छात्राओं की शिकायत - रेलवे स्टेशन के आस-पास रहते हैं शराबी, थानाधिकारी बोले- बदमाशों के खिलाफ आवाज उठाएं, कार्रवाई करेंगे

- पुलिस-पब्लिक संवाद सेतु कार्यक्रम के तहत मारवाड़ जंक्शन क्षेत्र की छात्राओं व जीआरपी पुलिस के बीच संवाद

By: Suresh Hemnani

Published: 16 Apr 2021, 09:34 AM IST

पाली/मारवाड़ जंक्शन। राजस्थान पत्रिका की ओर से चलाए जा रहे पुलिस-पब्लिक संवाद सेतु कार्यक्रम के तहत गुरुवार को मारवाड़ जंक्शन कस्बे की छात्राओं, बालिकाओं व जीआरपी पुलिस का वर्चुअल संवाद कार्यक्रम हुआ। इसमें बालिकाओं ने खुलकर जीआरपी पुलिस के समक्ष अपने विचार व शिकायतें रखी। जीआरपी पुलिसथानाअधिकारी करणङ्क्षसह राजावत ने बारी बारी से सभी की शिकायतों को सुना और सुझाव देते हुए उनका समाधान किया, साथ ही बालिकाओं को शक्ति का रूप बताया। उन्हें आगे आकर यात्रा के समय आने वाली समस्या व बदमाशों की शिकायत करने में हौंसला दिखाने की बात कही

इन्होंने कहा...
यात्रा के दौरान कोच में पुलिसकर्मी भी नहीं रहता, कहां शिकायत करें। ऐसे में रेलवे पुलिस से कैसे सम्पर्क करें। हर कोच में पुलिसकर्मी होना चाहिए। - आयुषी हल्दानिया, मारवाड़ जंक्शन

ट्रेन में यात्रा के दौरान महिलाएं असुरक्षित महसूस करती है, साथ ही कानून प्रक्रिया में न पडऩे व उलझने से बचने के कारण महिलाओं पर अपराध बढ़ रहे है, जागरूकता के लिए रेलवे पुलिस को अभियान चलाना चाहिए। -निकितासिंह राजपुरोहित

- रेले के कोच की गलियों में युवक खड़े रहते है, बालिकाए व महिलाएं शौचालय की तरफ जाने से कतराती है, उन्हें पाबंद करना चाहिए। - भावना मालवीय

कोरोना के बीच लोग बिना मास्क व बिना सोशल डिस्टेंसिंग के यात्रा करते हैं। गाइड लाइन की पालना करवानी चाहिए। -जीनल मालवीय

पोस्टऑफिस के सामने बने हुए अण्डरब्रिज में शाम के समय समाज कंटक शराब पीते रहते है, शराब की बोतलें भी वहीं फोड़ते है। वहां से गुजरना महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है। रेलवे पुलिस कुछ करें। - मोनिका सिंह राजपुरोहित

रेलवे स्टेशन से अजमेरी फाटक मुख्य रोड तक आने वाले रास्ते पर रात्रि के समय में रोशनी के अभाव मे अंधेरा रहता है, यहां रेलवे पुलिस गश्त होनी चाहिए। - नीलम मालवीय

यात्रा के दौरान महिला आरक्षित कोच में युवक घुस आते और सीटों पर बैठ जाते हैं, उन्हें महिला कोच में प्रवेश ना करने के लिए पाबंद करना चाहिए। - प्रियंका पंवार, आउवा

रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से उतरते समय या चढ़ते समय यात्री रेल के दरवाजों पर बैठे रहते है, महिलाओं को उतरने व चढऩे मे परेशानी होती है। - स्वीटी पंवार

लॉकल ट्रेन में शराबियों का आतंक रहता है। वे उत्पात मचाते हैं, महिलाओं के लिए मुश्किलें हो जाती है। इस पर कार्रवाई होनी चाहिए। - सोनू जैन

रेल में किसी प्रकार की समस्या हो तो महिलाएं टोल फ्री नम्बर 1512 पर सम्पर्क कर सकती है। थानों में महिला डेस्क व सुरक्षा सखी का गठन किया गया है। वहां महिलाओं की समस्याओं का समाधान हो सकता है। किसी भी प्रकार की समस्या पर तुरंत शिकायत करें। रेलवे स्टेशन के आसपास अंधेरे व शराबियों के आतंक को देखते हुए गश्त बढ़ाई जाएगी। महिला कोच में युवक चढ़ जाता है तो गार्ड को इसकी सूचना दे सकते है। ट्रेन की गलियों में युवक रहते है तो शौचालय जाने के लिए टीटीई से कह सकते हैं। -करणसिंह राजावत, थानाअधिकारी, जीआरपी मारवाड़ जंक्शन ।

Suresh Hemnani
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned