प्रताप को दिया मान, अब प्रताप की जननी जयवंतादेवी को मिले सम्मान

पत्रिका अभियान: मेडिकल कॉलेज का नाम जयवंता देवी के नाम पर...

By: Suresh Hemnani

Published: 06 Mar 2021, 07:58 AM IST

पाली। शौर्य और स्वाभिमान के प्रतीक महाराणा प्रताप का ननिहाल पाली है। प्रताप की जननी जयवंतादेवी पाली के तत्कालीन शासक अखेराज सोनिगरा की पुत्री थी। जयवंतादेवी का विवाह मेवाड़ के महाराणा उदयसिंह से हुआ था। प्रताप जैसे शूरवीर को जन्म देने वाली जयवंतादेवी के नाम पर पाली में कोई स्मृति स्थल नहीं है। जयंवतादेवी को उचित मान-सम्मान देने की आवाज अब मुखर हुई है। यह पहल की है महाराणा प्रताप जन्म स्थली विकास समिति ने। पाली के मेडिकल कॉलेज का नामकरण जयंवतादेवी के नाम पर करने की मांग की है। अब शहरवासी भी यह मांग पुरजोर तरीके से कर रहे हैं।

प्रताप के लिए उमड़ा था पूरा शहर
धानमंडी में महाराणा प्रताप की अश्वारूढ़ प्रतिमा स्थापित है। यह प्रतिमा कुछ सालों पूर्व ही लगाई थी। प्रताप की अश्वारूढ़ प्रतिमा लगाने की मांग के लिए पूरा शहर उमड़ पड़ा था। शहरवासियों की मांग पर प्रताप को पूरा मान मिला। वर्तमान में यह स्थली पर्यटक स्थल के रूप में विकसित हो रही है। अश्वारूढ़ प्रतिमा के लिए राजस्थान पत्रिका ने अभियान चलाया था।

यों मुखर हुई आवाज
प्रताप को जन्म देने वाली जयवंतादेवी के नाम पर पाली में कोई जगह नहीं है। जयवंतादेवी ने ऐसे शूरवीर को जन्म दिया था जिसकी ख्याती पूरी दुनिया में है। प्रताप का जन्म भी पाली में ही हुआ था। यह हमारे लिए सौभाग्य की बात है। ऐसी वीरांगना के नाम पर मेडिकल कॉलेज का नामकरण किया जाना चाहिए। जिससे भावी पीढ़ी को प्रेरणा मिलेगी। -एडवोकेट शैतानसिंह सोनिगरा, अध्यक्ष, महाराणा प्रताप जन्मस्थली विकास समिति, पाली

-जयवंतादेवी पाली के तत्कालीन शासक महाराव अखेराज सोनीगरा की बेटी थी। पाली की आन बान शान के लिए जयवंतादेवी के नाम पर मेडिकल कॉलेज होना चाहिए। जयवंतादेवी को पीहर में यथोचित सम्मान दिया जाना चाहिए। वीर माता के सम्मान से पाली का गौरव बढ़ेगा। -चंपालाल सिसोदिया, सचिव, महाराणा प्रताप जन्मस्थली विकास समिति, पाली

-जयवंतादेवी पाली की बेटी है। उन्होंने प्रताप जैसे शूरवीर को जन्म दिया। ऐसी वीर माता के नाम पर पाली में कोई जगह नहीं है। पाली के गौरवशाली इतिहास को अक्षुण रखने के लिए जयवंतादेवी के नाम पर मेडिकल कॉलेज का नामकरण होना चाहिए। यह युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणादायी होगा और हमें भी गौरव की अनुभूति होगी। -उगमराज सांड, संयोजक, महाराणा प्रताप जन्मस्थली विकास समिति, पाली

-पाली की धरती वीरों और शूरों की रही है। यहां जयवंतादेवी जैसी वीर बेटियों ने जन्म लिया। उनकी कोख से प्रताप जैसे महावीर का जन्म हुआ। यह हमारे लिए गौरव की बात है। प्रताप की जननी जयवंतादेवी को पीहर में यथोचित सम्मान दिया जाना चाहिए। मेडिकल कॉलेज का नामकरण उन पर हो। -अनोपसिंह चौहान, उपाध्यक्ष, महाराणा प्रताप जन्म स्थली विकास समिति, पाली

-जयवंतादेवी के नाम पर मेडिकल कॉलेज का नामकरण होने से पाली का गौरव बढ़ेगा। सरकार को शीघ्र फैसला लेना चाहिए। शहर के प्रत्येक नागरिक की मंशा है कि पाली में प्रताप की जननी को सम्मान मिलना चाहिए। यह कदम उठाकर हम वीर माता के गौरव को भी बढ़ाएंगे। -रितेश छाजेड़, संयुक्त कोषाध्यक्ष, महाराणा प्रताप जन्म स्थली विकास समिति, पाली

-पाली की आन बान और शान की प्रतीक है जयवंतादेवी। मीरां, जीजाबाई जैसी वीर माताओं की तरह पाली में भी जयवंतादेवी को मान मिलना चाहिए। मेडिकल कॉलेज का नाम जयवंतादेवी के नाम पर किया जाए। यह पाली के गौरव और सम्मान के लिए आवश्यक है। -प्रकाश शर्मा, कोषाध्यक्ष, महाराणा प्रताप जन्म स्थली विकास समिति, पाली

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned