scriptPanchu Singh Rawat of Pali carried gunpowder to the battle site | रेतीले धोरों के रास्ते सेना के पास पहुंचाया गोला-बारूद, बदल गई थी युद्ध की तस्वीर | Patrika News

रेतीले धोरों के रास्ते सेना के पास पहुंचाया गोला-बारूद, बदल गई थी युद्ध की तस्वीर

वीर सपूत पांचूसिंह की कहानी : दुश्मन सेना को एक घंटे तक स्मॉक राउंड फायर से रोका, समय पर पहुंचाए गोला बारूद
- पाली जिले के सेंदड़ा के पांचू सिंह रावत ने युद्ध स्थल तक पहुंचाया बारूद

पाली

Published: January 26, 2022 06:35:53 pm

-पूनमसिंह राजपुरोहित/दादासिंह चौहान
पाली/बर मारवाड़/सेन्दड़ा। 1971 के भारत-पाक युद्ध में हमारे रणबांकुरों ने अपने अदम्य साहस का परिचय दिखाया था। इनकी शौर्यगाथाएं आज भी नई पीढ़ी को सुनाई जाती है। हम बात कर रहे हैं सेंदड़ा के वीर सपूत पांचूसिंह चौहान की, जिन्होंने साधेवाला से लोंगेवाला तक भारतीय सेना की चौकियों पर गोला-बारूद पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई थी। इसके लिए दुश्मन सेना को एक घंटे तक स्मॉक फायर से रोके रखा गया, ताकि सैनिकों के पास समय पर गोला-बारूद पहुंचाया जा सके।
रेतीले धोरों के रास्ते सेना के पास पहुंचाया गोला-बारूद, बदल गई थी युद्ध की तस्वीर
रेतीले धोरों के रास्ते सेना के पास पहुंचाया गोला-बारूद, बदल गई थी युद्ध की तस्वीर
रेतीले धोरों से पहुंचाया गोला-बारूद
बकौल पांचूसिंह, ‘1971 के युद्ध में दुश्मन से घिरी चौकी पर तैनात 23 पंजाब की अल्फा कंपनी ने करीब एक घण्टे तक स्मॉक फायर से दुश्मन सेना को रोके रखा। उसे 168 फील्ड रेजिमेंट की बैटरी और 185 लाइट रेजिमेंट की भारी मोर्टार फायरिंग कवर नहीं देती तो तस्वीर बदल सकती थी। हमले के महज चौबीस घंटे बाद तोपों में गोला बारूद खत्म हो गया था। इधर, लोंगेवाला चौराहे पर वाहनों का जाम लगा हुआ था। इस बीच हमने युद्ध स्थल तक गोला बारूद पहुंचाने की ठान ली और ट्रक को खेतों के रास्ते रेतीले धोरों से होते हुए तोपों की पॉजिशन तक गोला बारूद पहुंचा दिया। गोला बारूद वहां पहुंचने के बाद जैसलमेर के लोंगेवाला में तैनात हमारे भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तान की टैंक रेजिमेंट को नेस्तोनाबूद कर दिया। रेतीले धोरों में पांच दिसम्बर का ही दिन था, जब पाकिस्तान को उल्टे पांव लौटना पड़ा था।
स्मॉक फायर से भी घबरा गए थे दुश्मन
भूतपूर्व सैनिक पांचू सिंह के अनुसार युद्ध के दौरान गोला बारुद खत्म हो गया था और सप्लाई पहुंचा रहे वाहन रोड पर भारी जाम के कारण आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। ऐसे में सेना को दुश्मन पर स्मॉक राउंड फायर करने को कहा। आमतौर पर स्मॉक फायर हमलावर टुकडिय़ों को कवर देने के लिए किया जाता है। स्मॉक फायर देखकर पाकिस्तानी फौज घबरा गई और उन्हें लगा कि भारतीय फौज हमला करते हुए आगे बढ़ रही है। रेतीले धोरों से होते हुए जब गोला बारूद पहुंचा दिया, फिर तो दुश्मन सेना पर आर्टिलरी फायरिंग को धार दे दी गई। हमारे भारी आर्टी फायर से धोरों के पीछे दुबका दुश्मन चमक गया। इसके साथ वायुसेना के हवाई हमलों के बाद तो दुश्मन फौज में जैसे भगदड़ मच गई।
पूरे दिन में महज चार लीटर पानी
पांचूसिंह के अनुसार 1971 के युद्ध के दौरान जवानों को महज चार लीटर पानी मिलता था। इसी में नहाना, धोना और खाना पकाना शामिल था। विपरीत व कठिन परिस्थितियों में भी जवान डटे रहे। इसी से देश को विजय मिली।
टीस ये... युद्ध का आज भी नहीं मिला सम्मान
1971 की लड़ाई में सेंदड़ा के भूतपूर्व सैनिक पांचू सिंह ने अदम्य साहस का परिचय दिया था। युद्ध में अहम भूमिका निभाने के बाद भी सरकारों से 1971 युद्ध के लिए सम्मान की मांग कर रहे हैं। सैनिक कल्याण बोर्ड को कई बार पत्र लिख कर अपने हक का युद्ध सम्मान देने की गुहार लगाई। लेकिन आज तक युद्ध सम्मान नही दिया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.