं, विद्युत वितरण कंपनी से अनुबंध कर पैसा भी कमा रहे हैं। नगर में सौर ऊर्जा का उपयोग करने वालों की संख्या भी बढऩे लगी है।

शहर सहित जिले भर में सैकड़ों लोग अब तक सौर ऊर्जा संयंत्र को छतों पर स्थापित कर अपने घर रोशन करते दिखाई देने लगे हैं। सौर ऊर्जा संयंत्र लोगों को दोहरी सुविधा देता रहा हैं। इसका उपयोग करने से लोग अपने घरों में विद्युत आवश्यकता की पूर्ति कर रहे हैं, साथ ही इससे बनने वाली अतिरिक्त बिजली को विद्युत वितरण कंपनी को भी बेच कर मुनाफा भी कमा रहे हैं। सोलर प्लांट से बनने वाली बिजली डिस्कॉम तय नियमों के तहत खरीदता भी हैं।

केस एक - बिजली का बिल हो गया आधा
अपने घर पर सौर ऊर्जा संयंत्र (850 वॉल्ट एम्पीयर वीए) लगवाने वाले धाकड़ी (सोजत) गांव निवासी अध्यापक जगदीशचंद्र गोयल बताते है कि उन्होंने करीब दो वर्ष पहले घर में सौर ऊर्जा का संयंत्र लगवाया हैं। इससे घर के पंखे, ट्यूब लाइट आदि चल जाते है। सच कहूं तो घर के बिजली का बिल का खर्च आधा हो गया है।

केस दो - सोलर प्लांट लगाने के बाद बिजली का बिल नहीं भरा
शहर के सूर्या कॉलोनी निवासी एडवोकेट दीपक पारीख ने बताया कि वर्ष 2018 में छह किलोवॉट का सोलर प्लांट घर की छत पर लगवाया था। उसके बाद से बिजली का बिल भरने की जरुरत नहीं पड़ी। जबकि पहले दो माह का आठ से दस हजार रुपए बिजली का बिल आता था। उन्होंने बताया कि गमी में प्रतिदिन करीब 25-28 यूनिट व सर्दी में 20 यूनिट बिजली सोलर से बनती जाती है। एसी, गीजर सभी चलते है।

इन्होंने कहा...
शहर में करीब 400 घरेलू-अघरेलू कनेक्शन पर सोलर प्लांट लगा हुआ हैं। सोलर प्लांट लगाने के बाद उपभोक्ताओं का बिजली बिल कम हो जाता है तथा जो बिजली बचती है वह वे डिस्कॉम को दे भी सकते है। - मनीष माथुर, एक्सईएन, डिस्कॉम पाली

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned