पारा पहुंचा 44 पार, दिन के साथ ही रात में भी नही मिल पा रहा चैन, पंखे कुलर भी नही दे पा रहे राहत...

Rajeev Singh Dave

Publish: May, 18 2018 11:47:47 AM (IST) | Updated: May, 18 2018 11:47:48 AM (IST)

Pali, Rajasthan, India
पारा पहुंचा 44 पार, दिन के साथ ही रात में भी नही मिल पा रहा चैन, पंखे कुलर भी नही दे पा रहे राहत...

- सुबह सूर्योदय के साथ ही गर्मी दिखा रही असर

- बच्चे व बुजुर्ग ज्यादा प्रभावित

 

पाली. आधे बीत चुके मई माह में तापमापी का पारा भी 44 डिग्री पर पहुंच चुका है। दिन-ब-दिन पारे में उछाल के चलते लोग बेहाल है। तपिश तो ऐसी है कि जूतों में भी पैरों को जलन होने लगी है। सबसे ज्यादा प्रभावित बच्चे व बुजुर्ग हो रहे हैं।

पाली शहर का तापमान शुक्रवार को 44 डिग्री दर्ज किया गया। सूर्योदय के साथ ही सूर्य की रश्मियां अपने तप से लोगों को बेहाल करने लग गई। दुपहरी में तो लोगों का बाहर निकलना ही दुश्वार हो गया। ऐसा लग रहा था कि आसमान से आग बरस रही हो। चिलचिलाती धूप के कारण लोग घर में ही रहने को मजबूर रहे। मौसम विभाग की साइट के अनुसार गुरुवार को पाली शहर में अधिकतम तापमान 44 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 27 डिग्री दर्ज किया गया। पिछले 15 दिनों ने पाली शहर सहित जिले का औसत अधिकतम तापमान 42 डिग्री दर्ज किया जा रहा था।

पंखे - कूलर भी नहीं दे रहे राहत

शहर में गर्मी का आलम ऐसा है कि लोगों को घरों में लगे पंखे व कूलर भी किसी प्रकार की राहत नहीं दे पा रहे है। रात में भी गर्मी से लोग बेहाल रहे। ये ही कारण कई लोग तो छत पर सोने के चलते भी सुकून नहीं ले पा रहे हैं।

सड़कों पर पसरा रहा सन्नाटा

प्रचंड गर्मी के कारण सड़कों पर सन्नाटा पसर रहा है। सुबह नौ बजे से शाम पांच बजे तक गिने-चुने लोग ही सड़क पर नजर आ रहे हैं। वो भी ऐसे लोग, जो किसी जरूरी काम होने पर ही घर से बाहर निकलते हैं। लेकिन, ऐसे लोग मुंह पर हाथ को कपड़े से ढककर ही निकलते हैं।

मन को भा रहा शीतल पेय

गर्मी से राहत पाने के लिए लोगों की भीड़ इन दिनों जगह-जगह लगे जूस, कोल्ड ड्रींक, लस्सी की दुकानों पर उमड़ रही है। गर्मी से बेहाल लोग इन शीतल पेय से गर्मी से बचने का जतन कर रहे हैं। इधर, गर्मी के कारण बाजार में खीरा, ककड़ी व कच्चे आम की भी डिमांड बढ़ गई है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned