करोड़ों खर्च, फिर भी इलाज को मोहताज ग्रामीण

-पाली जिले के रूपावास गांव में नवनिर्मित प्राथमिक स्वास्थय केंद्र का मामला
-पाली जाकर करवाना पड़ता है उपचार

By: Suresh Hemnani

Updated: 26 Oct 2020, 08:02 AM IST

पाली/गिरादड़ा। जिले के रूपावास गांव में करोड़ों खर्च कर प्राथमिक स्वास्थय केंद्र बनाया गया। लेकिन, दो साल बाद भी चिकित्सा विभाग इसे शुरू नहीं कर पाया है। ऐसे में ग्रामीणों को इलाज व जांच के लिए शहरों की तरफ भागना पड़ता है।

दरअसल, अप्रेल 2017 में रूपावास में प्राथमिक स्वास्थय केंद्र के लिए 1 करोड़ 85 लाख रुपए की तत्कालीन सरकार ने राशि स्वीकृत कर निर्माण कार्य शुरू करवाया। नवम्बर 2018 में कार्य पूर्ण भी हो गया। लेकिन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र शुरू नहीं करने के कारण ग्रामीणों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है।

कई गांव प्रभावित
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के शुरू होने पर रूपावास सहित आसपास के दयालपुरा, गिरादड़ा, भांवरी, खुंडावास समेत कई गांवों के करीब 30,000 से ज्यादा ग्रामीणों को चिकित्सा सुविधा का लाभ मिल सकेगा। लेकिन, अभी तक विभाग उदासीन ही है।

इलाज की दरकार
यहां पर बड़ा अस्पताल है, लेकिन शुरू नहीं हुआ है। बीमार होने पर जांच व अन्य इलाज के लिए शहर ही जाना पड़ता है। वहां भी दो तीन दिन चक्कर काटने पर ही इलाज मिल पाता है। - कमलादेवी, ग्रामीण

ग्रामीणों को मिलेगा फायदा
- कोई ज्यादा बीमार हो जाए तो उसे पाली या जोधपुर लेकर जाना पड़ता है। उस समय साधन भी समय पर नहीं मिल पाते। इस अस्पताल को शुरू करने पर आस-पास के गांवों के मरीजों को भी फायदा मिल जाएगा। - तुलसाराम, ग्रामीण

प्रसुताओंं को ज्यादा परेशानी
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के शुरू नहीं करने से सबसे ज्यादा परेशानी प्रसुताओं को होती है। परिजनों को डिलेवरी के समय उसे लेकर भाग दौड़ करनी पड़ती है। अस्पताल शुरू होने से उन्हें ज्यादा फायदा मिलेगा। - दियाली पटेल, पूर्व सरपंच दयालपुरा

मंत्री व अधिकारियों से करेंगे बात
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को शुरू करना चाहिए। ये इस महामारी में वरदान साबित हो सकता है। मैं इसे शुरू करवाने के लिए अधिकारियों व मंत्री से बात करूंगा। - सुरेश बंजारा, सरपंच, ग्राम पंचायत रूपावास

Suresh Hemnani Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned