टोल का खेल : अब सांसद भी उतरे विरोध में, सड़क परिवहन मंत्री से कहा- एक टोल प्लाजा हटाओ

- पाली-जोधपुर फोरलेन पर महज 23 किमी की दूरी में दो टोल टैक्स वसूलने का मामला

By: Suresh Hemnani

Updated: 07 Apr 2021, 09:39 AM IST

पाली। सांसद एवं पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री पीपी चौधरी भी अब पाली-जोधपुर मार्ग पर टोल वसूली के विरोध में उतरे हैं। उन्होंने केन्द्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी को पत्र लिखकर पाली-जोधपुर मार्ग पर 23 किलोमीटर के दायरे में दो जगह टोल वसूली पर एतराज उठाया है। उन्होंने कहा कि पाली-जोधपुर के बीच एक टोल प्लाजा हटाया जाना चाहिए।

सांसद चौधरी ने लिखा कि पाली-जोधपुर राजमार्ग पर मात्र 23 किलोमीटर की दूरी पर दो टोल प्लाजा बने होने से वाहनों चालकों को भी दोगुना टोल चुकाना पड़ता है। पाली-जोधपुर फोरलेन राजमार्ग प्रदेश में एकमात्र अपवाद है जहां पर मात्र 23 किलोमीटर की दूरी में दो टोल प्लाजा बने हुए है। प्रदेश के कई प्रमुख टोल प्लाजा के बीच की दूरी कम से कम 60 किलोमीटर है।

उन्होंने यह भी बताया कि जोधपुर राजमार्ग पर वर्ष 2014 में टोल शुरू होने पर 20 किलीमीटर परिधि के स्थानीय ग्रामीणों के वाहनों को फ्री पास सूची में नाम दर्ज कर उन्हें टोल से मुक्त रखा गया था। लेकिन रोहट से 7 किलोमीटर दूर स्थित निम्बली व 15 किलोमीटर स्थित गाजनगढ़ टोल नाकों पर स्थानीय टोल कंपनी ने फास्ट टैग की आड़ लेते हुए इस उचित टोल फ्री व्यवस्था को बंद कर दिया है।

पाली-जोधपुर के बीच हो सिर्फ एक टोल प्लाजा
सांसद चौधरी ने यह भी मांग उठाई कि पाली और जोधपुर के बीच सिर्फ एक ही टोल प्लाजा होना चाहिए। इसके अलावा टोल प्लाजा के आसपास 20 किलोमीटर की परिधि में आने वाले सभी गांव के ग्रामीणों को टोल से छूट मिलनी चाहिए। रोहट क्षेत्र के लोगों को पूर्व में जारी छूट भी पुन: बहाल की जाए।

पोस्टकार्ड से केन्द्र सरकार तक पहुंचाएंगे पीड़ा
हाउसिंग बोर्ड के लोगों ने पाली-जोधपुर मार्ग पर टोल वसूली के विरोध में पोस्टकार्ड अभियान चलाने का निर्णय लिया है। वे प्रतिदिन केन्द्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी को पोस्टकार्ड के जरिए अपनी बात पहुंचाएंगे। हाउसिंग बोर्ड निवासी हरीश अरोड़ा ने बताया कि पोस्टकार्ड अभियान के जरिए विरोध दर्ज कराया जाएगा।

टोल वसूली का करेंगे पुरजोर विरोध
पाली-जोधपुर राजमार्ग पर दो जगह टोल वसूली करना पाली शहर के लोगों के साथ अन्याय है। यह विडम्बना है कि नगर परिषद सीमा क्षेत्र में बरसों से टोल प्लाजा संचालित है। पाली-जोधुपर के बीच दो जगह टोल वसूली का पुरजोर विरोध करेंगे। -डॉ. चन्द्रभानु राजपुरोहित, लोक अभियोजक एवं सामाजिक कार्यकर्ता

पाली में ही क्यों बदला नियम
एनएचएआई का नियम है कि दो टोल प्लाजा के बीच 60 किलोमीटर की दूरी होनी चाहिए। जबकि पाली-जोधपुर मार्ग पर नियम बदलकर 23 किलोमीटर के दायरे में दो जगह टोल वसूला जा रहा है। यह पाली के लोगों के साथ अन्याय है। पाली की जनता अब अन्याय सहन नहीं करेगी। -राकेश पंवार, सामाजिक कार्यकर्ता, पाली

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned