ये कैसा शहर...यहां हर मोड पर खड़ी है मौत

सीवरेज व पानी की पाइप लाइन डालने से हुए गड्ढों को पाटा तक नहीं

By: Rajeev

Published: 22 Aug 2017, 10:49 AM IST

पाली. शहर में सीवरेज व 24 घंटे जलापूर्ति के लिए रूडीप की ओर से किया जा रहा कार्य शहरवासियों के लिए आफत बन गया है। रूडीप की ओर से दो माह पहले खोदे गए गड्ढों अभी तक पाटा नहीं गया है। स्थिति यह है कि लोगों के घरों के आगे ही बड़े-बड़े गड्ढे हो रखे हैं। इस कारण वे घरों से बाहर तक नहीं निकल पा रहे। रूडीप ने गड्ढों को पाटने के बजाय उनके दोनों तरफ सावधान कार्य प्रगति पर है लिखे बोर्ड लगाकर इतिश्री कर ली है। कई जगह तो एेसे बोर्ड तक नहीं लगाए हैं। इससे हादसे की आशंका रहती है।

pali, pali patrika, pali road
राजीव दवे IMAGE CREDIT: राजीव दवे

घर के आगे की गड्ढा
रेलवे लाइन के दूसरी तरफ स्थित राजीव गांधी कॉलोनी में लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। यहां पुलिस लाइन गेट के पास स्थित गली में रहने वाले लकसिंह राठौड़ व श्रीराम कुमावत ने बताया कि दो माह पहले गली में गड्ढे खोदे थे, जो पाटे गए, लेकिन बरसात आते ही मिट्टी धंस गई और फिर गढ्ढे हो गए। इस पर यहां कार्य प्रगति पर है का बोर्ड लगाकर इतिश्री कर ली गई है। घरों के आगे बड़े गड्ढों के कारण बच्चों व बुजुर्गों के गिरने की आशंका रहती है।

यहां भी हालात ठीक नहीं
रामनगर जाने वाले मार्ग को करीब तीन माह पहले खोदा गया था। इसके बाद यहां महज मिट्टी डालकर गड्ढों को भर दिया गया। अब स्थिति यह है कि मार्ग पर बरसात आते ही कीचड़ हो जाता है। मिट्टी की चिकनाहट के कारण वाहन स्लीप होते हैं। दुपहिया तो दूर चौपहिया वाहन तक चलाना मुश्किल होता है। एेसा ही हाल चादरवाला बालाजी से रामदेव रोड, सुंदरनगर क्षेत्र, सूर्या कॉलोनी क्षेत्र, रजत विहार, रजत नगर, मण्डिया रोड आदि मार्गों का है।

लोगों ने वॉकिंग पर जाना छोड़ दिया
तालाब की पाळ होकर हाउसिंग बोर्ड जाने वाले मार्ग से नहर किनारे तक लोग रोजाना सुबह मॉर्निंग वॉक पर आते थे। इस रोड को रूडीप की ओर से खोद दिया गया। नहर किनारे होकर हाउसिंग बोर्ड जाने वाले मार्ग को खोदने के बाद आज तक ठीक नहीं किया गया है। सड़क पैदल चलने लायक तक नहीं है। एेसे में अब लोगों ने इस मार्ग पर मॉर्निंग वॉक पर जाना तक छोड़ दिया है।

अब तक नहीं भरे गढ्ढे
रूडीप की ओर से दो-ढाई माह पहले सड़क खोदी गई। गड्ढों में मिट्टी ढंग से नहीं भरी। इस कारण बरसात आते ही यहां गड्ढे हो गए। जिनको अब तक नहीं भरा गया है।

अशोक कुमार भट्ट, राजीव गांधी कॉलोनी निवासी
गिरने का डर इसलिए नहीं जाता

मैं रोजाना तालाब की पाळ पर पैदल वॉक पर जाता था। मेरे साथ कुछ मित्र भी चलते थे, लेकिन सड़क खुदाई के बाद चलने लायक नहीं रह गई है। इस कारण अब मुश्किल से चादर तक जाके लौट आता हूं या जाता ही नहीं हूं।
राजेन्द्र, बुजुर्ग

Rajeev Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned