सैकड़ों सालों से आस्था का केन्द्र हैं धानमंडी स्थित नागणेची माता मंदिर

सैकड़ों सालों से आस्था का केन्द्र हैं धानमंडी स्थित नागणेची माता मंदिर
सैकड़ों सालों से आस्था का केन्द्र हैं धानमंडी स्थित नागणेची माता मंदिर

Rajendra Singh Denok | Publish: Oct, 06 2019 09:24:43 PM (IST) Pali, Pali, Rajasthan, India

नवरात्र विशेष :

पाली. शहर के धानमंडी स्थित नागणेची माता मंदिर सैकड़ों सालों से जन-जन की आस्था का केन्द्रा बना हुआ है। राठौड़ वंश की कुलदेवी नागणेची माता का यह मंदिर करीब आठ सौ साल पुराना बताया जा रहा है। राव सिहाजी राठौड़ के शासन काल में मंदिर की स्थापना बताई जा रही है।

शहर का पौराणिक और प्राचीन मंदिर होने के कारण यहां भक्तों की असीम आस्था जुड़ी हुई है। खासतौर से नवरात्र में नौ दिन तक मां नागणेची के दर्शनों के लिए भक्तों का तांता लगा रहता है। धानमंडी परिसर महाराणा प्रताप की जन्म स्थाली भी माना जाता है। इस लिहाज से धानमंडी परिसर की महत्ता और बढ़ गई। लोग यहां मां नागणेची के दर्शनों के साथ-साथ महाराज प्रताप स्मारक भी निहारने आते हैं। भक्त मूलचंद राठौड़ बताते हैं कि नागणेची मंदिर शहर के प्रचीन मंदिरों में से एक है।

जसोल भटियाणी और पाबूजी के दर्शन करने आते हैं भक्तगण
धानमंडी परसिर में जसोल की मां भटियाणी मंदिर भी आस्था का केन्द्र है। यहां लोकदेव पाबूजी राठौड़ और काला-भैरू के दर्शनों के लिए भी भक्तगण बड़ी संख्या में आते हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned