VIDEO : कोविड के अस्पताल में महज सामान्य उपचार, ऑपरेशन लॉकडाउन के बाद!

- जिले के सबसे बड़े बांगड़ मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में घटी ओपीडी
- पहले होते थे 40 से 45 ऑपरेशन हर सप्ताह
- अब महज गायनिक विभाग में हो रहे ऑपरेशन

By: Suresh Hemnani

Updated: 28 May 2020, 07:04 PM IST

-राजीव दवे
पाली। कोविड-19 [ COVID-19 ] के जिले में कहर बरपाने से पहले ही पाली के बांगड़ मेडिकल कॉलेज अस्पताल [ Bangar Medical College Hospital ] में सामान्य बीमारियों का ही उपचार किया जा रहा है। गंभीर मरीजों [ Serious patient ] के उपचार में तो आनाकानी करनी शुरू कर दी थी, इसी का परिणाम रहा कि दो-तीन मरीजों की जान तक चली गई। अब भी हालात यह है कि अस्पताल में ओपीडी के साथ गर्भवती महिलाओं के ही ऑपरेशन हो रहे है। इसके अलावा नेत्र, इएनटी, हर्निया, एपेन्डिक्स आदि के ऑपरेशन के लिए यदि कोई पहुंचता है ता उसे दवा देकर रवाना कर दिया जाता है। यहां तक की हार्ट के मरीजों का भी यही हाल है। इसमें अस्पताल प्रशासन की छोड़े तो सरकारी गाइड लाइन भी जिम्मेदार है। जिसके कारण मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

अप्रेल में आधी रह गई ओपीडी
अस्पताल की ओपीडी की बात करें तो हालात यहां भी बेहतर नहीं है। अस्पताल के अधिकांश चिकित्सकों को किसी ने किसी रूप में कोविड उपचार में लगा दिया गया। इसके बाद लॉकडाउन के साथ बफर व कंटेनमेंट जोन के कारण पुलिसकर्मियों के डर से कई मरीज अस्पताल नहीं पहुंंच सके। परिणाम यह रहा कि ओपीडी 1600-1700 से घटकर 800 के पास पहुंच गई। जो अब लॉकडाउन 4.0 में थोड़ी रियायत मिलने पर फिर से 1000-1100 तक पहुंची है।

गायनिक में हो रहे ऑपरेशन
अभी बांगड़ चिकित्सालय में सुचारू रूप से गायनिक के ऑपरेशन ही हो रहे हैं। इसके अलावा सामान्य शल्य चिकित्सा भी नहीं की जा रही है। इसी की विंग को कम नहीं किया गया है। कुपोषित बच्चों के लिए बनाए वार्ड को भी शिफ्ट कर मर्ज कर दिया गया है। मरीजों की संख्या कम होने के बावजूद कई बार इस वार्ड में तो एक ही बेड पर दो-दो बच्चे तक रखे जा रहे हैं।

कोविड केयर सेन्टर नया बनाया
पहले बांगड़ अस्पताल में कोविड केयर सेन्टर था। सभी मरीज यहां रखने के कारण वार्ड शिफ्ट किए थे। अब अग्रसेन वाटिका में सेन्टर बनाया है। वहां बिना लक्षण वाले पॉजिटिव मरीजों को भेज रहे हैं। अस्पताल के ऊपरी की विंग को नॉन कोविड बनाया है। अब रूटीन ऑपरेशन करने की कवायद कर रहे हैं। -केसी अग्रवाल, प्रिंसिपल, मेडिकल कॉलेज, पाली

अब यह हो रहा अस्पताल में
1. कोविड के कारण अस्पताल में चिकित्सकों ने मरीज से दूरी बनाई। मरीज के कहने के अनुसार ही दवा लिखना।
2. सर्जरी व अन्य ऑपरेशन को टालना
3. नेत्र के काला पानी व मोतियाबिंद आदि के ऑपरेशन रोकना
4. नाक, कान, गले आदि के ऑपरेशन बंद
5. अति आवश्यक होने पर ही सोनेग्राफी या एक्सरे करवाना
6. अस्पताल में कोविड के 200 बैड करने के लिए अन्य विभागों के वार्ड को शिफ्ट करना

COVID-19
Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned