असत्य पर सत्य की जीत, बुराइयों का किया दहन

-पाली शहर के रामलीला मैदान में प्रतिकात्मक रूप से किया रावण दहन
-रघुनाथ मंदिर से आई राम की सवारी

By: Suresh Hemnani

Published: 26 Oct 2020, 07:02 PM IST

पाली। कोरोना के कारण नगर परिषद की ओर से इस बार रामलीला मैदान में रावण दहन का कार्यक्रम आयोजित नहीं किया गया। इस पर नगरवासियों ने संत सूरजनदास के सान्निध्य में दशहरा के दूसरे दिन सोमवार को रामलीला मैदान में प्रतीकात्मक रूप से रावण दहन का कार्यक्रम आयोजित किया।

इसमें बुराई के प्रतीक रावण, कुंभकरण, मेघनाद के तीन पुतलों के साथ भ्रष्टाचार, महिला अत्याचार, नशा, गौ हत्या सहित अन्य बुराइयों को त्यागने का संदेश दिया गया। रावण दहन के समय रामलीला मैदान परिसर भगवान राम के जयकारों से गूंज उठा।

रावण दहन के लिए शाम साढ़े चार बजे बाद चंद शहरवासी रामलीला मैदान पहुंचे और रावण, मेघनाद व कुंभकरण के पुतले खड़े किए। इसके चंद मिनटों बाद ही पुलिसकर्मी व अधिकारी मौके पर पहुंचे तो लोगों ने रावण दहन के बारे में प्रशासन को सूचना देने की बात कही। इसके बाद रघुनाथ मंदिर से राम, सीता व हनुमान का रूप धरे तीन बच्चों रामलीला मैदान पहुंचे।

उनको ढोल की थाप और थाली की झनकार के साथ दहन स्थल पर लाया गया। वहां राम ने सबसे पहले मेघनाद, उसके बाद कुंभकरण और अंत में रावण का दहन किया। दहन होते ही डिप्टी व सीओ सिटी मौके पर पहुंचे और लोगों को वहां से रवाना किया।

Suresh Hemnani Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned