अब उड़ी चिकित्सा विभाग की नींद, सीएमएचओ ने की जांच, निजी अस्पताल संचालकों को किया पाबंद

-राजस्थान पत्रिका की खबर के बाद जागा चिकित्सा विभाग
-निजी लैब व चिकित्सालयों को दरों की सूची लगाने व तय दर ही लेने को किया पाबंद

By: Suresh Hemnani

Published: 28 May 2021, 09:04 AM IST

पाली। निजी लैब व चिकित्सालयों में जांचों की मनमानी दरें वसूले जाने के मामले में अब चिकित्सा अधिकारियों की नींद उड़ी है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर पी मिर्धा ने गुरुवार को शहर के कई निजी अस्पतालों और निजी लैब का निरीक्षण किया। सभी जगह सुनिश्चित किया कि जांच दरों की सूची चस्पा है या नहीं। पाबंद भी किया कि निर्धारित दरों से ही राशि वसूलें।

पत्रिका ने लगातार दो दिन तक निजी अस्पतालों व लैब की मनमानी को लेकर खुलासा किया। तत्पश्चात जिला प्रशासन ने भी फटकार लगाई। इस पर गुरुवार को सीएमएचओ आरपी मिर्धा व जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर के प्रिंसिपल केसी सैनी ने शहर की दस निजी लैब व चिकित्सालयों का आकस्मिक निरीक्षण किया। जांच दरों की सूची को मुख्य रिसेप्शन पर चस्पा करवाया। संचालकों को यह भी हिदायत दी कि मरीजों को जांच की रसीद अवश्य दें। जांच के लिए आने वाले सभी मरीजों का ब्योरा एक रजिस्टर या कम्प्यूटर में सदैव तैयार रखने के लिए भी पाबंद किया।

निजी लैब संचालकों को किया पाबंद
निजी लैब संचालकों को सरकार की ओर से तय दरें वसूलने के लिए पाबंद किया गया था। यदि किसी लैब या अस्पताल के खिलाफ शिकायत आती है तो उसकी जांच कर सख्त कार्रवाई की जाएगी। -डॉ. आरपी मिर्धा, सीएमएचओ, पाली

ये भी तर्क : चिकित्सा विभाग ने नहीं दी जानकारी : लैब संचालक
शहर के कई निजी अस्पताल और लैब संचालकों का कहना है कि सरकार ने क्या दरें तय की है इसकी उन्हें अधिकृत रूप से जानकारी नहीं है। राज्य सरकार अथवा चिकित्सा विभाग ने कोई निर्णय किया है तो स्थानीय अधिकारियों को जानकारी साझा करनी चाहिए और आदेश भी निकालने चाहिए। जबकि, यहां ऐसा कुछ भी नहीं किया गया। संचालकों का यह भी तर्क है कि बिना अधिकृत आदेश कैसे पता चलेगा कि सरकार ने किस जांच की क्या दर तय की है।

प्रभारी मंत्री ने चेताया, कोई ज्यादा पैसा वसूले तो कड़ी कार्रवाई करें
पाली। प्रदेश के निजी अस्पतालों एवं लैब में अधिक राशि वसूलने की शिकायतों का त्वरित निस्तारण कर महामारी में आमजन को राहत प्रदान करें। अल्पसंख्यक मामलात, वक्फ एवं जन अभाव अभियोग निराकरण मंत्री शाले मोहम्मद ने कोरोना रोगियों के इलाज एवं जांच में निजी अस्पतालों, लैब और दवा दुकानदारों द्वारा निर्धारित दरों से अधिक पैसे वसूलने की घटनाओं पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं।

जन अभियोग निराकरण मंत्री शाले मोहम्मद ने सम्पर्क पोर्टल व कॉल सेंटर 181 पर चलाए जा रहे राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम के अधिकारियों को आमजन से इस संबंध में प्राप्त शिकायतों का त्वरित गति से निस्तारण करने के निर्देश दिए। मंत्री शाले मोहम्मद ने इस संबंध में मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों के बाद पोर्टल पर ऐसे लम्बित निस्तारणों की जानकारी ली। साथ ही विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि पोर्टल पर ऐसी शिकायतों के लिए अलग से एक मॉड्यूल बनाया जाए।

उन्होंने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर के समय से ही उत्पन्न परिस्थितियों के निस्तारण के लिए 181 कॉल सेंटर पर आमजन द्वारा बड़ी संख्या में शिकायतें दर्ज की जाती है। यह सरकार का ऑनलाइन सिस्टम है जिससे घर बैठे आमजन अपने परिवाद दर्ज करवा सकता है।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned