यहां पुलिस ने दिखाई एक दिन की सख्ती, परिवहन व खनिज विभाग अब भी मौन

-बजरी से लदे ओवरलोड वाहनों की अनदेखी का मामला

By: Suresh Hemnani

Updated: 17 Jun 2020, 04:16 PM IST

पाली/रायपुर मारवाड़। Overload gravel transport case in Pali : पाली जिले के जैतारण व रायपुर क्षेत्र से बजरी लदे ओवरलोड वाहनों के हाइवे व फोरलेन पर सरपट दौडऩे के मामले में पुलिस ने महज एक दिन की सख्ती दिखाई। इसके बाद पुलिस ने फिर से अनदेखी शुरू कर दी है। इधर, परिवहन विभाग व खनिज विभाग अब भी सक्रिय नहीं है

राजस्थान पत्रिका ने सिलसिलेवार समाचार प्रकाशित कर बजरी से ओवरलोड लदे वाहनों का ब्यावर-पिंडवाड़ा फोरलेन व जयपुर-जोधपुर हाइवे पर सरपट दौडऩे के हालात उजागर किए थे। पुलिस अधीक्षक राहुल कोटोकी के निर्देशन में जैतारण डीएसपी सुरेश कुमार ने तीन दिन पहले सेंदड़ा में नाकाबंदी करवा ओवरलोड़ लदे दो ट्रोले व नौ डम्पर सीज किए थे। अगले दिन डीएसपी के ही निर्देशन में रायपुर पुलिस ने बर में नाकाबदी कर 5 ट्रोले व 7 डम्पर सीज किए थे।

पुलिस सूचना पर ही पहुंचती टीम
खनिज विभाग के ब्यावर की टीम कार्रवाई के लिए तभी पहुंचती है जब संबधित पुलिस ऐसे वाहनों को जब्त कर सूचना करती है। खनिज विभाग को अपने स्तर पर भी ऐसे वाहनों पर कार्रवाई करने का अधिकार है, लेकिन वे अनदेखी कर ऐसे वाहनों की आवाजाही पर मौन समर्थन दे रहे हैं। इधर, परिवहन विभाग की टीम पांच दिन बाद भी नजर नहीं आई है, जबकि जिला परिवहन अधिकारी ने दावा किया था।

यहां से लाद रहे ओवरलोड बजरी
जैतारण क्षेत्र के आसरलाई, मोहराई, फूलमाल, बांझाकुड़ी सहित अन्य नदियों से ओवरलोड बजरी लादी जा रही है। कुछ गांवो में भी अवैध खनन जोरों पर है। रायपुर सहित आस-पास के गांवो से भी ओवरलोड बजरी से लदे वाहन ब्यावर सहित जयपुर व भीलवाड़ा में सप्लाई करने सरपट निकल रहे है।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned