मां-बेटे ने मिलकर रची हत्या की वारदात, पुलिस ने 48 घंटे में सुलझाया ब्लाइंड मर्डर, मां-बेटा गिरफ्तार

हत्या की गुत्थी पुलिस ने 48 घंटे में ही सुलझा ली

By: rajendra denok

Published: 18 Sep 2021, 09:41 PM IST


पाली/बाली. थाना क्षेत्र के बीजापुर के पास नागेश्वर महादेव मंदिर के पास पहाडिय़ों में मोरूड गांव के महिपालसिंह की हत्या की गुत्थी पुलिस ने 48 घंटे में ही सुलझा ली। आपसी लेनदेन और चरित्र पर सवाल उठाने से परेशान मां-बेटे ने हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। मृतक और आरोपी एक ही गांव के रहने वाले हैं। पुलिस ने हत्या के आरोप में मां-बेटे को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस अधीक्षक पाली कालूराम रावत ने बताया कि 16 सितंबर को बाली थाना क्षेत्र के बीजापुर चौकी स्थित धार्मिक स्थल पर सुमेरपुर थाना क्षेत्र के मोरडू निवासी टैक्सी चालक महिपाल सिंह पुत्र दलपत सिंह देवड़ा की निर्मम हत्या हो गई थी। अज्ञात आरोपी वारदात के बाद शव मौके पर छोड़कर फरार हो गए थे। वारदात का खुलासा करने और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बाली बृजेश सोनी व पुलिस उप अधीक्षक बाली हिमांशु जांगिड़ के नेतृत्व में अलग-अलग टीमें गठित की गई। थानाप्रभारी देवेन्द्रसिंह की अगुवाई में गठित टीम ने मृतक की पहचान होने के बाद विभिन्न स्थानों की सीसीटीवी फुटेज, मोबाइल की लोकेशन व तकनीक के आधार पर मृतक के गांव मोरडू निवासी चंद्र कुंवर (45) पत्नी मगसिंह व उसके पुत्र देवेंद्र सिंह (19) पुत्र मगसिंह राजपूत को दस्तयाब किया। पूछताछ में अपना वारदात करना स्वीकार किया। आरोपी महिला के अनैतिक कार्यों में भी संलिप्त होने की भी

यों रची वारदारत

पुलिस के अनुसार मृतक महिपाल सिंह आरोपियों से बार-बार पैसे की मांग करता था। वह उसके पुत्र देवेंद्र को मां के चरित्र को लेकर तानें भी मारता था। इससे नाराज होकर आरोपी महिला चंद्र कुंवर वह उसके के पुत्र ने महिपाल की हत्या की साजिश रची। महिपाल को मोटरसाइकल पर बीजापुर तक बुलाया। वहां से मां बेटे दोनों उसकी मोटरसाइकिल पर बैठकर गए नागेश्वर महादेव के पास पहाडिय़ों में पैदल सुनसान स्थान पर गए। यहां महिपाल व महिला एक ही स्थान पर बैठे तभी आरोपी के पुत्र ने देवेंद्र ने हथियार से महिपाल के सिर में ताबड़तोड़ वार किए। उसकी जेब से पर्स, मोबाइल व मोटरसाइकिल की चाबी निकाल ली। पहचान छिपाने के उद्देश्य से उसके सिर व मुंह पर पत्थर मारे।

इसी दौरान तीर्थ स्थल पर कुछ लोगों ने शोर मचाया तो आरोपी चंद्र कुंवर व उसका पुत्र देवेंद्र मोटरसाइकिल लेकर भागने लगे। पहाड़ी के नीचे उतरते समय आरोपी देवेंद्र ने रास्ते में एक व्यक्ति से हेलमेट छीन लिया। यहां से दोनों मृतका की मोटरसाइकिल लेकर भाग गए। सीसीटीवी के फुटेज खंगाले तो देवेंद्र और उसकी मां की साजिश का खुलासा हो गया। मां-बेटे कच्चे मार्ग से जवाई बांध रेलवे स्टेशन पहुंचे। मृतक की मोटरसाइकिल रेलवे स्टेशन के बाहर छोड़कर दोनों अन्य साधन से सुमेरपुर और गांव मोरडू पहुंच गए। पुलिस ने दोनों को उनके गांव से भी धर-दबोचा।

rajendra denok Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned