सच्चा सिर्फ नाम का सौदा, बाकी सब झूठा निकला...

- जैन स्नेह मिलन के तहत कवि सम्मेलन

By: Rajeev

Published: 11 Sep 2017, 10:11 AM IST

पाली.जैन स्नेह मिलन कार्यक्रम के तहत रविवार रात को कवियों कंी महफिल जमी। देर रात तक श्रोता देश भक्ति और हास्य रस में रंगी कविताओं का श्रवण करते रहे। कवियों की रचनाओं में भी राम-रहीम का मुद्दा ही छाया रहा। प्रेम में हास्य का तड़का और गो हत्या के मुद्दे भी कवियों ने अच्छे से भुनाए।


प्रसिद्ध कवि और राष्ट्र भक्ति की कविताओ के लिए पहचाने जाने वाले अब्दुल गफार ने राम-रहीम मुद्दे से शुरुआत की। उन्होंने कहा कि 'जिसे जमाना चला मनाने वो तो बस राज निकला, सच्चा सिर्फ नाम का सौदा बाकी सब झूठा निकला...। राष्ट्र धर्म की परम्परा को कभी टूटने मत देना, मोदीजी अब इस ढोंगी बाबा को छूटने पर मत देना, वरना ये ताकत के बल पर सब झिंझोड़ कर रख देगा, ये भिंडर वालान बनकर देश तोड़ कर रख देगा।Ó इसी कड़ी में उन्होंने आगे नमोकार मंत्र का महत्व बताते हुए कहा कि 'कई मंत्र सुन खिल जाती ये जनता रानी-राजा है, लेकिन इन सारे मंत्रों का नमोकार महाराजा है। जो २४ सो तीर्थंकर को नित शीश झुकाता है, सिर्फ वही जन इस धरती पर सच्चा जैन कहाता है...।Ó गो हत्या के मुद्दे पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि 'सपना प्रभुवर श्रीकृष्ण का नहीं *****ने देंगे शीश भले क ट जाए लेकिन गाय नहीं कटने देंगे।Ó राजकुमार बादल, दीपिका माही, अर्जुन अल्हड जैसे कवियों ने भी प्रस्तुतियां दी।

इन्होंने भी बांधा समां
कवि मुन्ना बैटरी ने अपनी प्रस्तुति में कहा कि 'ब्लू व्हेल के खेल में जाने कितने बचपन छले गए, डॉक्टर-इंजीनियर बनने के सारे सपने चले गए।Ó इसी प्रकार दिल्ली के कवि विनोद पाल ने 'आपके लिए चंद कतरे लहू के लाया हूं, खुद मुरझा गया हूं पर फूल खुशबू के लाया हंू, आप लोगों को तालिया बजानी ही होंगी मैं घर से पत्नी के पांव छू कर आया हूंÓ की प्रस्तुति दी। प्रसिद्ध कवि बलवंत बल्लू ने 'सुना हैं राम के भक्त रहीम के बंदे, धर्म की आड़ में करते ये धंधेÓ और कवि लोकेश महाकाली ने 'प्यार के इस खेल में ये खेल हो गया वो अगली कक्षा में गई मैं फेल हो गयाÓ, 'घर जाकर पापा से पड़ी वो मार याद है, मुझको अब भी बचपन का प्यार याद है।Ó

Rajeev Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned